विदेश मंत्रालय

मुंबई में जी20 डेवलपमेंट वर्किंग ग्रुप की पहली बैठक संपन्न


विकास के लिए डेटा और लाइफस्टाइल (पर्यावरण के लिए जीवन शैली) पर विचार-विमर्श के साथ मुंबई में विकास कार्य समूह की पहली बैठक के मूल खंड का समापन

Posted On: 15 DEC 2022 8:11PM by PIB Delhi

मुंबई, 15 दिसंबर: महाराष्ट्र के मुंबई में आयोजित भारत की जी20 अध्यक्षता के तहत विकास कार्य समूह (डीडब्ल्यूजी) की पहली बैठक के तीसरे दिन विकास और जलवायु  के अनुकूल सामूहिक कार्रवाई के लिए डेटा के उपयोग के प्रमुख वैश्विक मुद्दों पर केंद्रित विचार-विमर्श किया गया। इसके साथ ही चार दिवसीय विकास कार्य समूह की चार दिवसीय बैठक के सभी पांच मूल सत्रों का आज समापन हुआ।

आज सुबह सत्र 3 - 'विकास के लिए डेटा' के तहत चर्चा शुरू करते हुए, भारत के डीडब्ल्यूजी के सह-अध्यक्ष श्री नागराज नायडू और सुश्री ईनम गंभीर ने 2030 एजेंडा के लक्ष्यों को प्राप्त करने के प्रयासों को प्रभावी ढंग से गति देने के लिए वैश्विक प्रयासों को प्रेरित करने की आवश्यकता का संदर्भ दिया।

उन्होंने कहा, "...जैसा कि राष्ट्र सतत विकास लक्ष्य की प्राप्ति की दिशा में प्रयास करते हैं, अब ध्यान डिजिटल समाधानों और प्रणालियों पर विश्व स्तर पर केंद्रित है, जो आवश्यक समाज व्यापक कार्यों और सेवाओं के प्रभावी प्रावधान को सक्षम बनाता है।”

भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (माईटी) के अतिरिक्त निदेशक और डिजिटल इकोनॉमी वर्किंग ग्रुप के एक प्रतिनिधि श्री क्षितिज कुशाग्र ने इस मुद्दे की क्रॉस-कटिंग प्रकृति और दो ट्रैक के बीच चल रहे तालमेल पर प्रकाश डाला।

इसके बाद, प्रौद्योगिकी पर यूएन एसजी के विशेष दूत राजदूत अमनदीप सिंह गिल ने प्रभावी संग्रह, भंडारण, विश्लेषण और डेटा सेट को डिजिटल इंटेलिजेंस में बदल कर स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि और खाद्य सुरक्षा जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में विकास और सहयोग के लिए वैश्विक अवसरों  के बारे में बताया।

अंत में, व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (यूएनसीटीएडी) के ट्रोबजोर्न फ्रेडरिकसन ने जी20 देशों के मंच पर आने से पहले डेटा फॉर डेवलपमेंट स्कोपिंग नोट पर अपना विश्लेषण प्रस्तुत किया।

गुणवत्ता डेटा की आवश्यकता पर देश के क्रियाकलाप, विश्वसनीय डेटा की आवश्यकता, निजी क्षेत्र और नागरिक समाज की भूमिका, डिजिटल विभाजन को पाटने के लिए आवश्यक कदम, विकासशील देशों में क्षमता निर्माण और डीडब्ल्यूजी के साथ उस डिजिटल इकोनॉमी वर्किंग ग्रुप के कार्यों के बीच तालमेल बिठाने पर केंद्रित हैं।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/G-20-1S1WV.jpg

 

सत्र 4 ने लाइफस्टाइल फॉर एनवायरनमेंट (एलआईएफई) पर ध्यान केंद्रित किया। डीडब्ल्यूजी सह-अध्यक्ष सुश्री गंभीर ने अपने शुरुआती संबोधन में कहा, "हम कैसे पुनर्कल्पना करते हैं, और हम कैसे समर्थन करने के लिए इकोसिस्टम का निर्माण कर सकते हैं।" यह बात  जलवायु के अनुकूल वैश्विक कार्रवाई के संदर्भ में, भारत की जी20 प्रेसीडेंसी के लिए एक केंद्रीय प्राथमिकता है।

भारत की प्राचीन स्थायी परंपराओं से आकर्षित, एलआईएफई टिकाऊ जीवन के लिए एक साहसिक, परिवर्तनकारी दृष्टिकोण है, जो खपत (मांग) और उत्पादन (आपूर्ति) पैटर्न दोनों में वैश्विक बदलाव का प्रस्ताव करता है। यह प्रस्ताव भारत के जी20 प्रेसीडेंसी - 'वसुधैव कुटुम्बकम' या 'वन अर्थ, वन फैमिली, वन फ्यूचर,' की थीम के साथ भी निकटता से जुड़ा हुआ है। जो सभी जीवन रूपों की परस्पर संबद्धता को उजागर करता है और इस साझा ग्रह के लिए समान जिम्मेदारी देता है जो इसमें रहते हैं।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/G-20-2H25Q.jpg

 

संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (यूएनआईडीईओ) के श्री गुइसेप डी सिमोन और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) की सुश्री दिव्या दत्त द्वारा आर्थिक और नीतिगत ढांचों पर  प्रस्तुतियां, जो इस वैकल्पिक मांग-आपूर्ति प्रतिमान के पैमाने और प्रभाव के बारे में एलआईएफई को अपनाने में सक्षम बना सकती हैं, प्रतिनिधियों को डेटा-संचालित दृष्टिकोण प्रदान करती हैं। सुश्री दत्त ने सर्कुलर इकोनॉमी और क्रॉस-कटिंग नीतिगत बदलावों के संदर्भ में "स्थायी जीवन शैली को आकांक्षात्मक बनाने" के महत्व को भी बताया।

जी20 देशों के प्रतिनिधियों ने सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) 12: 'जिम्मेदार खपत और उत्पादन' पर भारत के फोकस का स्वागत किया और स्थानीय वास्तविकताओं और ज्ञान को एकीकृत करने, दायरे और पैमाने को चित्रित करने और इस क्षेत्र में बदलाव को सक्षम और प्रोत्साहित करने वाले नीतिगत उपायों की पहचान करने के लिए विचार-विमर्श किया।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/G-20-3UWTR.jpg

 

2023 जी20 नई दिल्ली अपडेट पर सत्र 5 के साथ मूल वार्ता डीडब्ल्यूजी की सह-अध्यक्ष सुश्री गंभीर की टिप्पणियों और एक प्रस्तुति, परिणाम दस्तावेज़ के लिए संदर्भ की शर्तों पर एक चर्चा, और  डीडब्ल्यूजी के सह-अध्यक्षों की समापन टिप्पणियों के साथ समाप्त हुई।

शाम को, डीडब्ल्यूजी सह-अध्यक्षों ने जिओ वर्ल्ड कन्वेंशन सेंटर में एक प्रेस वार्ता आयोजित की, जिसमें  डीडब्ल्यूजी के उपक्रमों और भविष्य की बैठकों के लिए समूह की योजनाओं का विस्तृत विवरण दिया गया। जी20 प्रतिनिधियों ने केंद्र के लॉन में रात्रिभोज के साथ दिन के कार्यक्रम का समापन किया

सत्रों के बीच,  प्रतिनिधियों ने भारतीय तंदूरी चाय (चाय) के अनूठे स्वाद का  आनंद लिया; जो गर्म तंदूर में कुल्हड़ (मिट्टी का छोटा प्याला) रखने के लिए लोहे के चिमटे का उपयोग करने की प्रक्रिया से अपने  धुएं के स्वाद को आत्मसात करता है।

दो दिनों के गहन विचार-विमर्श के बाद तेजी से बढ़ते शहरी महानगर के बीच प्रतिनिधियों को मुंबई की सांस्कृतिक और हरियाली का अनुभव करने का अवसर प्रदान करने के लिए कल संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान में कन्हेरी गुफाओं के भ्रमण की योजना बनाई गई है।

***

एमजी/एएम/एसकेएस/डीए



(Release ID: 1883974) Visitor Counter : 437


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Odia , Odia