रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय

औषधि विभाग 18 अक्टूबर 2021 को 'औषधि और चिकित्सा उपकरण स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज' के विजेताओं के लिए एक सम्मान समारोह आयोजित करेगा।

भारत दवा उत्पादन के मामले में मात्रा के हिसाब से तीसरे और मूल्य के हिसाब से 14वें स्थान पर है

Posted On: 14 OCT 2021 5:47PM by PIB Delhi

औषधि विभाग, रसायन और उर्वरक मंत्रालय और इन्वेस्ट इंडिया सोमवार, 18 अक्टूबर, 2021 को शाम 5:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 'औषधि और चिकित्सा उपकरण स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज' के विजेता स्टार्ट-अप के लिए एक सम्मान समारोह का आयोजन कर रहे हैं। सम्मान समारोह में नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, विशिष्ट अतिथि के रूप में स्टार्टअप्स को उनके अनुकरणीय नवाचारों पर प्रोत्साहित करने और बधाई देने के लिए उपस्थित होंगे। इस कार्यक्रम में उद्योग जगत के उल्लेखनीय हितधारक भी शामिल होंगे, जो राष्ट्र निर्माण की दिशा में भारतीय नवप्रवर्तकों द्वारा किए जा रहे भारी प्रयासों का जश्न मनाने के लिए उपस्थित रहेंगे।

औषधि विभाग ने 26 फरवरी, 2021 को भारतीय औषधि और भारतीय चिकित्सा उपकरण 2021 सम्मेलन में 'औषधि और चिकित्सा उपकरण स्टार्ट अप ग्रैंड चैलेंज 2021' का शुभारम्भ किया था, ताकि इन क्षेत्रों में नवाचार को बढ़ावा दिया जा सके और आर्थिक विकास को और गति दी जा सके। स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज के लिए हैदराबाद और अहमदाबाद में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (एनआईपीईआर), इन्वेस्ट इंडिया, स्टार्टअप इंडिया और एनबलर पार्टनर्स लॉरस लैब्स और बोस्टन साइंटिफिक सरकारी साझेदार थे।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002OHUB.jpg

कार्यक्रम के लिए आवेदन स्टार्टअप इंडिया पोर्टल - www.startupindia.gov.in पर आमंत्रित किए गए थे। दवा और चिकित्सा उपकरणों के क्षेत्रों में नवाचार और नई प्रौद्योगिकियों के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए कार्यक्रम के हिस्से के रूप में एक वेबिनार भी आयोजित किया गया था। स्टार्टअप चैलेंज के लिए प्राप्त 310 स्टार्टअप आवेदनों में से 218 चिकित्सा उपकरण क्षेत्र में और 92 औषधि क्षेत्र में थे।

मूल्यांकन के दूसरे दौर के लिए चिकित्सा उपकरण क्षेत्र से 17 स्टार्टअप और फार्मास्युटिकल क्षेत्र से 5 स्टार्टअप चुने गए, जहां उन्होंने एक वीडियो कॉन्फ्रेंस में एक प्रतिष्ठित निर्णायक समिति के सामने अपने विचार रखे। दो चरणों की कठोर मूल्यांकन प्रक्रिया के बाद, दोनों क्षेत्रों के लिए चार स्टार्टअप को विजेता और उपविजेता के रूप में चुना गया है। दो विजेता स्टार्टअप्स को प्रत्येक को 15 लाख रुपए का नकद अनुदान प्राप्त होगा, और दो उपविजेताओं को 7 लाख रुपए प्रत्येक को मिलेंगे। इसके अलावा, सभी चार स्टार्टअप्स को 6 महीने के लिए एक समर्पित मार्गदर्शक सौंपा जाएगा और आने वाले महीनों में उन शीर्ष 20+ स्टार्टअप्स के लिए एक वर्चुअल डेमो डे का आयोजन किया जाएगा, जिन्होंने कार्यक्रम के मूल्यांकन के दूसरे दौर में जगह बनाई थी, जहां उन्होंने सरकारी मंत्रालयों/विभागों, सहकारिता, कॉर्पोरेट निकायों, निवेशकों, आदि के अधिकारियों के सामने अपने विचार रखे।

भारतीय औषधि और चिकित्सा उपकरण क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था की उन्नति में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। वैश्विक औषधि क्षेत्र में देश का एक महत्वपूर्ण स्थान है। विश्व स्तर पर, भारत मात्रा के हिसाब से दवा उत्पादन के मामले में तीसरे और मूल्य के हिसाब से 14वें स्थान पर है। मेक इन इंडिया अभियान के तहत उभरते हुए क्षेत्र के रूप में नामित, भारत दुनिया के शीर्ष 20 वैश्विक चिकित्सा उपकरणों के बाजार में गिना जाता है और जापान, चीन और दक्षिण कोरिया के बाद भारत एशिया में चौथा सबसे बड़ा बाजार है। इसके अलावा, कोविड-19 महामारी के दौरान, बड़ी संख्या में स्टार्टअप ने क्षेत्र में प्रवेश किया, जो कि मजबूत निवेशक हित से प्रेरित था।

****

एमजी/एएम/एमकेएस/डीवी



(Release ID: 1764010) Visitor Counter : 240


Read this release in: English , Urdu , Marathi