सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम मंत्रालय

'आत्मनिर्भर भारत' को सशक्त बनाना: एक अगले कदम के रूप में आगे बढ़ने के लिए 'खादी रक्षासूत' (खादी-राखी) की शुरुआत

Posted On: 23 AUG 2023 6:14PM by PIB Delhi

खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के अध्यक्ष श्री मनोज कुमार ने आज नई दिल्ली में रक्षा बंधन के उपलक्ष्य में 'खादी रक्षासूत' की शुरुआत की। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के तत्वावधान में यह 'खादी रक्षासूत' (खादी-राखी) की शुरुआत की गई। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 7 अगस्त, 2023 को नई दिल्ली के प्रगति मैदान में 'राष्ट्रीय हथकरघा दिवस' कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में नागरिकों से आग्रह किया था कि वे अपने आगामी त्योहारों के लिए खादी एवं ग्रामोद्योग उत्पादों का चयन करके ग्रामीण कारीगरों का तहे दिल से समर्थन करें, जिससे भारत के सुदूर ग्रामीण भागों में रोजगार के सर्वोत्तम अवसर सुनिश्चित हो सकें।

इस अवसर पर श्री मनोज कुमार ने कहा कि 'खादी रक्षासूत' की विशिष्टता ग्रामीण भारत की समर्पित स्पिनर बहनों द्वारा इसके निर्माण में निहित है, जो चरखे पर कई सूत कातने का काम करती हैं। यह उत्पाद पूरी तरह से प्राकृतिक है, किसी भी रासायनिक घटक से रहित है। उदाहरण के लिए, उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर के ग्रामोद्योगिक विकास संस्थान द्वारा तैयार की गई राखी स्वदेशी पवित्र गौ माता के पवित्र गोबर से बनाई गई है। इसके अतिरिक्त, इसमें तुलसी, टमाटर, बैंगन के बीज शामिल करने से इसकी संरचना में और बेहतर होती है। इसके निर्माण के पीछे की अवधारणा इस धारणा में निहित है कि जब इसे जमीन पर फेंक दिया जाएगा तो इससे तुलसी, टमाटर और बैंगन के पौधे अंकुरित होंगे। देश के विभिन्न राज्यों में तैयार की गई ऐसी खादी राखियां अब नई दिल्ली के खादी भवन में खरीद के लिए पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है, जिनमें से प्रत्येक की कीमत 20 रुपये से 250 रुपये तक है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001IXN2.jpg

श्री मनोज कुमार ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि इस वर्ष 'खादी रक्षासूत' को एक 'पायलट परियोजना' पहल के रूप में शुरू किया जा रहा है, जो विशेष रूप से नई दिल्ली में खादी भवन में उपलब्ध है। आगामी वर्ष में देश भर में 'खादी रक्षासूत' लॉन्च करने के लिए व्यापक तैयारी चल रही है। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि वे खादी के माध्यम से भारत की राष्ट्रीय विरासत की उल्लेखनीय अभिव्यक्ति 'खादी रक्षासूत' को अपनाएं। ऐसा करके वे न केवल भारत की शानदार विरासत को संरक्षित करेंगे, बल्कि हमारे सम्मानित प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा परिकल्पित 'आत्मनिर्भर भारत' के विजन में भी सक्रिय रूप से योगदान देंगे।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002QD7E.jpg

श्री मनोज कुमार ने खादी के गहन महत्व पर प्रकाश डाला, जो हमारी राष्ट्रीय विरासत का प्रतीक है और स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष के दौरान इसकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में खादी ने पिछले नौ वर्षों में अपने 'स्वर्ण युग' में प्रवेश करते हुए पुनर्जागरण का अनुभव किया है। पिछले वित्त वर्ष में, खादी और ग्रामोद्योग उत्पादों से 1.34 लाख करोड़ रुपये से अधिक का राजस्व प्राप्त हुआ। इसके अलावा, चालू वित्त वर्ष में, खादी ने 9.5 लाख से अधिक नई नौकरियां पैदा करके एक ऐतिहासिक उपलब्धि प्राप्त की है। उन्होंने जोर देकर कहा कि खादी के इस नए जोश के साथ, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 'न्यू इंडिया की नई खादी' को न केवल कपड़ों के प्रतीक के रूप में, बल्कि एक 'हथियार' के रूप में भी गढ़ा है। यह हथियार गरीबी के खिलाफ, कारीगरों को सशक्त बनाने, खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने, महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने और बेरोजगारी को खत्म करने की दिशा में है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003JZME.jpg

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 2014 से अपने लोकप्रिय रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के माध्यम से देश के नागरिकों को खादी और ग्रामोद्योग उत्पादों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया। इस प्रयास का प्रभाव उल्लेखनीय रहा है, खादी उद्योग एक परिवर्तनकारी पुनरुत्थान के दौर से गुजर रहा है। जो वर्ष 2013-14 से पहले एक गिरावट वाला क्षेत्र था, उसने अब एक नए पुनरोद्धार का अनुभव किया है। ग्रामीण कारीगरों की दक्षता को न केवल मान्यता मिल रही है, बल्कि उन्हें अपने शिल्प कौशल के लिए उचित पारिश्रमिक भी मिल रहा है। कारीगरों को आर्थिक रूप से ऊपर उठाने की इस प्रतिबद्धता के अनुरूप, केवीआईसी ने 'खादी रक्षासूत' को बाजार में पेश किया है। हम रक्षाबंधन के शुभ अवसर के करीब आते हैं। यह न केवल आपकी कलाई पर खादी रक्षासूत बांधने का अवसर है, बल्कि ग्रामीण भारत की महिला कारीगरों के चेहरे पर एक नई मुस्कान लाने का मौका भी है।

***

एमजी/एमएस/एसकेएस/एसके



(Release ID: 1951511) Visitor Counter : 347


Read this release in: Urdu , English , Telugu