सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्‍वयन मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav g20-india-2023

प्रेस विज्ञप्ति


मल्टीपल इंडिकेटर सर्वे (एमआईएस) - एनएसएस 78वें दौर की रिपोर्ट [2020-21]

Posted On: 07 MAR 2023 6:27PM by PIB Delhi

 

. परिचय

.1 राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) ने अपने 78वें दौर में पूरे देश को कवर करते हुए बहु संकेतक सर्वेक्षण (एमआईएस) किया। इस सर्वेक्षण को शुरू में जनवरी-दिसंबर, 2020 की अवधि के दौरान आयोजित करने की योजना बनाई गई थी, लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण फील्ड कार्य को 15.08.2021 तक बढ़ा दिया गया था। एमआईएस के उद्देश्य थे:

  • कुछ महत्वपूर्ण सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) के संकेतकों के विकासशील अनुमानों के लिए जानकारी एकत्र करना
  • 31.03.2014 के बाद आवासीय उद्देश्य के लिए परिवार द्वारा घर (मकानों)/फ्लैट (मकानों) की खरीद/निर्माण और प्रवासन की जानकारी एकत्र करना।

. एमआईएस का नमूना डिजाइन

ब.1 अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह के कुछ गांवों, जहां तक ​​पहुंचना मुश्किल था, को छोड़कर पूरे भारतीय संघ का सर्वेक्षण किया गया। इस सर्वेक्षण में, दो चरण वाले स्तरीकृत नमूनाकरण का उपयोग किया गया था, जिसमें प्रथम चरण इकाई (एफएसयू) ग्रामीण क्षेत्रों में गांव/उप-इकाइयां (एसयू), शहरी क्षेत्रों में शहरी फ्रेम सर्वेक्षण (यू एफएस) ब्लॉक/एसयू थे। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार जनसंख्या के अनुपात में राज्यों और केन्द्र - शासित प्रदेशों को एफएसयू आवंटित किए गए थे। दूसरे चरण की इकाइयां (एसएसयू) ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में घर थीं। एफएसयू और एसएसयू का चयन सिंपल रैंडम सैंपलिंग विदाउट रिप्लेसमेंट (एसआरएसडब्ल्यूओआर) द्वारा किया गया था।

. नमूनाकरण की विधि

.1 अखिल भारतीय स्तर पर सर्वेक्षण के लिए आवंटित कुल 14,516 एफएसयू में से कुल 14,266 एफएसयू (8,469 ग्रामीण और 5,797 शहरी) का एमआईएस के लिए सर्वेक्षण किया गया था। अखिल भारतीय स्तर पर, सर्वेक्षण किए गए परिवारों की कुल संख्या 2,76,409 (ग्रामीण क्षेत्रों में 1,64,529 और शहरी क्षेत्रों में 1,11,880) थी और कुल व्यक्तियों की संख्या 11,63,416 (ग्रामीण क्षेत्रों में 7,13,501 और शहरी क्षेत्रों में 4,49,915) थी।

. एनएसएस 78वें दौर की रिपोर्ट

इस सर्वेक्षण के प्रमुख निष्कर्षों को एक रिपोर्ट के रूप में शामिल किया गया है जिसका शीर्षक है: 'रिपोर्ट ऑन मल्टीपल इंडिकेटर सर्वे, 2020-21' (एनएसएस रिपोर्ट नंबर 589)। यह रिपोर्ट इस मंत्रालय की वेबसाइट (http://mospi.gov.in) पर उपलब्ध है। इस सर्वेक्षण के कुछ प्रमुख निष्कर्ष नीचे दिए गए हैं:

कुछ प्रमुख निष्कर्ष

क्र.सं

मद का विवरण

प्रतिशत (अखिल भारतीय)

ग्रामीण

शहरी

कुल*

1

पीने के पानी के बेहतर स्रोत होने की सूचना देने वाले व्यक्तियों का प्रतिशत1

95.0

97.2

95.7

2

जिन व्यक्तियों ने शौचालय तक पहुंच की सूचना दी थी, उनमें से उन्नत शौचालय तक पहुंच की सूचना देने वाले लोगों का प्रतिशत2

97.5

99.0

98.0

3

परिसर के भीतर पानी और साबुन/डिटर्जेंट के साथ हाथ धोने की सुविधा तक पहुंच की सूचना देने वाले व्यक्तियों का प्रतिशत

77.4

92.7

81.9

4

खाना पकाने के लिए ऊर्जा के प्राथमिक स्रोत के रूप में स्वच्छ ईंधन का उपयोग करने वाले परिवारों का प्रतिशत3

49.8

92.0

63.1

5

सर्वेक्षण से पहले 12 महीनों के लिए औपचारिक और गैर-औपचारिक शिक्षा और प्रशिक्षण में शामिल रहने वाले 15-29 वर्ष की आयु के लोगों का प्रतिशत

33.0

39.4

34.9

6

सर्वेक्षण की तिथि को शिक्षा, रोजगार या प्रशिक्षण (एनईईटी) में नहीं रहने वाले 15-24 वर्ष की आयु के व्यक्तियों का प्रतिशत

30.2

27.0

29.3

7

सर्वेक्षण की तारीख से पहले के तीन महीनों के दौरान सक्रिय सिम कार्ड के साथ मोबाइल टेलीफोन का उपयोग करने वाले 18वर्ष और उससे अधिक आयु के व्यक्तियों का प्रतिशत

67.8

83.7

72.7

8

रहने के स्थान से 2किमी के भीतर बारहमासी सड़कों की उपलब्धता की सूचना देने वाले ग्रामीण क्षेत्रों के घरों के प्रतिशत

92.5

-

-

9

31.03.2014 के बाद किसी नए घर/फ्लैट की खरीद/निर्माण की सूचना देने वाले परिवारों का प्रतिशत

11.2

7.2

9.9

10

31.03.2014 के बाद किसी नए घर/फ्लैट की खरीद/निर्माण की सूचना देने वाले परिवारों में पहली बार नए घर/फ्लैट की खरीद/निर्माण की सूचना देने वाले परिवारों का प्रतिशत

47.5

57.9

49.9

11

पिछले सामान्य निवास स्थान से भिन्ननिवास के वर्तमान स्थान वाले व्यक्तियों का प्रतिशत

26.8

34.6

29.1

*: ग्रामीण + शहरी

टिप्पणियां:

1. पीने के पानी के बेहतर स्रोत में बोतलबंद पानी, घरों में पाइप से पानी, यार्ड/प्लाट तक पाइप से पानी, पड़ोसी से पाइप से पानी, सार्वजनिक नल/स्टैंडपाइप, नलकूप, हैंडपंप, संरक्षित कुआं, सार्वजनिक टैंकर ट्रक, निजी टैंकर ट्रक, संरक्षित झरने, वर्षा जल संग्रह शामिल हैं।

2. बेहतर शौचालय में पाइप्ड सीवर सिस्टम में फ्लश/पोर-फ्लश, सेप्टिक टैंक में फ्लश/पोर-फ्लश, ट्विन लीच पिट/सिंगल पिट में फ्लश/पोर-फ्लश, हवादार बेहतर पिट शौचालय, स्लैब के साथ पिट शौचालय, कंपोस्टिंग शौचालय शामिल हैं।

3. ऊर्जा के प्राथमिक स्रोत को ऊर्जा के उस स्रोत के रूप में परिभाषित किया गया था जिसका उपयोग अधिकांश समय परिवार करते थे। खाना पकाने के लिए स्वच्छ ईंधन में स्रोत शामिल हैं: (i) एलपीजी, (ii) अन्य प्राकृतिक गैस, (iii) गोबर गैस, (iv) अन्य बायोगैस, (v) बिजली (सौर/पवन ऊर्जा जनरेटर द्वारा उत्पन्न सहित) और (vi ) सोलर कुकर।

****

एमजी/एमएस/एआर/आर/डीके-

 



(Release ID: 1905008) Visitor Counter : 385


Read this release in: English , Urdu