वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय

एपीडा ने बासमती एक्सपोर्ट डेवलपमेंट फाउंडेशन के जरिए बासमती चावल उत्पादकों के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया

Posted On: 19 JUL 2021 5:39PM by PIB Delhi

कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) की शाखा बासमती निर्यात विकास फाउंडेशन (बीईडीएफ) ने निर्यात को बढ़ावा देने के उद्देश्य से बासमती चावल की खेती में संलग्न किसानों को जागरूक बनाने के लिए एक अभिनव कदम उठाया है।

इस पहल के एक हिस्से के रूप में, बीईडीएफ ने उत्तर प्रदेश के चावल निर्यातक संघ के सहयोग से उच्च गुणवत्ता वाला बासमती चावल उगाने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले के अंतर्गत जहांगीरपुर में एक जागरूकता अभियान शुरू किया है।

भारत की आजादी के 75 साल या 'आजादी का अमृत महोत्सव' के राष्ट्रव्यापी उत्सव के एक हिस्से के रूप में, बीईडीएफ ने बासमती धान की खेती में रसायनों के विवेकपूर्ण इस्तेमाल के बारे में किसानों को जागरूक करने का एक अभियान चलाया। यह अभियान 16 जुलाई को शुरू किया गया था।

इस जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से किसानों को इस बात की जानकारी दी गई कि बासमती चावल की खेती एक भारतीय परंपरा है और इस परंपरा को बनाए रखना एक सामूहिक जिम्मेदारी है क्योंकि वैश्विक बाजार में बासमती चावल की भारी मांग है। किसानों से राज्य के कृषि विभाग के माध्यम से basmati.net पर अपना पंजीकरण कराने का अनुरोध किया गया है।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 125 से अधिक किसानों ने इस जागरूकता अभियान में भाग लिया। इस अभियान के दौरान किसानों को उच्च गुणवत्ता वाली बासमती का उत्पादन करने के लिए सही मात्रा में रसायनों और उर्वरकों का उपयोग करने की सलाह दी गई ताकि उन्हें दुनिया में बासमती चावल की मांग बढ़ाने में मदद मिल सके और उनकी आय में बढ़ोतरी हो सके।

एपीडा बीईडीएफ के जरिए बासमती चावल की खेती को बढ़ावा देने में राज्य सरकारों की सहायता करता रहा है।

एपीडा ने उत्पादों की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए किसानों को प्रमाणित बीजों के साथ-साथ रासायनिक उर्वरक के वैज्ञानिक उपयोग का भी सुझाव दिया है ताकि बासमती चावल का गुणवत्तापूर्ण उत्पादन सुनिश्चित किया जा सके जिससे देश से बासमती चावल के निर्यात को और बढ़ावा मिले।

basmati.net को एपीडा द्वारा विकसित किया गया है और इसका उद्देश्य आपूर्ति श्रृंखला के सभी हितधारकों को बासमती मूल्य श्रृंखला के हिस्से के रूप में उनके द्वारा की गई गतिविधियों का विवरण दर्ज करने के लिए एक साझा मंच प्रदान करना है।

भारत ने 2020-21 में 29,849 करोड़ रुपये (4019 मिलियन अमेरिकी डॉलर) मूल्य का 4.63 मिलियन टन बासमती चावल का निर्यात किया।

एपीडा मूल्य श्रृंखला में मौजूद विभिन्न हितधारकों के सहयोग से चावल के निर्यात को बढ़ावा देता रहा है। सरकार ने एपीडा के तत्वावधान में चावल निर्यात संवर्धन फोरम (आरईपीएफ) की स्थापना की थी। आरईपीएफ में चावल उद्योग, निर्यातकों, एपीडा के अधिकारियों, वाणिज्य मंत्रालय और पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़ और ओडिशा सहित प्रमुख चावल उत्पादक राज्यों के कृषि निदेशकों का प्रतिनिधित्व है। 

******

एमजी / एएम / आर / डीए



(Release ID: 1736933) Visitor Counter : 211


Read this release in: English , Urdu , Punjabi