कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्रालय

वैश्विक विशेषज्ञों ने महिला सशक्तिकरण और कृषि-खाद्य प्रणालियों में नेतृत्व हासिल करने के लिए जी20 देशों के लिए नए दिशा-निर्देश तय किए

Posted On: 13 OCT 2023 4:06PM by PIB Delhi

कृषि उत्पादकता, खाद्य सुरक्षा और पोषण तथा जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के प्रति तैयारी बढ़ाने के लिए कृषि-खाद्य प्रणालियों में महिला सशक्तिकरण और नेतृत्व को मजबूत करना महत्वपूर्ण है। वैश्विक विशेषज्ञ और शोधकर्ता इन निष्कर्षों पर इंटरनेशनल जेंडर कॉन्फ्रेंस के समापन पर पहुंचे। 9-12 अक्टूबर 2023 को नई दिल्ली में आयोजित इस कॉन्फ्रेंस का विषय 'अनुसंधान से प्रभाव तक: न्यायसंगत और लचीली कृषि-खाद्य प्रणालियों की ओर' था। इसे सीजीआईएआर जेंडर इम्पैक्ट प्लेटफॉर्म और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर)  द्वारा आयोजित किया गया था।

ये विचार इसलिए भी सामयिक हैं क्योंकि ये उस सफल जी20 शिखर सम्मेलन के बाद आए हैं जिसके दौरान जी20 लीडर्स ने महिलाओं के नेतृत्व वाले विकास और खाद्य सुरक्षा, पोषण और जलवायु कार्रवाई में महिलाओं के नेतृत्व को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी।

सम्मेलन के दौरान प्रस्तुत किए गए शोध-समर्थित साक्ष्य स्पष्ट हैं: महिला सशक्तिकरण को बढ़ाने के लिए जानबूझकर कृषि कार्यक्रमों, परियोजनाओं और नीतियों को डिजाइन करने से सभी के लिए बेहतर परिणाम मिलते हैं, जिसमें कृषि उत्पादकता में वृद्धि, बच्चों के लिए बेहतर पोषण, बेहतर आहार विविधता के साथ-साथ बेहतर खाद्य सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन के प्रति अधिक लचीलापन भी शामिल है।

किसान उत्पादक संगठनों या अन्य प्रकार के समूहों को एक सर्वोत्तम दृष्टिकोण के रूप में उजागर किया गया जो महिलाओं की बाजारों, संसाधनों, एजेंसी और सशक्तिकरण तक पहुंच को बढ़ावा दे सकता है। शोध से यह भी पता चलता है कि इनोवेशन, निर्णय लेने और नीति निर्माण के सभी स्तरों पर महिलाओं के नेतृत्व को बढ़ावा देना ही न्यायसंगत और लचीली कृषि-खाद्य प्रणालियों को प्राप्त करने का एकमात्र तरीका है।

सम्मेलन के विचार-विमर्श से मुख्य बातों का सारांश देते हुए, आईसीएआर के सहायक महानिदेशक (एचआरडी) डॉ. सीमा जग्गी ने कहा कि जी20 लीडर चार प्राथमिकता वाले क्षेत्रों पर सहमत हुए: खाद्य सुरक्षा और पोषण में निवेश, जलवायु-स्मार्ट दृष्टिकोण, समावेशी कृषि मूल्य श्रृंखला और कृषि परिवर्तन के लिए डिजिटलीकरण। उन्होंने कहा कि सीजीआईएआर और आईसीएआर इन चार प्राथमिकता वाले क्षेत्रों को सूचित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

भारत के लिए देश की प्रतिनिधि और अंतर्राष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान (आईआरआरआई) में लिंग और आजीविका की अनुसंधान प्रमुख, डॉ रंजीता पुस्कुर ने कहा कि कार्रवाई का अंतिम आह्वान शोधकर्ताओं और अनुसंधान उपयोगकर्ताओं के बीच मजबूत साझेदारी से संबंधित है। इस सप्ताह हम दुनिया की सबसे बड़ी राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणालियों में से एक के साथ काम कर रहे हैं। हमें इन साझेदारियों को मजबूत करने की आवश्यकता है क्योंकि हम राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणालियों के साथ सक्रिय रूप से जुड़े बिना नीति निर्धारण में सक्षम होने के लिए आवश्यक साक्ष्य उत्पन्न नहीं कर सकते हैं। डॉ. पुस्कुर ने शोधकर्ताओं, नीति निर्माताओं और निजी क्षेत्र के बीच साझेदारी को मजबूत करने की आवश्यकता पर भी प्रकाश डाला।

गुरुवार को समापन पूर्ण सत्र में बोलते हुए, डॉ. पुस्कुर के अलावा, डॉ. जग्गी और केयर यूएसए में प्रोग्राम क्वालिटी एंड पार्टनरशिप के वरिष्ठ निदेशक, डॉ. मौरीन मिरुका, जीआरजेड के वरिष्ठ कार्यक्रम प्रबंधक डॉ. स्टीफन कचेलरीस-मैथेस, और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन में महिला सशक्तिकरण, कृषि विकास की वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी सुश्री विकी वाइल्ड उपस्थित थीं। प्रमुख विकास साझेदारों के रूप में, उन्होंने अनुसंधान से प्रभाव की ओर बढ़ने के लिए क्या आवश्यक है, इस पर अपने दृष्टिकोण दिए, जिसमें महिला छोटे धारकों की जरूरतों और बाधाओं पर विचार करने वाले कृषि समाधानों को डिजाइन करने पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित करना शामिल है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001GJO2.jpg

चार दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कृषि लिंग अनुसंधान सम्मेलन में 4 पूर्ण सत्र, 54 समानांतर सत्र और 6 पोस्टर सत्र शामिल थे। यहां 60 से अधिक देशों के प्रतिनिधि एक साथ एक मंच पर आए और इस बात पर विचार-विमर्श किया कि कृषि लिंग अनुसंधान कैसे अधिक लचीला और न्यायसंगत कृषि-खाद्य प्रणालियों में योगदान दे सकता है।

****

एमजी / एमएस/एआर/आरपी/पीके/ डीए



(Release ID: 1967500) Visitor Counter : 213


Read this release in: English , Urdu , Telugu