रक्षा मंत्रालय

झांसी से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक तक आईडीएस मुख्यालय द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव दौड़ का आयोजन

Posted On: 14 OCT 2021 7:06PM by PIB Delhi

प्रमुख बातें:

आजादी की पहली लड़ाई में 1858 में अपने प्राणों की आहुति देने वाली झांसी की रानी के सम्मान में दौड़

साथ ही 21 अक्टूबर 1943 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा आजाद भारत की अनंतिम सरकार के गठन की घोषणा की याद में

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में सीडीएस जनरल बिपिन रावत की उपस्थिति में दौड़ का समापन होगा

आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के अंतर्गत एकीकृत रक्षा स्टाफ मुख्यालय (मुख्यालय आईडीएस) 15-21 अक्टूबर, 2021 के बीच महारानी लक्ष्मी बाई स्मारक, ग्वालियर से नई दिल्ली में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक तक एक दौड़ का आयोजन कर रहा है। संयुक्तता और जीवन दर्शन में 'संयुक्तता के माध्यम से जीत' के आदर्श वाक्य तक, छह अधिकारियों और ट्राई-सर्विसेज के एक एनसीओ की टीम सात दिनों में 350 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।

यह दौड़ झांसी की रानी का स्मरण भी करेगी, जिन्होंने 1858 में ग्वालियर में स्वतंत्रता के पहले युद्ध में अपने प्राणों की आहुति दी थी और 21 अक्टूबर, 1943 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा स्वतंत्र भारत की अनंतिम सरकार के गठन की घोषणा की थी।

टीम का नेतृत्व कमोडोर जोगिंदर चंदना कर रहे हैं, जो 56 साल की उम्र में टीम के सबसे बड़े सदस्य हैं और एक अनुभवी अल्ट्रा मैराथनर हैं। उनके कारनामों में 2016 में 36 घंटे में 310 किलोमीटर दौड़ना शामिल है। टीम में दूसरी नौसेना अधिकारी कमांडर मनदीप कौर हैं, जो एक प्रमाणित स्कूबा गोताखोर और एक अनुभवी इंटर-सिटी अल्ट्रामैराथनर हैं। भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व दो पैरा सैनिकों द्वारा किया जा रहा है: लेफ्टिनेंट कर्नल स्वरूप सिंह कुंतल, जो एक अल्ट्रा मैराथनर, राष्ट्रीय स्तर के साइकिल चालक, ट्रायथलीट, आयरनमैन तथा अल्ट्रामैन हैं तथा नायक हरिओम, जो जबलपुर से कांगला तोंगबी प्लेटिनम जुबली रन 2019 के सदस्य थे जो जबलपुर से सिकंदराबाद की 777 किलोमीटर दूरी तक आयोजित की गई थी।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/AKAMMarathonbyHQIDSJ4RN.jpg

भारतीय वायु सेना का प्रतिनिधित्व एयर कमोडोर वीएस चौधरी, जिन्होंने 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के 50 वर्षों के उपलक्ष्य में 2015 में पठानकोट से नई दिल्ली तक वायु सेना अल्ट्रा मैराथन टीम का नेतृत्व किया था तथा विंग कमांडर पंकज वात्स्यायन, जिनके अल्ट्रा मैराथन अनुभव कच्छ के रण में कठिन 160 किलोमीटर की दौड़ में दूसरा स्थान प्राप्त करना शामिल है, द्वारा किया जा रहा है ।

टीम की सबसे कम उम्र की सदस्य फ्लाइट लेफ्टिनेंट ऋषभ जीत कौर भाटिया हैं, जो
कारगिल विजय की 20 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए 2019 में कारगिल से कोहिमा तक-45 दिनों में 4,500 किलोमीटर की दूरी-दौड़ी थीं।

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत की उपस्थिति में 21 अक्टूबर, 2021 को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर रैली का समापन होगा।

एमजी/एएम/एबी



(Release ID: 1764107) Visitor Counter : 98


Read this release in: English , Urdu , Urdu