विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav g20-india-2023

सीएसआईआर-सीएमईआरआई ने कॉम्पैक्ट इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर- सीएसआईआर प्राइमा ईटी11 विकसित किया

Posted On: 30 AUG 2023 8:31PM by PIB Delhi

भारत में कृषि लगभग 55 प्रतिशत जनसंख्या के लिए आजीविका का प्राथमिक स्रोत है, जो 1.3 अरब लोगों को भोजन प्रदान करती है और देश की जीडीपी में महत्वपूर्ण योगदान देती है। मशीनीकरण द्वारा कृषि उत्पादकता बढ़ाने में ट्रैक्टर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। भारतीय ट्रैक्टर उद्योग ने पिछले कुछ दशकों में उत्पादन क्षमता और प्रौद्योगिकी के मामले में एक लंबा सफर तय किया है।

सीएसआईआर सीएमईआरआई का विभिन्न रेंजों और क्षमताओं के ट्रैक्टरों के डिजाइन और विकास में लंबा इतिहास रहा है। इसकी यात्रा 1965 में पहले स्वदेशी रूप से विकसित स्वराज ट्रैक्टर से शुरू होती है, उसके बाद 2000 में 35 एचपी सोनालिका ट्रैक्टर और फिर 2009 में छोटे और सीमांत किसानों की मांग के लिए 12 एचपी कृषिशक्ति के छोटे डीजल ट्रैक्टर बनाया गया। विरासत को अगले स्तर पर ले जाने के लिए सीएमईआरआई ने ट्रैक्टर में उन्नत तकनीक के साथ काम करना शुरू किया, जिसके परिणामस्वरूप यह -ट्रैक्टर विकसित किया गया है।

परंपरागत रूप से ट्रैक्टर डीजल का उपयोग करते हैं और इस प्रकार, पर्यावरण प्रदूषण में बड़ा योगदान देते हैं। एक अनुमान के अनुसार वे हमारे देश के वार्षिक डीजल उपयोग का लगभग 7.4 प्रतिशत और कुल कृषि ईंधन उपयोग का 60 प्रतिशत उपभोग करते हैं। साथ ही उनका पीएम2.5 और एनओएक्स उत्सर्जन अगले दो दशकों में मौजूदा स्तर से 4-5 गुना बढ़ने की संभावना है।

वैश्विक कार्बन फुट प्रिंट कटौती रणनीति के लिए इस क्षेत्र में विद्युतीकरण की दिशा में तेजी से बदलाव की आवश्यकता है। वर्ष 2021 में ग्लासगो में आयोजित सीओपी26 शिखर सम्मेलन में, भारत ने वर्ष 2030 तक कुल अनुमानित कार्बन उत्सर्जन को एक अरब टन कम करने की दिशा में काम करने की घोषणा की। साथ ही वर्ष 2070 तक शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन प्राप्त करने का लक्ष्य रखा गया। इसलिए, विद्युतीकरण ट्रैक्टर एक आवश्यक कदम है जो हमारे देश को इन लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करता है।

ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को और कम करने की आवश्यकता और जल्द ही जीवाश्म ईंधन की दुर्लभ उपलब्धता को ध्यान में रखते हुए, अधिक दीर्घकालीन कृषि के संदर्भ में इलेक्ट्रिक ट्रैक्टरों की एक संभावित समाधान के रूप में पहचान की गई है। हालाँकि, अधिकांश वाणिज्यिक उपकरणों में उच्च-शक्ति वाली मशीनें शामिल होती हैं, जो केवल बड़े क्षेत्र में कृषि के लिए ही संभव हैं और यह भारतीय सीमांत किसानों के लिए एक चुनौती है, जिनके पास लगभग 2 हेक्टेयर या उससे कम कृषि भूमि है और इस छोटे और सीमांत किसान में किसान समुदाय का 80प्रतिशत से अधिक शामिल है।

इसे संबोधित करते हुए, सीएसआईआर-सीएमईआरआई ने मुख्य रूप से भारत के छोटे और सीमांत किसानों की जरूरतों को पूरा करने के लिए सीएसआईआर प्राइमा ईटी11 नामक कॉम्पैक्ट 100प्रतिशत शुद्ध इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर को स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित किया है।

विकसित सीएसआईआर प्राइमा ईटी11 की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं:

1) सबसे पहली महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि पूरे ट्रैक्टर को स्वदेशी घटकों और प्रौद्योगिकियों के साथ डिजाइन और निर्मित किया गया है।

2) ट्रैक्टर के मुख्य उद्देश्य कृषि क्षेत्र में उपयोग की मांग को पूरा करने को देखते हुए इसे इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इसकी गतिशीलता, वजन वितरण, ट्रांसमिशन संलग्नता, फिर लीवर और पेडल स्थिति सब कुछ अच्छी तरह से डिजाइन और विचार किया गया है।

3) विकसित तकनीक की एक और खासियत यह है कि यह महिलाओं के अनुकूल है। इसके लिए हमने एर्गोनॉमिक्स पर विशेष ध्यान दिया है, उदाहरण के लिए: महिलाओं तक आसान पहुंच के लिए सभी लीवर, स्विच आदि लगाए गए हैं। इसके अलावा प्रयास को कम करने के लिए कई यांत्रिक प्रणालियों को आसान संचालन के लिए इलेक्ट्रॉनिक स्विचों से बदला जा रहा है।

4) किसान पारंपरिक घरेलू चार्जिंग सॉकेट का उपयोग करके 7 से 8 घंटे में ट्रैक्टर को चार्ज कर सकते हैं और खेत में 4 घंटे से अधिक समय तक ट्रैक्टर चला सकते हैं। अन्यथा, सामान्य ढुलाई संचालन के मामले में ट्रैक्टर 6 घंटे से अधिक चल सकता है। हमने देखा है कि भारत में किसानों की सामान्य प्रथा यह है कि वे सुबह से अपना काम शुरू करते हैं और दोपहर में वे आमतौर पर आराम करते हैं और इस दौरान वे अपने ट्रैक्टर को चार्ज कर सकते हैं, ताकि वे दोपहर में इसे फिर से अपने काम के लिए उपयोग कर सकें।

5) ट्रांसमिशन की बात: ट्रैक्टर को सेमी सिंक्रोनाइज्ड टाइप गियरिंग सिस्टम का उपयोग करके मजबूत और कुशल ट्रांसमिशन सिस्टम के साथ डिजाइन किया जा रहा है। डिज़ाइन न्यूनतम लागत में वांछित दक्षता प्राप्त करने में मदद करता है।

6) ट्रैक्टर 500 किलोग्राम या उससे अधिक की भार उठाने की क्षमता के साथ श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ हाइड्रोलिक से सुसज्जित है। इसका तात्पर्य यह है कि ट्रैक्टर केवल क्षेत्र संचालन के लिए बल्कि ढुलाई संचालन के लिए भी आवश्यक उपकरण उठा सकता है। यह भी उल्लेख किया जाना चाहिए कि ट्रैक्टर 1.8 टन क्षमता वाली ट्रॉली को अधिकतम 25 किमी प्रति घंटे की गति से खींच सकता है।

7) आवश्यक कवर और गार्ड के साथ इसकी मजबूत डिजाइन इसे कीचड़ और पानी से बचाती है।

8) इलेक्ट्रिक पहलुओं की बात करें तो बैटरी को हमने प्रिज़मैटिक सेल पुष्टिकरण के साथ अत्याधुनिक लिथियम आयन बैटरी के रूप में चुना है। इसमें कृषि के उपयोग के लिए गहरी डिस्चार्ज क्षमता है और इसका जीवन 3000 चक्र से अधिक है।

9) नियंत्रक और उपकरण क्लस्टर को कृषि आवश्यकताओं के अनुरूप संशोधित किया गया है।

10) एक और विशिष्ट सुविधा जो प्रदान की गई है, वह  वी2एल नामक एक पोर्ट है यानी लोड करने के लिए वाहन, इसका मतलब है कि जब ट्रैक्टर चालू नहीं होता है, तो इसकी बैटरी पावर का उपयोग अन्य माध्यमिक अनुप्रयोगों जैसे पंप और सिंचाई आदि के लिए किया जा सकता है।

अपनी तरह के इस पहले इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर को केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने नई दिल्ली में आयोजित वन वीक वन लैब कर्टेन रेज़र समारोह में, सचिव, डीएसआईआर डॉ. एन कलाईसेल्वी और कई अन्य गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में लॉन्च किया।

इसके अलावा, इस प्रभावशाली तकनीक को केएन बायोसाइंस, हैदराबाद स्थित कंपनी को लाइसेंस दिया गया है जो अपने कुशल ट्रैक्टर ब्रांड और कई बायोसाइंस से संबंधित विकास/उत्पाद के लिए प्रसिद्ध है ताकि इसे जमीनी स्तर पर ले जाया जा सके और बड़े पैमाने पर उत्पादन किया जा सके। इसकी शानदार सफलता की उम्मीद की जा रही है।

उम्मीद है कि यह ट्रैक्टर सीएसआईआर प्राइमा ईटी11 भारत में छोटे और सीमांत किसानों की मांगों को पूरा करते हुए दीर्घकालीन कृषि में सफलता हासिल करेगा। और इस प्रकार यह विकासमेक फॉर वर्ल्डकी क्रांतिकारी दृष्टि के साथ वैश्विक ट्रैक्टर उद्योग में भारत का नेतृत्व करने के लिए प्रेरित करेगा।

****

एमजी/एमएस/आरपी/एकेएस/एजे



(Release ID: 1953629) Visitor Counter : 298


Read this release in: English , Urdu , Telugu