रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय

जन औषधि दिवस सप्ताह का चौथा दिन आज मनाया गया


'सुविधा से सम्मान' विषय पर विशेष जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

2000 से अधिक वितरण शिविरों में एक लाख से अधिक सुविधा स्वच्छता पैकेट निशुल्क वितरित किए गए

जनऔषधि दिवस सप्ताह 2021 का उत्सव 1 मार्च से 7 मार्च तक

Posted On: 04 MAR 2021 6:08PM by PIB Delhi

जन औषधि दिवस 2021 सप्ताह का चौथा दिन आज "सुविधा से सम्मान" विषय पर मनाया गया । इस अवसर पर टीम बीपीपीआई, जन औषधि मित्र और जन औषधि केंद्र मालिकों ने गतिविधियों में भाग लिया तथा महिलाओं को सैनिटरी पैड के उपयोग के बारे में जागरूक करने के लिए शिविरों का आयोजन किया । प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के अंतर्गत 2000 से अधिक स्थानों पर सुविधा सेनेटरी नैपकिन के लिए निशुल्क वितरण शिविर आयोजित किए गए और महिलाओं को 1,00,000 से अधिक सुविधा सैनिटरी नैपकिन के पैकेट निशुल्क वितरित किए गए ।

 

 

जन औषधि सुविधा सैनिटरी पैड्स को भारत की महिलाओं के लिए अधिक किफायती और सुलभ बनाने के लिए भारत सरकार ने देश भर के सभी जन औषधि केंद्रों के माध्यम से इन पैडों को केवल 1 रुपये प्रति पैड की दर से उपलब्ध कराने का फैसला किया । संशोधित दरों के साथ सुविधा सेनेटरी नैपकिन का शुभारंभ रसायन एवं उर्वरक मंत्री श्री डी वी सदानंद गौड़ा और जहाजरानी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री श्री मनसुख मंडविया ने किया । दिनांक 28 फरवरी, 2021 तक प्रधानमंत्री भारतीय जनाधिकार केंद्रों पर 11.18 करोड़ से अधिक पैड बेचे जा चुके हैं ।

प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना (पीएमबीजेपी) की कार्यान्वयन एजेंसी फार्मा पीएसयू ऑफ इंडिया (बीपीपीआई) दिनांक 7 मार्च, 2021 को "सेवा भी - रोजगार भी" विषय के साथ तीसरा जनऔषधि दिवस मना रही है ।  बीपीपीआई ने देश भर में हेल्थ चेकअप कैंप, जन औषधि परिचर्चा, टीच देम यंग, सुविधा से सम्मान आदि विभिन्न गतिविधियों का आयोजन कर दिनांक 1 मार्च से जन औषधि दिवस सप्ताह मनाना शुरू किया । दिनांक 1 मार्च 2021 से समारोह की शुरुआत करते हुए जन औषधि केंद्र के मालिकों ने स्वास्थ्य जांच शिविरों का आयोजन किया जिसमें रक्तचाप की जांच, शुगर लेवल चेकअप, निशुल्क डॉक्टरी परामर्श, निशुल्क दवा वितरण आदि की व्यवस्था की गई ।

*****

एमजी /एएम/ एबी



(Release ID: 1702557) Visitor Counter : 222


Read this release in: English , Urdu , Marathi