संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय

राष्ट्रीय डाक सप्ताह और आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में भारतीय डाक विभाग ने व्यवसाय विकास दिवस मनाया

आधार नामांकन और अपडेशन में लोगों की मदद के लिए दूरदराज, आदिवासी क्षेत्रों/वृद्धाश्रमों में आधार शिविरों और मेलों का आयोजन किया गया

Posted On: 14 OCT 2021 7:24PM by PIB Delhi

भारतीय डाक ने आज राष्ट्रीय डाक सप्ताह, जो हर साल अक्टूबर में मनाया जाता है, के हिस्से के रूप में व्यवसाय विकास दिवस मनाया। इस साल इस दिवस को मनाने के लिए, डाक विभाग, संचार मंत्रालय ने देशभर में फैले हुए डाक सर्कलों के सहयोग से दूरदराज, आदिवासी क्षेत्रों, अनाथालयों/वृद्धाश्रमों में आधार शिविरों और मेलों का आयोजन किया जिससे जनता की, विशेष रूप से डीबीटी लाभार्थियों की आधार नामांकन और अपडेशन में मदद हो सके। इसका उद्देश्य समाज के वंचित वर्गों तक पहुंच बनाना था जिससे वे भारतीय डाक द्वारा प्रदान की जाने वाली विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकें।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001NVUD.jpg

चित्रदुर्ग डिवीजन, कर्नाटक पोस्टल सर्कल में आधार नामांकन और अपडेशन शिविर

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002IRSM.jpg

लद्दाख डिवीजन, जम्मू और कश्मीर पोस्टल सर्कल में आधार नामांकन और अपडेशन शिविर

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003V5US.jpg

बालाघाट मंडल,मध्य प्रदेश पोस्टल सर्कल में आधार नामांकन और अपडेशन शिविर

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004G1B5.jpg

मणिपुर डिवीजन, पूर्वोत्तर सर्कल में आधार नामांकन और अपडेशन शिविर

वर्षों से व्यापार विकास निदेशालय ने मीडिया पोस्ट, डायरेक्ट पोस्ट, ई-सर्विसेज, बिजनस पोस्ट, रिटेल पोस्ट जैसे उत्पादों और अन्य नागरिक केंद्रित सेवाओं के माध्यम से जनता के बीच इसे बढ़ावा देने के सभी प्रयास किए और विभाग के लिए काफी राजस्व इकट्ठा किया। व्यवसाय विकास निदेशालय की उपलब्धियों का जश्न मनाने और सर्कल में मार्केटिंग अधिकारियों/ग्राहकों/एजेंटों के बीच व्यापार विकास निदेशालय के दायरे में आने वाले सभी उत्पादों/सेवाओं के बारे में जानकारी का प्रसार करने के लिए हर साल व्यवसाय विकास दिवस मनाया जाता है। इस दिन सभी अंचलों में विभागों के उत्पाद/सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए मेलों/अभियानों का आयोजन किया जाता है।

इस दिन, सर्कल की ओर से वर्तमान और संभावित कॉर्पोरेट ग्राहकों से संपर्क किया जाता है और विभाग के सभी उत्पादों/सेवाओं के बारे में जागरूकता पैदा करने और डाकघरों में नागरिक केंद्रित सेवाओं की उपलब्धता और नई पेशकशों को लेकर जागरूकता अभियान का आयोजन किया जाता है।

पिछले तीन वित्तीय वर्षों के दौरान विभाग ने देशभर के चुनिंदा डाकघरों के माध्यम से पीओपीएसके से पासपोर्ट सेवाओं और आधार नामांकन व अपडेशन जैसे विभिन्न नागरिक केंद्रित उत्पादों को जोड़ा है। विभाग द्वारा शुरू की गई ये सेवाएं लोगों के बीच बेहद लोकप्रिय हैं और इनकी काफी मांग है।

पिछले कुछ वर्षों में विभाग ने निम्नलिखित उपलब्धियां हासिल की हैं;

1. ईपोस्ट - ईपोस्ट एक गैरपंजीकृत हाइब्रिड मेल है जिसे खुदरा और कॉर्पोरेट दोनों तरह के ग्राहकों के लिए डिजाइन किया गया है। यह संदेशों का इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसमिशन प्रदान करता है, जिसमें टेक्स्ट संदेश, स्कैन तस्वीरें, चित्र आदि शामिल हो सकते हैं और डाकिया/डिलिवरी स्टाफ के माध्यम से गंतव्य पर हार्ड कॉपी में उनकी डिलिवरी हो सकती है। वर्तमान में ई-पोस्ट बुकिंग सुविधा 13,000 (लगभग) डाकघरों में उपलब्ध है और पूरे भारत में 1.54 लाख से ज्यादा डाकघरों के नेटवर्क के माध्यम से भौतिक रूप से वितरित की जाती है। इस साल विभाग ने 2020 टोक्यो ओलंपिक खेलों में आयोजित विभिन्न खेलों के भारतीय पदक विजेताओं/प्रतिभागियों के लिए 85 हजार से ज्यादा बधाई/शुभकामना ई-पोस्ट संदेश बुक किए। सभी बधाई एवं अन्य संदेश हमारे ओलंपिक हीरोज तक पहुंचाए गए।

2. आधार नामांकन/अपडेशन सेवाएं: भारतीय डाक ने देशभर में 13,352 केंद्रों पर आधार नामांकन और अपडेशन केंद्र स्थापित किए हैं। विभाग ने 13352 केंद्रों पर आधार नामांकन/अपडेशन सेवा के माध्यम से 4 करोड़ से ज्यादा लाभार्थियों की सेवा की और करीब 227 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया है।

3. डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र: विदेश मंत्रालय के सहयोग से विभाग ने लोगों के करीब पासपोर्ट सेवाएं प्रदान करने के लिए डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्रों के रूप में अपने विशाल डाक नेटवर्क का लाभ उठाया है। अगस्त 2021 तक विभाग ने कुल 198.3 करोड़ रुपये का राजस्व इकट्ठा किया और देशभर में संचालित 426 डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्रों से 60.11 लाख लाभार्थी लाभान्वित हुए।

4. गंगाजल: विभाग ने पिछले 4 वर्षों में श्रद्धालुओं को गंगाजल की 16.89 लाख बोतलें वितरित/बेची हैं।

5. पवित्र प्रसादम: भक्तों के द्वार तक प्रसाद पहुंचाने के लिए विभाग ने देशभर के 76 से अधिक मंदिरों के साथ समझौता किया है।

6. भारतीय डाक यात्री आरक्षण प्रणाली: ट्रेन टिकटों की बुकिंग भी पूरे भारत में 336 भारतीय डाक यात्री आरक्षण प्रणाली (आईपी-पीआरएस) केंद्रों के माध्यम से उपलब्ध है।

***

जी/एएम/एएस



(Release ID: 1764144) Visitor Counter : 49


Read this release in: English , Urdu