विद्युत मंत्रालय

माली गणराज्‍य से एनटीपीसी को 500 मेगावॉट सौर पार्क के विकास के लिए मिला परियोजना प्रबंधन परामर्श अनुबंध

Posted On: 24 JUN 2020 7:04PM by PIB Delhi

माली गणराज्‍य ने विद्युत मंत्रालय के अंतरर्गत केंद्रीय पीएसयू एनटीपीसी को 500 मेगावॉट क्षमता के सौर पार्क के विकास के लिए परियोजना प्रबंधन परामर्श अनुबंध दिया है।

बिजली, एनआरई, कौशल विकास राज्‍य मंत्री और अंतरराष्‍ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए)के अध्‍यक्ष श्री आरके सिंह की अध्‍यक्षता में 24 जून, 2020 को आयोजित एक कार्यक्रम मेंमाली के राजदूत श्री सेकोउ कासे ने माली गणराज्य में 500 मेगावॉट क्षमता के सौर पार्क के विकास के लिए एनटीपीसी के सीएमडी श्री गुरदीप सिंह को परियोजना प्रबंधन परामर्श अनुबंध पत्र सौंपा।

आईएसए भारत में स्थित एक अंतरराष्ट्रीय, अंतर-सरकारी संगठन हैजिसकी स्‍थापना प्रधानमंत्रीश्री नरेन्‍द्र मोदी के दृष्टिकोण और नेतृत्व में की गई है। इसकी घोषणा 2015 में पेरिस में आयोजित सीओपी 21 के दौरान श्री नरेंद्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति ने संयुक्त रूप से की थी। आईएसए का दृष्टिकोण बड़े पैमाने पर सौर ऊर्जा क्रांति लाना है। इसका उद्देश्‍य एक सुविधाजनक अंतर्राष्ट्रीय वातावरण तैयार करना है जो विज्ञान एवं आर्थिक संसाधनों तक पहुंच सुनिश्चित करता हो, प्रौद्योगिकी एवं पूंजी की लागत को कम करता हो, मूल्य में कमी लाने की सुविधा प्रदान करता हो और भंडारण प्रौद्योगिकी एवं नवाचार के विकास को बढ़ावा देता हो।विभिन्‍न देशों के ऊर्जा क्षेत्र में होने रहे बदलाव के अवसरों की अपनी व्‍यापक समझ के साथआईएसए ऊर्जा किल्‍लत से ऊर्जा सशक्तिकरण की ओर बदलाव लाने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा उत्प्रेरक है।

यह कार्यक्रम आईएसए द्वारा नई दिल्‍ली के अक्षय ऊर्जा मंत्रालयमें आयोजित किया गया। इस दौरान उपस्थित गणमान्य व्यक्तियोंमें आईएसए के महानिदेशक श्री उपेंद्र तृप्ति, सचिव (विद्युत) श्री संजीव नंदन सहाय, सचिव (एमएनआरई) श्री इंदु शेखर चतुर्वेदी, सचिव (आर्थिक संबंध) श्री राहुल छाबड़ा एवं अन्य लोग शामिल थे।

माली गणराज्य अपने देश में ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्चित करने, विशेष रूप से अपने नागरिकों की बिजली तक पहुंच बढ़ाने के लिए सौर ऊर्जा एवं अनुप्रयोगों पर ध्यान केंद्रित करते हुए विभिन्न पहल कर रहा है। माली में सौर परियोजनाओं का विकास वहां के सामाजिक-आर्थिक विकास में काफी प्रभाव डालेगा।

एनटीपीसीभारत सरकार का उपक्रम है और यह 62,110 मेगावॉट की स्थापित क्षमता के साथ एक अग्रणी वैश्विक बिजली कंपनी है।इसे सौर परियोजनाएं स्‍थापित करने का व्‍यापक अनुभव प्राप्‍त है और इसने भारत में राष्ट्रीय सौर मिशन जैसे विभिन्न सौर कार्यक्रमों संभाला है। वर्ष 2019 में आईएसए ने एक प्रतिस्‍पर्धी प्रक्रिया के तहत एनटीपीसी को परियोजना प्रबंधन परामर्शदाता नियुक्‍त किया था ताकि सदस्‍य देशों को एनटीपीसी की सेवाएं उपलब्‍ध हो सकें। इससे पहले टोगो गणराज्य ने अपने देश में 285 मेगावॉट क्षमता के सौर पार्क के विकास में पीएमसी सहायता के लिए एनटीपीसी को इसी तरह शामिल किया था।

एनटीपीसी ने अगले दो वर्षों में आईएसए सदस्य देशों में 10,000 मेगावॉट के सौर पार्कों के विकास की योजना बनाई है। सौर पार्क को भारत की एक सर्वोत्तम प्रथा के रूप में प्रदर्शित किया जा रहा है। भारत ने एक नई अवधारणा के तौर पर सौर पार्कों का विकास शुरू किया था और इसके तहत कई परियोजनाओं को चालू किया है। इस प्रकार सौर ऊर्जा की लागत में काफी कमी आई हैऔर इस क्षेत्र में निवेश एवं रोजगार के अवसर बढ़े हैं। साथ ही इससे पर्यावरण को काफी लाभ हुआ है।

 

***

 

एसजी/एएम/एसकेसी



(Release ID: 1634191) Visitor Counter : 75


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Manipuri