वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय

मार्च, 2021 में आठ कोर उद्योगों (बेस: 2011-12 = 100) का सूचकांक

Posted On: 30 APR 2021 5:00PM by PIB Delhi

उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग के आर्थिक सलाहकार कार्यालय ने मार्च, 2021 के लिए आठ कोर उद्योगों का सूचकांक जारी किया है।

आठ कोर इंडस्ट्रीज का संयुक्त सूचकांक मार्च, 2021 में 143.1 पर रहा जिसमें मार्च 2020 की तुलना में 6.8 फीसदी (अनंतिम) की बढ़त दर्ज की गई। इनकी संचयी वृद्धि दर अप्रैल-मार्च, 2020-21 में (-) 7.0 प्रतिशत थी।

दिसंबर, 2020 में आठ कोर उद्योगों के सूचकांक की अंतिम वृद्धि दर को इसके अनंतिम स्तर (-1.3%) से संशोधित कर 0.4 प्रतिशत कर दिया गया है। औद्योगिक उत्‍पादन सूचकांक (आईआईपी) में शामिल वस्तुओं के कुल भारांक (वेटेज) का 40.27 प्रतिशत हिस्सा आठ कोर उद्योगों में ही निहित होता है। वार्षिक/मासिक सूचकांक और वृद्धि दर का विवरण अनुलग्नक I और II में दिया गया है।

आठ कोर उद्योगों (कुल मिलाकर) के सूचकांक की मासिक वृद्धि दरों को ग्राफ में दर्शाया गया है:

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001ET7S.jpg

 

*अनंतिम

आठ कोर उद्योगों के सूचकांक का सार नीचे दिया गया है:

कोयला

मार्च, 2021 में कोयला उत्‍पादन (भारांक: 10.33 प्रतिशत) मार्च, 2020 के मुकाबले 21.9 प्रतिशत घट गया। वर्ष 2020-21 की अप्रैल-मार्च अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 4.8 प्रतिशत गिर गया।

कच्‍चा तेल

मार्च, 2021 के दौरान कच्‍चे तेल का उत्‍पादन (भारांक: 8.98%) मार्च, 2020 की तुलना में 3.1 प्रतिशत गिर गया। वर्ष 2020-21 की अप्रैल- मार्च अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक बीते वित्‍त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 5.2 प्रतिशत कम रहा।

प्राकृतिक गैस

मार्च, 2021 में प्राकृतिक गैस का उत्पादन (भारांक: 6.88%) मार्च, 2020 के मुकाबले 12.3 प्रतिशत बढ़ा। वर्ष 2020-21 की अप्रैल- मार्च अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक पिछले वित् वर्ष की समान अवधि की तुलना में 8.2 प्रतिशत घट गया।

पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्‍पाद

पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्‍पादों का उत्‍पादन (भारांक: 28.04 प्रतिशत) मार्च, 2021 में मार्च, 2020 के मुकाबले 0.7 प्रतिशत घट गया। वहीं, वर्ष 2020-21 की अप्रैल-मार्च अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 11.2 प्रतिशत कम रहा।

उर्वरक

मार्च, 2021 के दौरान उर्वरक उत्‍पादन (भारांक: 2.63 प्रतिशत) मार्च, 2020 के मुकाबले 5.0 प्रतिशत गिर गया। उधर, वर्ष 2020-21 की अप्रैल- मार्च अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक बीते वित्‍त वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 1.8 प्रतिशत अधिक रहा।

इस्‍पात

मार्च, 2021 में इस्‍पात उत्‍पादन (भारांक: 17.92 प्रतिशत) मार्च, 2020 के मुकाबले 23.0 प्रतिशत बढ़ा। वर्ष 2020-21 की अप्रैल-मार्च अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 9.5 प्रतिशत कम रहा।

सीमेंट

मार्च, 2021 के दौरान सीमेंट उत्‍पादन (भारांक: 5.37 प्रतिशत) मार्च, 2020 के मुकाबले 32.5 प्रतिशत घट गया। वर्ष 2020-21 की अप्रैल-मार्च अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक बीते वित्‍त वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 11.9 प्रतिशत कम रहा।

बिजली

फरवरी, 2021 के दौरान बिजली उत्‍पादन (भारांक: 19.85 प्रतिशत) मार्च, 2020 के मुकाबले 21.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई। वर्ष 2020-21 की अप्रैल-मार्च, 2020-21 अवधि के दौरान इसका संचयी सूचकांक पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 0.6 प्रतिशत कम रहा।

नोट 1: जनवरी, 2021, फरवरी, 2021 और मार्च, 2021 के आंकड़े अनंतिम हैं।

नोट 2: अप्रैल, 2014 से ही बिजली उत्पादन के आंकड़ों में नवीकरणीय अथवा अक्षय स्रोतों से प्राप्त बिजली को भी शामिल किया जा रहा है।

नोट 3: ऊपर दिए गए उद्योग-वार भारांक दरअसल आईआईपी से प्राप्त अलग-अलग उद्योग भारांक हैं और इसे 100 के बराबर आईसीआई के संयुक्त भारांक में समानुपातिक आधार पर बढ़ाकर दिखाया गया है।

नोट 4: मार्च 2019 से ही तैयार इस्पात के उत्‍पादन के अंतर्गतकोल्ड रोल्ड (सीआर) क्‍वायल्‍समद के तहत हॉट रोल्ड पिकल्‍ड एंड ऑयल्‍ड (एचआरपीओ) नामक एक नए स्टील उत्पाद को भी शामिल किया जा रहा है।

नोट 5: अप्रैल, 2021 के लिए सूचकांक सोमवार, 31 मई, 2021 को जारी किया जाएगा।


आठ कोर उद्योगों के प्रदर्शन के बारे में विस्तार से जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

******

एमजी/एएम/डीवी



(Release ID: 1715325) Visitor Counter : 17


Read this release in: Bengali , English , Urdu