वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय

लगातार वैश्विक चुनौतियों के बावजूद, कुल निर्यात (माल+सेवाएं) के पिछले साल के उच्चतम रिकॉर्ड को पार करने का अनुमान है। वित्तीय वर्ष 2022-23 के 776.40 बिलियन अमेरिकी डॉलर की तुलना में, वित्तीय वर्ष 2023-24 में इसके 776.68 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है


वित्तीय वर्ष 2023-24, मार्च 2024 के दौरान 41.68 बिलियन अमेरिकी डॉलर के चालू वित्तीय वर्ष के उच्चतम मासिक माल निर्यात के साथ समाप्त हुआ

गैर-पेट्रोलियम और गैर-रत्न एवं आभूषण निर्यात वित्तीय वर्ष 2022-23 में 315.64 बिलियन अमेरिकी डॉलर से 1.45 प्रतिशत बढ़कर वित्तीय वर्ष 2023-24 में 320.21 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया

वित्तीय वर्ष 2023-24 में माल निर्यात वृद्धि के मुख्य कारकों में इलेक्ट्रॉनिक सामान, ड्रग्स और फार्मास्यूटिकल्स, इंजीनियरिंग सामान, लौह अयस्क, कॉर्टन यार्न/फैब्स/मेड-अप, हथकरघा उत्पाद, सिरेमिक उत्पाद और कांच के बर्तन आदि शामिल हैं

वित्तीय वर्ष 2022-23 में इलेक्ट्रॉनिक सामान का निर्यात 23.55 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जो 23.64 प्रतिशत बढ़कर वित्तीय वर्ष 2023-24 में 29.12 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया

दवाओं और फार्मास्यूटिकल्स का निर्यात वित्तीय वर्ष 2022-23 में 25.39 बिलियन अमेरिकी डॉलर से 9.67 प्रतिशत बढ़कर वित्तीय वर्ष 2023-24 में 27.85 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया

इंजीनियरिंग सामान का निर्यात वित्तीय वर्ष 2022-23 में 107.04 बिलियन अमेरिकी डॉलर से 2.13 प्रतिशत बढ़कर वित्तीय वर्ष 2023-24 में 109.32 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया

कृषि वस्तुओं का निर्यात यानी तम्बाकू (19.46 प्रतिशत), फल और सब्जियां (13.86 प्रतिशत), मांस, डेयरी और पोल्ट्री उत्पाद (12.34 प्रतिशत), मसाले (12.30 प्रतिशत), अनाज से तैयार उत्पाद और विविध प्रसंस्कृत वस्तुएं (8.96 प्रतिशत), तिलहन (7.43 प्रतिशत) और ऑयल मील्स (7.01 प्रतिशत) ने वित्तीय वर्ष 2023-24 में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की

कुल व्यापार घाटा वित्तीय वर्ष 2022-23 में 121.62 बिलियन अमेरिकी डॉलर से 35.77 प्रतिशत घटकर वित्तीय वर्ष 2023-24 में 78.12 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है; चालू वित्तीय वर्ष में माल व्यापार घाटा 9.33 प्रतिशत घटकर 240.17 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 में यह 264.90 बिलियन अमेरिकी डॉलर था

Posted On: 15 APR 2024 3:08PM by PIB Delhi

मार्च 2024* में भारत का कुल निर्यात (माल एवं सेवाएं) 70.21 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है, जो मार्च 2023 की तुलना में (-) 3.01 प्रतिशत की ऋणात्मक वृद्धि दर्शाता है। मार्च 2024* में कुल आयात 73.12 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है, जो मार्च 2023 की तुलना में (-) 6.11 प्रतिशत की ऋणात्मक वृद्धि दर्शाता है।

तालिका 1: मार्च 2024 के दौरान व्यापार*

 

 

मार्च 2024

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

मार्च 2023

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

माल

निर्यात

41.68

41.96

आयात

57.28

60.92

सेवाएं*

निर्यात

28.54

30.44

आयात

15.84

16.96

कुल व्यापार

(माल+सेवाएं) *

निर्यात

70.21

72.40

आयात

73.12

77.88

व्यापार संतुलन

-2.91

-5.48

* नोट: रिजर्व बैंक द्वारा जारी सेवा क्षेत्र का नवीनतम डेटा फरवरी 2024 के लिए है। मार्च 2024 का डेटा एक अनुमान है, जिसे रिजर्व बैंक की बाद की विज्ञप्ति के आधार पर संशोधित किया जाएगा। (ii) वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) और अप्रैल-दिसंबर 2023 के डेटा को तिमाही भुगतान संतुलन डेटा का उपयोग करके आनुपातिक आधार पर संशोधित किया गया है।

चित्र 1: मार्च 2024 के दौरान कुल व्यापार*

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च)* में भारत का कुल निर्यात (माल और सेवाएं) 776.68 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है, जो वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) की तुलना में 0.04 प्रतिशत की सकारात्मक वृद्धि दर्शाता है। वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च)* में कुल आयात 854.80 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है, जो वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) की तुलना में (-) 4.81 प्रतिशत की ऋणात्मक वृद्धि दर्शाता है।

तालिका 2: वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान व्यापार*

 

 

2023-24

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

2022-23

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

माल

निर्यात

437.06

451.07

आयात

677.24

715.97

सेवाएं*

निर्यात

339.62

325.33

आयात

177.56

182.05

कुल व्यापार

(माल+सेवाएं)*

निर्यात

776.68

776.40

आयात

854.80

898.01

व्यापार संतुलन

-78.12

-121.62

 

चित्र 2: वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान कुल व्यापार*

माल व्यापार

  • मार्च 2024 में वस्तुओं का निर्यात 41.68 बिलियन अमेरिकी डॉलर था,   जबकि मार्च 2023 में यह 41.96 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • मार्च 2024 में वस्तुओं का आयात 57.28 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जबकि मार्च 2023 में यह 60.92 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

चित्र 3: मार्च 2024 के दौरान माल व्यापार

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) की अवधि के लिए माल निर्यात      437.06 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) के दौरान यह 451.07 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) की अवधि के लिए माल आयात      677.24 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) के दौरान यह 715.97 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के लिए माल व्यापार घाटा 240.17   बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान लगाया गया था, जबकि वित्तीय वर्ष      2022-23 (अप्रैल-मार्च) के दौरान यह 264.90 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

चित्र 4: वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान माल व्यापार

  • मार्च 2024 में गैर-पेट्रोलियम और गैर-रत्न एवं आभूषण निर्यात 33.67 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जबकि मार्च 2023 में यह 30.87 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • मार्च 2024 में गैर-पेट्रोलियम, गैर-रत्न और आभूषण (सोना, चांदी और कीमती धातु) का आयात 35.21 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जबकि मार्च 2023 में यह 36.51 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

तालिका 3: मार्च 2024 के दौरान पेट्रोलियम और रत्न एवं आभूषण को छोड़कर व्यापार

 

मार्च 2024

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

मार्च 2023

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

गैर-पेट्रोलियम निर्यात

36.29

33.61

गैर-पेट्रोलियम आयात

40.05

42.90

गैर-पेट्रोलियम और गैर रत्न एवं आभूषण निर्यात

33.67

30.87

गैर-पेट्रोलियम और गैर रत्न एवं आभूषण आयात

35.21

36.51

नोट: रत्न और आभूषण आयात में सोना, चांदी और मोती, कीमती और अर्ध-कीमती पत्थर शामिल हैं

चित्र 5: मार्च 2024 के दौरान पेट्रोलियम और रत्न एवं आभूषण को छोड़कर व्यापार

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान गैर-पेट्रोलियम व गैर-रत्न और आभूषण निर्यात 320.21 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) में यह 315.64 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) में गैर-पेट्रोलियम, गैर-रत्न और आभूषण (सोना, चांदी और कीमती धातु) का आयात 422.80 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) में यह 435.54 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

तालिका 4: वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान पेट्रोलियम और रत्न एवं आभूषण को छोड़कर व्यापार

 

2023-24

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

2022-23

(बिलियन अमेरिकी डॉलर)

गैर-पेट्रोलियम निर्यात

352.92

353.60

गैर-पेट्रोलियम आयात

497.62

506.55

गैर-पेट्रोलियम और गैर रत्न एवं आभूषण निर्यात

320.21

315.64

गैर-पेट्रोलियम और गैर रत्न एवं आभूषण आयात

422.80

435.54

नोट: रत्न एवं आभूषण आयात में सोना, चांदी और मोती, कीमती और अर्ध-कीमती पत्थर शामिल हैं

चित्र 6: वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान पेट्रोलियम और रत्न एवं आभूषण को छोड़कर व्यापार

सेवा व्यापार

  • मार्च 2024* के लिए सेवाओं के निर्यात का अनुमानित मूल्य 28.54 बिलियन अमेरिकी डॉलर है, जबकि मार्च 2023 में यह 30.44 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • मार्च 2024* के लिए सेवाओं के आयात का अनुमानित मूल्य 15.84 बिलियन अमेरिकी डॉलर है, जबकि मार्च 2023 में यह 16.96 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

चित्र 7: मार्च 2024 के दौरान सेवा व्यापार*

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च)* के लिए सेवाओं के निर्यात का अनुमानित मूल्य 339.62 बिलियन अमेरिकी डॉलर है, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) में यह 325.33 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च)* के लिए सेवाओं के आयात का अनुमानित मूल्य 177.56 बिलियन अमेरिकी डॉलर है, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) में यह 182.05 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

  • वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च)* के लिए सेवा व्यापार अधिशेष 162.05 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) में यह 143.28 बिलियन अमेरिकी डॉलर था।

चित्र 8: वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान सेवा व्यापार*

• मार्च 2024 के महीने के लिए, माल निर्यात के तहत, 30 प्रमुख क्षेत्रों में से 17 ने पिछले वर्ष की समान अवधि (मार्च 2023) की तुलना में मार्च 2024 में सकारात्मक वृद्धि प्रदर्शित की। इनमें हस्तशिल्प को छोड़कर हाथ से बना कालीन (128.39 प्रतिशत), मसाले (51.01 प्रतिशत), कॉफी (40.3 प्रतिशत), कार्बनिक और अकार्बनिक रसायन (39.67 प्रतिशत), तंबाकू (35.81 प्रतिशत), चाय (27.05 प्रतिशत), इलेक्ट्रॉनिक सामान (23.12 प्रतिशत), कालीन (16.23 प्रतिशत), ड्रग्स और फार्मास्यूटिकल्स (12.73 प्रतिशत), प्लास्टिक और लिनोलियम (11.16 प्रतिशत), इंजीनियरिंग सामान (10.66 प्रतिशत), मांस, डेयरी और पोल्ट्री उत्पाद (8.72 प्रतिशत), अनाज से तैयार उत्पाद और विविध प्रसंस्कृत वस्तुएं (8.23 प्रतिशत), कॉटर्न यार्न/फैब्स/मेड-अप्स, हथकरघा उत्पाद आदि (6.78 प्रतिशत), फल और सब्जियां (2.92 प्रतिशत), सभी तरह के रेडिमेड वस्त्र (1.7 प्रतिशत) तथा सिरेमिक उत्पाद और कांच के बने पदार्थ (0.22 प्रतिशत) शामिल हैं।

• माल आयात के तहत, मार्च 2024 में 30 प्रमुख क्षेत्रों में से 18 में ऋणात्मक वृद्धि देखी गई। इनमें सोना (-53.56 प्रतिशत), अखबारी कागज (-36.42 प्रतिशत), उर्वरक-कच्चा और विनिर्मित (-36.23 प्रतिशत), चमड़ा और चमड़ा उत्पाद (-25.67 प्रतिशत), वनस्पति तेल (-24.29 प्रतिशत), लौह अयस्क और अन्य खनिज (-22.15 प्रतिशत), रासायनिक सामग्री और उत्पाद (-20.26 प्रतिशत), आर्टिफिशियल रेजिन, प्लास्टिक सामग्री आदि (-19.87 प्रतिशत), कार्बनिक और अकार्बनिक रसायन (-19.29 प्रतिशत), मोती, कीमती और अर्ध-कीमती पत्थर (-17.69 प्रतिशत), टेक्सटाइल यार्न फैब्रिक, मेड-अप सामग्री (-12.17 प्रतिशत), कच्चा कपास और अपशिष्ट (-11.29 प्रतिशत), परिवहन उपकरण (-10.7 प्रतिशत), लोहा और इस्पात (-10.1 प्रतिशत), लकड़ी और लकड़ी के उत्पाद (-9.84 प्रतिशत), कोयला, कोक और ब्रिकेट आदि (-6.6 प्रतिशत), क्रूड पेट्रोलियम और उत्पाद (-4.4 प्रतिशत) तथा औषधीय एवं फार्मास्यूटिकल उत्पाद (-2.85 प्रतिशत) शामिल हैं।

• वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के लिए, माल निर्यात के तहत, 30 प्रमुख क्षेत्रों में से 17 ने वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) की तुलना में वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान सकारात्मक वृद्धि प्रदर्शित की। इनमें लौह अयस्क (117.74 प्रतिशत), इलेक्ट्रॉनिक सामान (23.64 प्रतिशत), तंबाकू (19.46 प्रतिशत), सिरेमिक उत्पाद और कांच के बर्तन (14.44 प्रतिशत), फल और सब्जियां (13.86 प्रतिशत), मांस, डेयरी और पोल्ट्री उत्पाद (12.34 प्रतिशत), मसाले (12.3 प्रतिशत), कॉफ़ी (12.22 प्रतिशत), औषधियां और फार्मास्यूटिकल्स (9.67 प्रतिशत), अनाज से तैयार उत्पाद और विविध प्रसंस्कृत वस्तुएं (8.96 प्रतिशत), तिलहन (7.43 प्रतिशत), ऑयल मील्ज़ (7.01 प्रतिशत), हस्तशिल्प को छोड़कर हाथ से बना कालीन (6.74 प्रतिशत), कॉर्टन यार्न /फैब्स/मेड-अप्स, हथकरघा उत्पाद आदि (6.71 प्रतिशत), कालीन (2.13 प्रतिशत), इंजीनियरिंग सामान (2.13 प्रतिशत) और चाय (1.05 प्रतिशत) शामिल हैं।

• माल आयात के तहत, 30 प्रमुख क्षेत्रों में से 16 ने वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) की तुलना में वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) में ऋणात्मक वृद्धि प्रदर्शित की। इनमें कच्चा कपास और अपशिष्ट (-58.39 प्रतिशत), उर्वरक, कच्चा और निर्मित (-39.23 प्रतिशत), सल्फर और अनरोस्टेड आयरन पाइराइट (-37.51 प्रतिशत), वानस्पतिक तेल (-28.63 प्रतिशत), मोती, कीमती और अर्ध-कीमती पत्थर (-22.37 प्रतिशत), कोयला, कोक और ब्रिकेट्स आदि (-21.81 प्रतिशत), कार्बनिक और अकार्बनिक रसायन (-20.13 प्रतिशत), अखबारी कागज (-18.39 प्रतिशत), प्रोजेक्ट गुड्स (-17.56 प्रतिशत), क्रूड पेट्रोलियम और उत्पाद (-14.23 प्रतिशत), परिवहन उपकरण (-14.02 प्रतिशत), टेक्सटाइल यार्न फैब्रिक, निर्मित वस्तुएं (-12.98 प्रतिशत), लुगदी और अपशिष्ट कागज (-12.33 प्रतिशत), लकड़ी और लकड़ी के उत्पाद (-11.31 प्रतिशत), चमड़ा और चमड़ा उत्पाद (-11.26 प्रतिशत) और आर्टिफिशियल रेजिन, प्लास्टिक सामग्री आदि (-5.51 प्रतिशत) शामिल हैं।

• वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) की तुलना में, वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान सेवाओं का निर्यात 4.39 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है।

• वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) में, भारत के व्यापार घाटे में काफी सुधार देखा गया है। वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च)* के लिए कुल व्यापार घाटा 78.12 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है, जबकि वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) के दौरान 121.62 बिलियन अमेरिकी डॉलर का घाटा हुआ था, जिसमें (-) 35.77 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। वित्तीय वर्ष 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के दौरान माल व्यापार घाटा, वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-मार्च) के दौरान 264.90 बिलियन अमेरिकी डॉलर की तुलना में, 240.17 बिलियन अमेरिकी डॉलर है, जिसमें (-) 9.33 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है।

*त्वरित अनुमान के लिए लिंक

****

 

एमजी/एआर/आरपी/आईएम/एसके/एसके



(Release ID: 2017993) Visitor Counter : 264


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Tamil