पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय

"भारत-इजरायल संयुक्त उद्यम आईओसी- फाइनर्जी प्राइवेट लिमिटेड भारत की ई-मोबिलिटी आकांक्षाओं को बढ़ावा देगा"

मारुति सुजुकी एवं अशोक लेलैंड ने नये संयुक्त उद्यम के लिए आशय पत्र पर हस्ताक्षर किए

Posted On: 17 MAR 2021 7:45PM by PIB Delhi

आज पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान और इजराइल के ऊर्जा मंत्री डॉ. युवल स्टीनिट्ज साथ मिलकर इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (इंडियन ऑयल) और हाइब्रिड लिथियम आयन और एल्यूमीनियम-एयर/जिंक-एयर बैटरी सिस्टम में विशेषज्ञता रखने वाली इजरायली स्टार्ट-अप कंपनी फाइनर्जी के बीच संयुक्त उद्यम (आईओसी फाइनर्जी प्राइवेट लिमिटेड) की लॉन्चिंग के साक्षी बने।

घरेलू स्तर पर उपलब्ध एल्यूमीनियम के आधार पर यह संयुक्त उद्यम भारत में एल्यूमीनियम-एयर सिस्टम के निर्माण की योजना बना रहा है। इस तकनीक के तहत प्रयुक्त एल्यूमीनियम की रीसाइक्लिंग से भारत को ऊर्जा आवश्यकताओं के लिए "आत्मनिर्भर" बनने में मदद मिलेगी। नया भारत-इजरायल संयुक्त उद्यम हरित गतिशीलता को बढ़ावा देने के लिए फ्यूल सेल और स्वदेशी हाइड्रोजन भंडारण समाधानों को विकसित भी करना चाहता है।

यह सहयोग जुलाई 2017 में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की इज़राइल यात्रा के दौरान शुरू किया गया था, जिसके बाद 2018 में इज़रायल के माननीय प्रधानमंत्री की भारत यात्रा के दौरान संबंधित कंपनियों के बीच आशय-पत्र का आदान-प्रदान किया गया था।

ई-मोबिलिटी के विषय में भारत की कोशिशों को बढ़ावा देते हुए भारत के दो प्रमुख ऑटोमोटिव निर्माता - मारुति सुजुकी और अशोक लेलैंड ने समारोह के दौरान जेवी आईओसी फाइनर्जी लिमिटेड के साथ आशय पत्र (एलओआई) पर हस्ताक्षर किए।

इस अवसर पर मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि ऊर्जा हमारी तेजी से बढ़ती भारतीय अर्थव्यवस्था और उसकी महत्वाकांक्षाओं का अभिन्न अंग है। उन्होंने कहा कि स्थानीय रूप से उपलब्ध एल्यूमीनियम का उपयोग करके स्वदेशी बैटरियों को विकसित करने की तकनीक प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिए दृष्टिकोण के अनुसार भारत की ऊर्जा दृष्टि में फिट बैठती है, जिसमें उन्होंने कार्बन रहित गतिशीलता के लिए बिजली के योगदान को बढ़ाने का आह्वान किया।

इज़रायल के ऊर्जा मंत्री डॉ. युवल स्टीनिट्ज ने अपनी टिप्पणी में कहा कि हम इज़रायल में बनी तकनीक का इस्तेमाल करते हुए भारत को स्वच्छ ऊर्जा प्रदान करने पर विचार कर रहे हैं। यह एक बड़ा सपना रहा है और इन समझौता पत्रकों (एमओयू) पर हस्ताक्षर होने से आज सपना हकीकत बनने जा रहा है। मुझे विश्वास है कि हम सभी हितधारकों की मदद से सफल होने जा रहे हैं।

इंडियन ऑयल और फाइनर्जी के बीच सहयोग ऊर्जा क्षेत्र में दोनों देशों के बीच सहयोग की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम है।

********

 

एमजी/एएम/एबी/डीवी



(Release ID: 1706557) Visitor Counter : 73


Read this release in: English , Urdu