विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय

कोविड-19 महामारी के दौरान डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए चिकित्सा उपकरण और अन्य जरूरी चीजें उपलब्ध करा रहे हैं स्टार्टअप

कोविड-19 महामारी की चुनौतियों से मिली सीख को आगामी विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 में शामिल किया जा रहा है: प्रोफेसर आशुतोष शर्मा, सचिव,विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग

Posted On: 10 NOV 2020 2:24PM by PIB Delhi

क्या चिकित्सा उपकरणों को इस तरह से डिज़ाइन किया जा सकता है कि यह डॉक्टरों को सुरक्षित रख सके और कोविड-19 संकट की विशिष्ट आपातकालीन जरूरतों को पूरा कर सके?

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) द्वारा समर्थित कई स्टार्ट-अप, कई उपकरणों के जरिए रास्ता दिखा रहे हैं। इनमें वे स्टेथोस्कोप शामिल हैं जिनका इस्तेमाल डॉक्टर मरीज को छुए बिना कर सकते हैं। ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर शामिल हैं जो अस्पताल में ही ऑक्सीजन पैदा करने में अस्पतालों की मदद कर सकते हैं। साथ ही इनमें पोर्टेबल एवं ऐप-नियंत्रित आईओटी (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) आधारित वेंटिलेटर सिस्टम शामिल हैं।

कई भारतीय चिकित्सा उपकरण निर्माताओं और स्वदेशी ऑटोमेशन कंपनियों ने महामारी को एक चुनौती के रूप में लिया और संपर्क में आए बिना रोगियों के इलाज एवं निगरानी के लिए वेंटिलेटर, पोर्टेबल रेस्पिरेटरी एड्स या उपकरणों के अभिनव डिजाइन पेश किए।

भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने अपने सेंटर फोर ऑगमेंटिंग वॉर विद कोविड-19 हेल्थ क्राइसिस(कवच) पहल के साथ पांच कंपनियों के वेंटीलेटर, रेस्पिरेटरी एड्स और अन्य महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरणों की तलाश की, उनका मूल्यांकन किया और उन्हें मदद उपलब्ध करायी। ये स्टार्टअप अब अपने उत्पादों को काम पर लगा चुके हैं।

वर्ष 2017 में आईआईटी बंबई में सोसाइटी फॉर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप (साइन) में लगाए गए अयू डिवाइस ने एक डिजिटल स्टेथोस्कोप विकसित किया है जो डॉक्टरों को मरीजों से सुरक्षित दूरी बनाए रखते हुए उनके की दिल और फेफड़े की आवाज सुनने में मदद कर सकता है। डिवाइस असामान्य आवाज की पहचान करता है और रोगियों का उपचार करने में मदद करता है। यह ब्लूटूथ रेंज के रूप में ब्लूटूथ रेंज को बढ़ाने और इसे दूर से नियंत्रित करने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जहां मौजूदा डिजिटल स्टेथोस्कोप, स्मार्टफोन ब्लूटूथ का इस्तेमाल करते हैं, उनका डिवाइस डेटा में सीमा और स्थिरता बढ़ाने के लिए एक अतिरिक्त ब्लूटूथ मॉड्यूल के साथ काम करता है। यह स्पष्ट ध्वनि के लिए बाहरी शोर को हटाने की खातिर फिल्टर के साथ फिट भी है, यह भारतीय क्लीनिकल सेटिंग में इस्तेमाल करने योग्य है जहां ओपीडी में पीछे से काफी आवाज आती है। इसकी मदद से डॉक्टर पीपीई के साथ छाती की आवाज सुन सकते हैं जो पारंपरिक स्टेथोस्कोप के साथ संभव नहीं है।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002K9UB.jpg

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0035S4Q.jpg http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004A4G2.jpg

वे बढ़ती मांग को देखते हुए अपनी निर्माण क्षमता बढ़ा रहे हैं और टेलीमेडिसिन सेगमेंट के लिए स्टेथोस्कोप का सफलतापूर्वक व्यवसायीकरण कर चुके हैं।

अम्बाला स्थित वाल्नूट मेडिकल द्वारा विकसित किया गया पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर अस्पतालों की अस्पताल में ही ऑक्सीजन पैदा करने में मदद करता है। यह एक स्मार्टक्लोज्ड लूप सिस्टम है जो ऑक्सीजन के स्तर की निगरानी करता है और रोगी को आवश्यकतानुसार पर्याप्त ऑक्सीजन देता है। यह भारत में बनाया गया पहला ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर है और यह स्वचालित ऑक्सीजन फ्लो तकनीक से लैस है जो रोगी को हाइपरॉक्सिया की तकलीफ से बचाएगा।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image005GHXA.png

सही समय पर डीएसटीसे मिली मदद से स्टार्टअप को पांच लीटर और 10 लीटर के ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मॉडल और ऑक्सीमीटर के साथ-साथ उनके प्रयास को आगे बढ़ाने में प्रेरित किया। ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर्स के निर्माण के लिए विशाल सांचों की आवश्यकता होती है और डीएसटी से मिली सहायता ने उनकी जापान, अमेरिका और चीन के उत्पादों के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करने के लिए गुणवत्ता वाले सांचों में निवेश करने में मदद की। आईआईटी दिल्ली की इनक्यूबेशन टीम ने तकनीक की सफलता तय करने के लिए उनके साथ काम किया।

वॉलनट मेडिकल, नवंबर के अंत तक सरकारी अस्पतालों को 50 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर दान में देगा और फिर उत्पाद को बाजार में लॉन्च करेगा।

पुणे की नोका रोबोटिक्स ने एक वेंटिलेटर विकसित किया है, जो इनवेसिव और नॉनइनवेसिव, दबाव-नियंत्रित मोड और कम वाट क्षमता की जरूरत के साथ सौर ऊर्जा से संचालित होता है। यह मेडिकल एयरलाइन और ऑक्सीजन के साथ-साथ परिवेशी वायु और ऑक्सीजन के साथ काम करता है और इसमें ऐप आधारित नियंत्रण और आईओटी सक्षम प्रणाली लगी है।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image006GWVU.png

हैदराबाद की एरोबायोसिस टेक्नोलॉजीज ने एक स्मार्ट वेंटिलेशन सिस्टम पेश किया है। यह पोर्टेबल, लागत प्रभावी, आईओटी- सक्षम और लिथियम आयन बैटरी द्वारा संचालित होता है। यह बिना रुके पांच घंटे काम करता है और इनवेसिव और नॉनइनवेसिव दोनों है, डिवाइस स्मार्टफोन ऐप से नियंत्रित होता है। सिस्टम सांस लेने के पैटर्न और फेफड़े से जुड़े दूसरे महत्वपूर्ण मापदंडों की रियल-टाइम जानकारी प्रदर्शित करता है। यह एक ऑक्सीजन सिलेंडर से जुड़ सकता है और परिवेशी हवा में अपने दम पर काम कर सकता है।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image007AM58.png

गर्मी से होने वाली बीमारियों को देखते हुए, पुणे स्थित जीवनवेट्रोनिक्स ने डिफिब्रिलेटर नामक एक उपकरण विकसित किया है जो हृदय में एक इलेक्ट्रिक पल्स या झटका देकर सामान्य धड़कन को बहाल करता है। यह अरिद्मिया को रोकने या ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता है, अरिद्मिया दिल की वह धड़कन है जो असमान या बहुत धीमी या बहुत तेज होती है। स्टार्टअप ने दो ऊर्जा स्रोतों से चलने वाले डिफाइब्रिलेटर (ग्रिड और हैंड क्रैंकंड) विकसित किया है, साथ ही एक बैट्री का भी विकास किया है जो अचानक पड़ने वाले दिल के दौरे के लिए लेस डिफाइब्रिलेटर है।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image008ABPL.png

साइन, आईआईटी बॉम्बे कवच कार्यक्रम में कार्यान्वयन भागीदार हैं। भारत के विभिन्न क्षेत्रों के अन्य आठ ऊष्मायन केंद्रों और इंडियन स्टेप्स एंड इनक्यूबेटर्स एसोसिएशन ने आवेदन, समीक्षा और चयन प्रक्रिया की मांग में हिस्सा लिया। सहायक उपग्रह केंद्रों में एफआईआईटी,आईआईटी दिल्ली, एसआईआईसी, आईआईटी कानपुर, एचटीआईसी,आईआईटी मद्रास, वेंचर सेंटर, पुणे, आईकेपी नॉलेज पार्क, हैदराबाद, केआईआईटी-टीबीआई, भुवनेश्वर शामिल हैं।

कवच कार्यक्रम को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी उद्यमिता विकास बोर्ड (एनएसटीईडीबी) से मंजूरी मिली है।

एनएसटीईडीबी की प्रमुख डॉ अनिता गुप्ता ने कहा, "स्टार्टअप की समय पर सफलता सुनिश्चित करने के लिहाज से विशेष लचीलापन और तेजी से मदद प्रदान करना महत्वपूर्ण था।"

डीएसटी के सचिव प्रो. आशुतोष शर्मा ने कहा,“कोविड-19 की वर्तमान और स्पष्ट चुनौतियों से शिक्षाविदों, प्रयोगशालाओं, स्टार्टअप, उद्योग और सरकार के बीच प्रयासों का एक अभूतपूर्व तालमेल आया जो एक समान उद्देश्य के लिए तेजी से असाधारण विकास करने की मंजूरी देता है। इन चुनौतियों से सीखी गयी चीजों को आगामी विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 में शामिल किया जा रहा है।"

***

एमजी/एएम/पीके/एसएस



(Release ID: 1671737) Visitor Counter : 38