शिक्षा मंत्रालय

शिक्षा मंत्री ने कहा कि केंद्र शिक्षा को लेकर न केवल राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय मानक हासिल करना चाहता है, बल्कि इसे समग्र बनाना चाहता है


केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को तैयार किया है, जो जीवन और अनुभव के माध्यम से सीखने को महत्व देता है  : डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का मातृभाषा को शक्तिशाली बनाने पर जोर है

Posted On: 19 OCT 2020 8:04PM by PIB Delhi

स्वामी विवेकानंद हर किसी को बताया करते थे कि हम अपनी मृत्यु तक सीखने वाले हैं और अनुभवी दुनिया सबसे अच्छा शिक्षक है। यह बात केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक’ ने आज स्वामी विवेकानंद की शैक्षिक दृष्टि और राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020’ पर रामकृष्ण मिशन विवेकानंद एजुकेशनल एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट (आरकेएमवीईआरआई) द्वारा आयोजित एक वेबिनार में बोलते हुए कही। उन्होंने कहा कि एक समय था जब देश के साथ-साथ दुनिया के छात्र भी नालंदा और तक्षशिला (तक्षशिला) जैसे विश्वविद्यालयों में विज्ञान और कला का ज्ञान प्राप्त करने के लिए आते थे। स्वामी विवेकानंद के आदर्श वाक्य वसुधैव कुटुम्बकम’ के भारत के दृष्टिकोण के साथ चलते हैं और मौजूदा परिदृश्य में शिक्षा नीति के साथ इस महान गुरु के दृष्टिकोण को समाहित करना बहुत उपयुक्त होगा, जो अनुभव के साथ ज्ञान प्राप्त करने को प्रोत्साहित करता है। मंत्री ने कहा कि ज्ञान प्राप्त करने का अंतिम उद्देश्य हर व्यक्ति को दुख से मुक्ति दिलाना है क्योंकि संस्कृत श्लोक कहता है, सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुख भागभवेत।

संस्थान की गतिविधियाँ विवेकानंद के विचारों को बनाए रखने के साथ-साथ ऐसी शिक्षा प्रदान करती हैं जिसमें वैज्ञानिक, सौंदर्य, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक समग्रता की परिकल्पना की गई है। डॉ. पोखरियाल ने विवेकानंद के विचारों को बनाए रखने के साथ-साथ वैज्ञानिक, सौंदर्य, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक समग्रता की परिकल्पना करने वाले संस्थान की गतिविधियों की बहुत सराहना की। उन्होंने कहा कि गुरु-शिष्य या शिक्षक-छात्र संबंध की परंपरा 'गुरुदेव महेश्वर' या 'आचार्य देवता' के रूप में रामकृष्ण मिशन द्वारा प्रदान की जाने वाली शिक्षा में अत्यंत अनुभवी है। मंत्री ने यह भी कहा कि रामकृष्ण मिशन जैसे शैक्षणिक संस्थानों ने भी छात्रों को सार्थक रूप से जीने के तरीके सीखने में मदद की है।

डॉ. पोखरियाल के मुताबिक केंद्र सरकार नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति बनाने का प्रयास किया है जो अनुभव के साथ-साथ जीवन यापन के माध्यम से सीखने की सोच के अनुरूप है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 स्वामी विवेकानंद के आदर्शों के समान है, जैसा कि इस महान ऋषि ने कहा था, मनुष्य जो सीखता है उसे अंदर नहीं रखना चाहिए। उन्होंने कहा, हम ऐसी शिक्षा चाहते हैं, जो न केवल बुद्धिमत्ता को धार देने में मददगार हो बल्कि हमारे चरित्र के साथ-साथ मन के विकास में भी सहायक हो। मंत्री ने कहा कि विवेकानंद कहते थे कि ज्ञान हर किसी के अंदर है, मनुष्य केवल इसका खोजकर्ता हैं। उन्होंने वेदांत को विज्ञान के साथ मिलाने की आवश्यकता भी बताई। जैसा कि स्वामी जी कहते थे, दुनिया कायरों के लिए नहीं है, यह उन साहसी लोगों के लिए है जो अधिक से अधिक जानना चाहते है। डॉ. पोखरियाल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति विवेकानंद के आदर्श का अनुसरण करने के साथ-साथ उनके विचारों को धरातल पर लागू करने का प्रयास है ताकि शिक्षा न केवल राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय बल्कि एक समावेशी और समग्र भी हो सके। अब समानता और गुणवत्ता के मामले में इस राष्ट्रीय शिक्षा नीति तक पहुंच प्रदान करने का समय आ गया है।

मंत्री ने यह भी कहा कि स्वामी जी हमेशा चाहते थे कि इस देश के युवा ब्रिटिश लोगों की तरह बाहरी लोगों के दबाव के बिना ज्ञान से संपन्न हों। डॉ. पोखरियाल ने कहा कि स्वामीजी ने विज्ञान का ज्ञान प्राप्त करने, स्वदेशी तरीके से नई खोजों के बारे में बताया।  उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति इसका एक संकेत है। इस विषय पर विचार-विमर्श करते हुए मंत्री ने गणित में आर्यभट्ट, विज्ञान में भास्कराचार्य और चिकित्सा में चरक और सुश्रुत और चरकसंहिता अतीत के वैज्ञानिक अध्ययनों के स्वदेशी तरीकों के उदाहरण दिए।

उन्होंने 5+3+3+4 के एक नए पाठयक्रम ढांचा के माध्यम से प्रधानमंत्री के समग्र शिक्षा के दृष्टिकोण के बारे में भी बताया जो क्रमशः 3-8 वर्ष, 8-11 वर्ष, 11-14 वर्ष और 14-18 वर्ष के बच्चों के लिए है। विवेकानंद की शिक्षा की दृष्टि अर्थात मातृ भाषा के माध्यम से प्राथमिक शिक्षा प्रदान करना और उच्च शिक्षा भी मातृ भाषा के माध्यम से प्रदान की जा सकती है। मंत्री ने दोहराया कि इस शिक्षा नीति का उद्देश्य मातृ भाषा को अधिक महत्व देना है।

देश के तकनीकी विकास पर बोलते हुए डॉ. पोखरियाल ने कहा कि वर्तमान परिदृश्य में दुनिया के साथ प्रतिस्पर्धा करने और इसको गति देने के लिए वैज्ञानिक और तकनीकी नवाचार आधारित शिक्षा भी आवश्यक है। इसके लिए आईआईटी और आईआईएसईआई की मदद से एक राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी मंच का गठन किया गया है।

केंद्र सरकार अब दुनिया को अपने युवाओं को भारत में पढ़ने के लिए भेजने का आग्रह कर रही है क्योंकि माना जा रहा है कि भारतीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर माइक्रोसॉफ्ट और गूगल जैसे कई संगठनों में नेतृत्व कर रहे हैं। मंत्री ने यह भी बताया कि आसियान देशों के हजार से अधिक छात्र अब भारत में अध्ययन कर रहे हैं। उन्हें पर्याप्त उम्मीद है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारतीय छात्रों को उच्च शिक्षा या रोजगार के लिए भारत से बाहर जाने से रोकने में मदद करेगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि भारत जल्द ही वह एक प्रमुख देश होगा जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति द्वारा संचालित होगा। जहां तक युवाओं के चरित्र निर्माण के साथ-साथ राष्ट्र-निर्माण का संबंध है, स्वामीजी ने एक बार परिकल्पित किया और कहा है, ‘उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य पूरा न हो जाए’।

वेबिनार के अन्य वक्ताओं में आरकेएमवीईआरआई के चांसलर स्वामी सुवीरानंदजी, आरकेएमवीईआरआई के प्रो-चांसलर स्वामी अतामिपारियानंदजी और आरकेएमवीईआरआई के कुलपति स्वामी सर्वोत्तमानजी शामिल थे।

***********************

एमजी/एएम/वीएस/डीए



(Release ID: 1666091) Visitor Counter : 190