सूचना और प्रसारण मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav

गोवा में सूरज, रेत और समुद्र के अलावा भी बहुत कुछ है, मैं इसे अपनी फिल्मों के माध्यम से इसे चित्रित करने की कोशिश कर रहा हूं: इफ्फी 52 गोवा खंड की

फिल्म "डी'कोस्टा हाउस" के निदेशक जितेंद्र शिकरकर

"हम अपनी भाषा के प्यार के लिए पूरी तरह से कोंकणी फिल्में बना रहे हैं, इसलिए कोंकणी बची है"



Posted On: 27 NOV 2021 11:58PM by PIB Delhi

यह तीन अपराधिक भगोड़ों और बंधक बनाए गए लोगों के बीच एक साहसिक मुठभेड़ की कहानी है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के 52वें संस्करण के गोवा फिल्म खंड में सिने प्रेमियों के लिए पेश की गई एक क्राइम थ्रिलर फिल्म डी'कोस्टा हाउस दर्शकों को उनकी सीटों पर जमे रहने और अपने दिल की धड़कनों को थामने पर मजबूर कर देगी।

गोवा से अपने संबंध को लेकर फिल्म के निदेशक जितेंद्र शिकरकर ने कहा कि गोवा का मतलब केवल सूरज, रेत और समुद्र नहीं है। गोवा में और भी बहुत कुछ है; मैं इसे अपनी फिल्मों के जरिए दिखाने की कोशिश कर रहा हूं। उन्होंने गोवा में इफ्फी 52 से इतर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए ये विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर फिल्म के प्रोड्यूसर डॉ. प्रमोद सलगांवकर भी उपस्थित थे।

फिल्म का आईएफएफआई 52 में वर्ल्ड प्रीमियर हो चुका है। निर्देशक ने कहा, "यह हमारे लिए प्रसन्नता का क्षण है क्योंकि हम आईएफएफआई जैसे अंतरराष्ट्रीय मंच पर अपनी फिल्म का प्रीमियर कर सके।"

शिकरकर ने कहा कि कोंकणी फिल्में बनाना आग से खेलने जैसा है क्योंकि इससे कोई कमाई नहीं होती। उन्होंने कहा "हालांकि आईएफएफआई में प्रदर्शित होना एक बड़ा पुरस्कार है, हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि सिनेमा को दर्शक भी मिलें क्योंकि केवल पुरस्कार ही निर्माताओं का पेट नहीं भर सकते। हम पूरी तरह से अपनी भाषा के प्यार के लिए कोंकणी फिल्में बना रहे हैं। कोंकणी तभी बचेगी जब हम इन फिल्मों के जरिए कोंकणी की संस्कृति को दिखाएंगे और इसलिए हम ये फिल्में बना रहे हैं। यह मेरी पांचवीं फिल्म है और मेरे किसी भी निर्माता ने इन फिल्मों से कोई पैसा नहीं कमाया है, लेकिन फिर भी वे भाषा के प्यार के लिए यह कर रहे हैं।

जितेंद्र शिकरकर को इस क्षेत्र में 18 वर्ष का अनुभव है, और अतीत में आईएफएफआई में कई बार शामिल हो चुके हैं। वह वर्तमान में क्षेत्रीय सिनेमा के लिए कार्य कर रहे हैं, उन्होंने मुख्य रूप से मराठी और कोंकणी सिनेमा में काम किया है। उन्हें उदय, मोर्टू जैसी फिल्मों के लिए जाना जाता है और उन्होंने विभिन्न टीवीसी, कॉर्पोरेट फिल्मों, टीवी धारावाहिकों और टॉक शो में काम किया है। उन्होंने डीडी नेशनल की टेलीविजन श्रृंखला और अन्य क्षेत्रीय चैनलों के लिए पटकथा लेखक के रूप में भी काम किया है।

***

एमजी/एएम/एसएस

 



(Release ID: 1775802) Visitor Counter : 105


Read this release in: English , Urdu , Marathi