सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्‍वयन मंत्रालय

प्राकृतिक पूंजी लेखा एवं पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं का मूल्यांकन (एनसीएवीईएस) इंडिया फोरम–2021

Posted On: 08 JAN 2021 5:24PM by PIB Delhi

1. एनसीएवीईएस इंडिया फोरम 2021 का आयोजन सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय(एमओएसपीआई) द्वारा किया जा रहा है।यूरोपीय संघ (ईयू) द्वारा वित्त पोषित एनसीएवीईएस परियोजना को संयुक्त राष्ट्र सांख्यिकी प्रभाग (यूएनएसडी), संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) और जैव विविधता सम्मेलन के सचिवालय (सीबीडी) द्वारा संयुक्त रूप से लागू किया गया है।भारत इस परियोजना में भाग लेने वाले पांच देशों में से एक है। इसमें शामिल अन्य देश हैं - ब्राजील, चीन, दक्षिण अफ्रीका और मैक्सिको।

2. भारत में, एनसीएवीईएस परियोजना को पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमओईएफएंडसीसी) और नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर (एनआरएससी) के नजदीकी सहयोग से सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय(एमओएसपीआई) द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है।सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय(एमओएसपीआई) ने संबंधित विविध हितधारकों - यानि पर्यावरणीय खातों का उपयोग करने वाले निर्माताओं और नीति निर्धारकों- को जोड़ने वाला एक तंत्र स्थापित करकेपरामर्श कीएक प्रक्रिया के जरिए सभी हितधारकों के साथ समन्वय स्थापित किया है।

3. इस परियोजना में भागीदारी से सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय(एमओएसपीआई) को यूएन–एसईईए फ्रेमवर्क के अनुरूप पर्यावरणीय खातों के संकलन को शुरू करने और वर्ष 2018 से वार्षिक आधार पर अपने प्रकाशन "एनवीस्टैट्स इंडिया" में पर्यावरणीय खातों को जारी करने में मदद मिली है।इनमें से कई खाते सामाजिक और आर्थिक विशेषताओं से निकटता से जुड़े हैं, जोकि उन्हें इस नीति का एक उपयोगी उपकरण बनाते हैं।इन प्रकाशनों को https://mospi.gov.in/web/mospi/reports-publications पर देखा जा सकता है

4. एनसीएवीईएस परियोजना के तहत एक अन्य उपलब्धि भारत–ईवीएल उपकरण का विकास है, जोकि अनिवार्य रूप सेदेशभर में किये गये लगभग 80 अध्ययनों पर आधारित देश के विभिन्न राज्यों में विभिन्न पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं के मूल्यों की एक तस्वीर (स्नैपशॉट) पेश करने वाला एक उपकरण है।इस उपकरण का एक अतिरिक्त लाभ यह है कि यह उपलब्ध साहित्य और जैव भौगोलिक क्षेत्रों के अनुसार पूरे भारत में स्थान के हिसाब से अनुमानों की व्यावहारिकता के बारे में एक आलोचनात्मक दृष्टिकोण प्रदान करता है।

5. एनसीएवीईएसइंडिया फोरम 2021 का आयोजन 14, 21 और 28 जनवरी, 2021 को लाइवसत्रों के साथ एक आभासी प्रारूप में किया जा रहा है, जिसमें निम्न बातों पर ध्यान केन्द्रित किया जायेगा:

14जनवरी 2021: अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा प्राकृतिक पूंजी लेखांकन और पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं के मूल्यांकन के क्षेत्र में किए गए प्रयास

21 जनवरी 2021: भारत में एनसीए के लिए नीतिगत मांग

28 जनवरी 2021: भारत में प्राकृतिक पूंजी लेखा एवं पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं के मूल्यांकन के क्षेत्र में उपलब्धियां तथा प्राकृतिक पूंजी लेखांकन की संभावनाएं

6. एक वेब पोर्टल www.ncavesindiaforum.in को पंजीकरण, भागीदारी और पर्यावरण संबंधी जानकारी के भंडार के रूप में कार्य करने के उद्देश्य से तैयार किया गया है।

7.  इस कार्यक्रम के पहले दिन, माननीय केन्द्रीय सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन तथा योजना राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)राव इंद्रजीत सिंह पर्यावरण से जुड़े आंकड़ों के पारिस्थितिकी तंत्र में सुधार के उद्देश्य से उठाए गए विभिन्न सरकारी प्रयासों पर प्रकाश डालेंगे।

8.इसके अलावा, कार्यक्रम केपहले दिन भारत में यूरोपीय संघ के प्रतिनिधिमंडल के राजदूत और यूएनएसडी के निदेशक, यूएनईपी के निदेशक, यूएनईएससीएपी के निदेशक, विश्व बैंक के निदेशक तथासंयुक्त राष्ट्र में पर्यावरण आर्थिक लेखांकन के विशेषज्ञों की समिति के अध्यक्ष समेत विभिन्न राष्ट्रीय एवंअंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधियों की भागीदारी होगी।

9.  यह फोरम ऑनलाइन प्रदर्शनी और ट्विटर पर पोस्टर सत्र के जरिए पर्यावरण से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण शोधों/कार्यों को प्रदर्शित करेगा। इस फोरम का उद्देश्य पर्यावरण से जुड़े विभिन्न दृष्टिकोणों के बारे में एक ठोस जागरूकता का निर्माण करना और "बेहतर पर्यावरण, बेहतर कल" के लक्ष्य को प्राप्त करने के इरादे से प्राकृतिक पूंजी के योगदान को साकार करने की दिशा में आगे बढ़ना है।

10. सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय(एमओएसपीआई) एनसीएवीईएस इंडिया फोरम 2021 में सक्रिय भागीदारी का स्वागत करता है।

***

एमजी/एएम/आर/एसके



(Release ID: 1687233) Visitor Counter : 114


Read this release in: English , Urdu , Punjabi , Tamil