स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के साथ 27 हेल्थकेयर और हेल्थ टेक सर्विस प्रोवाइडर जुड़े


भारत के डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण के लिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (एबीडीएम) के साथ केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा निजी और सरकारी एचएमआईएस, एलएमआईएस, हेल्थ लॉकर, स्वास्थ्य तकनीक संगठन और अन्य डिजिटल सर्विसेज जुड़ रहे हैं

Posted On: 08 FEB 2022 5:43PM by PIB Delhi

राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) ने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (एबीडीएम) की अपनी प्रमुख योजना के तहत सरकारी और निजी क्षेत्र में 27 प्रमुख सर्विस प्रोवाइडर को जोड़ने की घोषणा की है। स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली (एचएमआईएस), प्रयोगशाला प्रबंधन सूचना प्रणाली (एलएमआईएस), स्वास्थ्य लॉकर सेवाएं, स्वास्थ्य तकनीक सेवाएं और अन्य डिजिटल सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियों के साथ यह गठजोड़, देश के लिए एक उपयोगी-समावेशी, एकीकृत और इंटरऑपरेबल डिजिटल हेल्थकेयर इको-सिस्टम विकसित करने की दिशा में एक कदम है।

भारत के माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 27 सितंबर 2021 को देश भर में एबीडीएम को लॉन्च किया गया। एबीडीएम का उद्देश्य एक सहज ऑनलाइन प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराना है जो डिजिटल हेल्थकेयर इकोसिस्टम के बीच तालमेल स्थापित करना है। एबीडीएम ने सभी हितधारकों-स्वास्थ्य सुविधाओं, रोगियों और स्वास्थ्य पेशेवरों के लिए एक सहज डिजिटल स्वास्थ्य सेवा अनुभव प्रदान करने के लिए बिल्डिंग ब्लॉक्स और अंतर-संचालित एपीआई विकसित किया हैं। विकसित किया गया डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र अब स्वास्थ्य सुविधाओं और स्वास्थ्य तकनीकी कंपनियों को जुड़ने के लिए सुलभ है।

यह समन्वय एबीडीएम और कई स्वास्थ्य तकनीकी भागीदारों के बीच एक साझेदारी है जो स्वास्थ्य सेवा पारिस्थितिकी तंत्र के विभिन्न हितधारकों के बीच मौजूदा अंतर को पाटने में मदद करेगा। वर्तमान में, निम्नलिखित भागीदारों (उनकी एकीकरण पूर्णता तिथियों के क्रम में सूचीबद्ध श्रेणी-वार) को एबीडीएम के साथ एकीकृत अपने उत्पादों के लिए एनएचए से 'एबीडीएम-एकीकृत' प्रमाण पत्र और लोगो प्राप्त हुए हैं। ये प्रमाणपत्र और लोगो उत्पाद द्वारा पूर्ण किए गए समेकन के स्तर का उल्लेख करते हैं।

एचएमआईएस सिस्टम जैसे एनआईसी द्वारा ई-हॉस्पिटल, सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग (सी-डैक) द्वारा ई-सुश्रुत, अपोलो हॉस्पिटल्स द्वारा मेडमंत्रा, प्लस 91 टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड द्वारा मेडीएक्ससेल, ओर्बी हेल्थ द्वारा एकाकेयर, थॉटवर्क्स टेक्नोलॉजीज द्वारा बहमनी, डॉकऑन द्वारा डॉकॉन टेक्नोलॉजीज, डॉक्टरों के लिए बजाज फिनसर्व हेल्थ और बजाज फिनसर्व हेल्थ लिमिटेड द्वारा बजाज फिनसर्व हेल्थ ऐप विकसित किया गया है।

एलएमआईएस सिस्टम जैसे एसआरएल लिमिटेड द्वारा केंद्रीकृत प्रयोगशाला सूचना प्रबंधन प्रणाली (सीएलआईएमएस) और क्रेलियो हेल्थ सॉफ्टवेयर द्वारा क्रेलियो हेल्थ वि​कसित किया गया है।

हेल्थ लॉकर सर्विस प्रोवाइडर जैसे नेशनल ई-गवर्नेंस डिवीजन द्वारा डिजिलॉकर, ड्रिफकेस हेल्थटेक प्राइवेट लिमिटेड द्वारा ड्रिफकेस और डॉकप्राइम टेक्नोलॉजीज द्वारा डॉकप्राइम वि​कसित किया गया है।

हेल्थ टेक प्लेयर्स जैसे प्रैक्टो बाय प्रैक्टो टेक्नोलॉजीज, वेराटन हेल्थ बाय वेराटन हेल्थ प्राइवेट लिमिटेड, मार्शा हेल्थकेयर द्वारा मार्शा हेल्थ क्लिनिकल डिसीजन सपोर्ट सिस्टम (सीडीएसएस), एनईसी सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस इंडिया द्वारा इंडियन ज्वाइंट रजिस्ट्री (आईजेआर), वन97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड द्वारा पेटीएम, रिलायंस डिजिटल हेल्थ लिमिटेड द्वारा जियो हेल्थहब, रक्सा हेल्थ इंफॉर्मेशन सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड और रक्सा और इनफॉर्मडीएस टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड द्वारा डॉक्सपर वि​कसित किया गया है।

केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा विकसित अन्य स्वास्थ्य तकनीक समाधान जैसे स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (एमओएचएफडब्ल्यू) द्वारा कोविन, केंद्रीय टीबी डिवीजन द्वारा निक्षय, एमओएचएफडब्ल्यू, स्वास्थ्य विभाग डीएनएच और डीडी द्वारा ई-आरोग्य, आंध्र प्रदेश मेडिकल स्टाफ के लिए एएनएम एपी हेल्थ ऐप और आंध्र प्रदेश स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग द्वारा ईएचआर, राष्ट्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण संस्थान (एनआईएचएफडब्ल्यू) द्वारा सीपीएचसी-एनसीडी सॉफ्टवेयर और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) द्वारा प्रधान मंत्री जन आरोग्य योजना (पीएम-जेएवाई) की लेनदेन प्रबंधन प्रणाली (टीएमएस) और लाभार्थी पहचान प्रणाली (बीआईएस) वि​कसित किया गया है।

(नोट: कुछ उत्पादों में डिजिटल स्वास्थ्य समाधानों की एक से अधिक श्रेणी की विशेषताएं हो सकती हैं।)

स्वास्थ्य सेवा में डिजिटल प्लेटफॉर्म को एक साथ लाने के लिए एबीडीएम सैंडबॉक्स (एक प्रयोगात्मक डिजिटल स्पेस जो वास्तविक डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र से अलग या अलग है और डिजिटल स्वास्थ्य उत्पाद को वास्तविक उपयोग के लिए लाइव करने से पहले एकीकरण प्रक्रियाओं के परीक्षण के लिए बनाया गया है) के माध्यम से प्राप्त किया जाता है। कोई भी इकाई एबीडीएम एपीआई के साथ साझेदारी करके अपने सॉफ्टवेयर सिस्टम को एकीकृत और मान्य करने की चरण-दर-चरण प्रक्रिया का पालन करके एबीडीएम सैंडबॉक्स पर पंजीकरण कर सकती है। एबीडीएम सैंडबॉक्स पर अब तक लगभग 745 संस्थाओं ने पंजीकरण कराया है।

एबीडीएम की भूमिका के बारे में बताते हुए, एनएचए के सीईओ, डॉ. आर एस शर्मा ने कहा, “आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का व्यापक उद्देश्य गुणवत्ता और पहुंच के साथ एक किफायती तरीके से स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना है। ये स्वास्थ्य सेवाएं देश में हर जगह उपलब्ध होनी चाहिए और जाहिर तौर पर प्रौद्योगिकी उपकरण दूरी की बाधा को कम कर देंगे। हम जो सिस्टम बना रहे हैं वह एक इंटरऑपरेबल, ओपन सिस्टम है जो ओपन एपीआई और ओपन स्टैंडर्ड के साथ ओपन सोर्स पर आधारित है, ताकि मूल रूप से प्रत्येक या सभी स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने वाली कंपनी को सक्षम बनाया जा सके, जो कोई भी एबीडीएम के साथ एकीकृत करने के लिए सिस्टम के साथ एकीकृत होना चाहता है।

अब तक किए गए समेकन की प्रगति पर आगे जोड़ते हुए, डॉ. शर्मा ने कहा, “27 इंटीग्रेटर्स में से, 17 इंटीग्रेटर निजी क्षेत्र के इंटीग्रेटर हैं जो वास्तव में ऐसे समाधान प्रदान कर रहे हैं जो एबीडीएम के समग्र आर्किटेक्चर के अनुकूल हैं। और प्रत्येक एप्लिकेशन हर दूसरे एप्लिकेशन से जुड़ने में सक्षम है। यह एक अद्भुत कलाकारी है जो एक स्केलेबल सिस्टम को सक्षम करेगा।"

एबीडीएम भागीदारों की पूरी सूची और उनके संबंधित पूरी जानकारी https://abdm.gov.in/home/partners  पर दी गई है। एबीडीएम सैंडबॉक्स के बारे में अधिक जानकारी यहां उपलब्ध है: https://sandbox.abdm.gov.in/

****

 

एमजी/एमएम/एके



(Release ID: 1806006) Visitor Counter : 143


Read this release in: English , Urdu , Telugu