नीति आयोग

नीति आयोग के अटल इनोवेशन मिशन, नैसकॉम ने स्कूल के छात्रों के लिए देशव्यापी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस स्टेप-अप मॉड्यूल लॉन्च किया

विद्यार्थी लर्न-इट-योरसेल्फ एटीएल एआई मॉड्यूल्स के उन्नत चरण में कदम रखेंगे

Posted On: 14 AUG 2020 9:01PM by PIB Delhi

'एटीएल एआई मॉड्यूल्स' के माध्यम से स्कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) पहुंचाने की एक अनूठी पहल की सफल शुरुआत के बाद अटल इनोवेशन मिशन, नीति आयोग ने नैसकॉम के साथ मिलकर भारत के स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर छात्रों के लिए 'एटीएल एआई स्टेप अप मॉड्यूल्स' लॉन्च किया। इसका मकसद देशभर के स्कूलों में एआई शिक्षा और नवाचार (इनोवेशन) को उन्नत स्तर तक ले जाना है।

यह मॉड्यूल एआई को भारतीय कक्षाओं में पहुंचाने की दिशा में अगला कदम है और इस साल फरवरी में लॉन्च किए गए एआई बेस मॉड्यूल का आगे का भाग है। एआई स्टेप-अप मॉड्यूल उन लोगों के लिए, जो एआई बेस मॉड्यूल के जरिए एआई अनुशासन की मूल बातों से परिचित होने के बाद अपने ज्ञान के आधार का विस्तार करना चाहते हैं, अपने से सीखो (लर्न-इट-योरसेल्फ) उन्नत मॉड्यूल का व्यापक सेट प्रदान करता है।

इस नए लॉन्च के साथ हैंड्स-ऑन परियोजनाओं और गतिविधियों के माध्यम से स्टेप-अप मॉड्यूल एआई की गहरी समझ को प्रोत्साहित करता है, जिसे वास्तविक दुनिया में लागू किया जा सकता है। मॉड्यूल को एक आकर्षक चित्रमय तरीके से डिजाइन किया गया है जो ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों से संबंधित सभी छात्रों की समझ में आता है।

स्टेप-अप मॉड्यूल के लिए पिछले ज्ञान की आवश्यकता नहीं है। इसमें परस्पर संवादात्मक उपकरणों और गतिविधियों का इस्तेमाल करते हुए छात्रों के सामने मूल अवधारणाओं को रखा जाता है जिससे उनका ध्यान बंटे नहीं। इसके अलावा इस मॉड्यूल का उद्देश्य छात्रों के लिए चुनौती पेश करना है और उन्हें बदलाव करने वाला और नवाचार को आगे बढ़ाने वाला बनाते हुए आने वाले वर्षों में अवसर पैदा करना है।

स्कूल के छात्रों का एआई से परिचय कराने के महत्व पर बोलते हुए नीति आयोग के सीईओ श्री अमिताभ कांत ने कहा कि एआई स्टेप अप मॉड्यूल इस देश का भविष्य है क्योंकि यह युवाओं को लक्षित करता है जो अपने आप में अग्रणी हैं। उन्होंने कहा, 'वास्तव में, यह लॉन्चिंग बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि भारत अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है और स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर मुझे नीति आयोग द्वारा एआईएम के जरिए देश के छात्रों के लिए एटीएल एआई स्टेप अप मॉड्यूल की घोषणा करते खुशी हो रही है। एआई सचमुच में हमारे बच्चों का भविष्य है और यह एआईएम और नैसकॉम का वास्तव में अनूठा प्रयास है।'

उन्होंने युवा भारत से इस अवसर को सकारात्मक रूप से लेने और मूल्यवान समाधान के लिए मॉड्यूल का इस्तेमाल करने का आग्रह किया जो देश के लिए सही मायने में आत्मनिर्भर भारत बनने का मार्ग प्रशस्त करेगा।

वर्चुअल लॉन्च पर बोलते हुए अटल इनोवेशन मिशन के मिशन निदेशक डॉ. आर. रामनन ने कहा कि बेस मॉड्यूल की शुरुआत के साथ ही इस पहली उद्योग सरकार अकादमिक पहल को छात्रों की ओर से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली है। एआईएम, नीति आयोग और नैसकॉम को अपने स्टेप-अप मॉड्यूल को लॉन्च करने पर गर्व है। आईआईटी सहित प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों के इनपुट ने इन मॉड्यूल्स के विकास में योगदान किया है।

उन्होंने आगे कहा, 'बेस मॉड्यूल को खासतौर से 12 साल की उम्र के छात्रों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया था, जिन्हें एआई की कोई पूर्व जानकारी या पृष्ठभूमि नहीं होती है। इसका मकसद यह था कि उनके युवा दिमाग में एआई को लेकर उत्सुकता हो और वे नवाचार के पारिस्थितिकी तंत्र में योगदान कर सकें। स्टेप अप मॉड्यूल को उत्कृष्ट रूप से डिजाइन किया गया है और देशभर के युवा छात्रों को शामिल करने के लिए प्रस्तुत किया गया है जिससे समावेशी रूप से सीखने के लिए प्रेरित करने के साथ ही एआई से जुड़े नवाचार बनाने के लिए देश के युवाओं को सशक्त किया जा सके।'

नैसकॉम के अध्यक्ष देबजानी घोष ने अपने विचार साझा करते हुए कहा, 'एआई और रोबोटिक्स जैसी प्रौद्योगिकी की तेज प्रगति ने शिक्षा सहित सभी उद्योगों में प्रवेश कर लिया है। जैसे-जैसे नवाचार के साथ दुनिया तब्दील होती जाती है यह देखने को मिलता है कि हमारे देश के युवाओं की किस तरह से पढ़ाई के डिजिटल तरीके में रुचि बढ़ रही है और वे इसमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस अपना रहे हैं।'

उन्होंने आगे कहा कि डिजिटल साक्षरता, कोडिंग और कम्प्यूटेशनल सोच की शुरुआत के उद्देश्य के साथ, ये मॉड्यूल युवाओं को एआई-आधारित प्रौद्योगिकियों के साथ सार्थक संवाद और सीखने में मदद से सशक्त बना सकते हैं। तार्किक सोच, महत्वपूर्ण विचार और समस्या को सुलझाने के कौशल जैसी स्किल्स आने वाले दशक में पेशेवर जीवन में सफलता के लिए सबसे महत्वपूर्ण होने जा रहे हैं।

यह मॉड्यूल भारत सरकार का एक महत्वपूर्ण कदम है जिससे नागरिकों और एक ऐसा कार्यबल तैयार होता है जो एआई के बारे में जानता है और एआई के साथ काम कर सकता है। इसे अपने लक्षित ऑडियंस के उम्र को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है ताकि उन्हें आसानी से किसी भी व्यक्ति द्वारा समझाया जा सके, जिसे हाल में एआई के विचार से अवगत कराया गया है।

एआई स्टेप-अप मॉड्यूल देश के सभी छात्रों के लिए उपलब्ध होगा और इसे यहां समझा जा सकता है https://aim.gov.in/Lets_learn_AI_StepUp_Module.pdf । आज के वर्चुअल लॉन्च में एआईएम, नीति आयोग, नैसकॉम के अधिकारियों के साथ ही उद्योग के साझीदार और शिक्षाविद शामिल हुए।

***

एसजी/एएम/एएस/एसएस



(Release ID: 1649441) Visitor Counter : 14


Read this release in: English , Urdu , Bengali , Tamil