रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय

श्री गौड़ा ने आरएफसीएल की रामागुंडम परियोजना की प्रगति की समीक्षा की

12.7 लाख एमटी प्रति वर्ष उत्पादन वाली यूरिया परियोजना अक्टूबर तक चालू होने की उम्मीद: गौड़ा

Posted On: 01 JUL 2020 6:34PM by PIB Delhi

      केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री श्री सदानंद गौड़ा ने परियोजना के निर्माण कार्यों की प्रगति की समीक्षा करने के लिए सीईओ रामागुंडम उर्वरक और रसायन सीमित (आरएफसीएल) के साथ आज नई दिल्ली में एक बैठक की।

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/IMG-20200701-WA0108CVF7.jpg

      इस अवसर पर मंत्री ने कहा कि परियोजना पूरी होने के करीब है और उन्हें उम्मीद है कि यह इस साल अक्टूबर तक व्यावसायिक उत्पादन के लिए तैयार हो जाएगी। उन्होंने कोरोना महामारी के चलते खड़ी हुईं चुनौतियों को दूर करने के लिए आरएफसीएल उपायों की सराहना की। परियोजना के एक बार पूरा होने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की आत्मनिर्भर भारत बनाने की दृष्टि का एहसास होगा। परियोजना शुरू होने के बाद गोरखपुर, बरौनी, सिंदरी और तलचर में अन्य पुनरुद्धार परियोजनाओं के साथ-साथ रामागुंडम परियोजना से यूरिया आयात की आवश्यकता को प्रति वर्ष 63.5 एलएमटी से कम हो जाएगी।

      आरएफसीएल रामागुंडम, तेलंगाना में 12.7 लाख एमटी प्रति वर्ष की क्षमता वाली गैस आधारित यूरिया इकाई है। यह नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (एनएफएल), इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (ईआईएल) और फर्टिलाइजर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (एफसीआईएल) द्वारा प्रवर्तित एक संयुक्त उद्यम कंपनी (जेवीसी) है। परियोजना की आधारशिला प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा 7 अगस्त, 2016 को रखी गई थी। इसके एक बार पूरा होने के बाद आरएफसीएल परियोजना आयातित यूरिया पर भारत की निर्भरता को कम करेगी, विदेशी मुद्रा को बचाएगी और इससे नौकरियां भी सृजित होंगी।

      बैठक के दौरानआरएफसीएल के सीईओश्री नीरलीप सिंह राय ने परियोजना के विभिन्न कार्यों की भौतिक प्रगति के बारे में जानकारी दी और कहा कि यह परियोजना लगभग 99% पूरी हो गई है। कुछ समय के लिए लॉकडाउन अवधि के दौरान साइट पर काम ठप्‍प हो गया, लेकिन 03 मई, 2020 से फिर से शुरू हो गया है। साइट पर मानव संसाधन की उपलब्धता एक समस्या थी, लेकिन प्रबंधन ने अनुबंध पर मुफ्त भोजन और आवास प्रदान करके श्रमिकों को बनाए रखने के लिए सक्रिय उपाय अपनाए हैं। लॉकडाउन अवधि के दौरान श्रमिकों को मजदूरी का भुगतान किया गया है।

      भारत सरकार ने यूरिया क्षेत्र में नए निवेश की सुविधा और यूरिया क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए नई निवेश नीति (एनआईपी), 2012 की घोषणा की थी। एनआईपी, 2012 के तहत, भारत सरकार 5 बंद उर्वरक संयंत्रों को पुनर्जीवित कर रही है। पुनरुद्धार के अंतर्गत पाँच सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयाँ हैं: 

रामागुंडम फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स लिमिटेड (आरएफसीएल)

तालचर फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (टीएफएल)

हिंदुस्तान उर्वारक और रसायन लिमिटेड (गोरखपुर, बरौनी और सिंदरी)

***

एसजी/एम/वीएस/एसएस

 



(Release ID: 1635841) Visitor Counter : 129


Read this release in: English , Urdu , Manipuri , Tamil , Kannada