पंचायती राज मंत्रालय

केंद्रीय पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार 2020 वितरित किए

गांव आत्मनिर्भर भारत अभियान के केंद्र में हैं, पंचायत के प्रतिनिधियों पर महान जिम्मेदारी है और सरपंचों को गांवों के समग्र विकास के लिए कार्य करना चाहिए: श्री तोमर

Posted On: 07 AUG 2020 7:48PM by PIB Delhi

केंद्रीय पंचायती राज, ग्रामीण विकास और कृषि तथा किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि सरपंचों और पंचायत के निर्वाचित प्रतिनिधियों को गांवों के समग्र विकास के लिए अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह करना चाहिए। पंचायत के प्रतिनिधियों को भी शिक्षा, स्वास्थ्य एवं पोषण जैसे विषयों पर काम करने के लिए आगे आना चाहिए जिससे कि देश का प्रत्येक गांव समग्र विकास के पथ पर आगे बढ़ सके।

नई दिल्ली से आज वर्चुअल तरीके से आयोजित राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार समारोह के अवसर पर बोलते हुए, श्री तोमर ने पुरस्कृत पंचायत प्रतिनिधियों को बधाई दी और कहा कि विजेता पंचायतों से प्रेरणा लेते हुए अन्य पंचायतों को भी बेहतर काम करना चाहिए जिससे कि वे भी अगले साल पुरस्कार जीत सकें। 24 अप्रैल 2020 को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वेबकास्ट के जरिये देश के पंचायत प्रतिनिधियों के साथ प्रत्यक्ष रूप से परस्पर संवाद किया था। राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कारों के तीन वर्गों-नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा पुरस्कार, चाइल्ड फ्रेंडली ग्राम पंचायत पुरस्कार एवं ग्राम पंचायत डेवलपमेंट प्लान पुरस्कार के विजेताओं के नामों की घोषणा भी उस दिन की गई थी।

श्री तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना संक्रमण से उत्पन्न परिस्थितियों के बीच देश को एक नई दिशा देने के लिए आत्मनिर्भर भारत अभियान आरंभ किया था। आत्मनिर्भर भारत के मूल में गांव और कृषि आधारित अर्थव्यवस्था है। ऐसी स्थिति में पंचायत के जनप्रतिनिधियों की भूमिका और अधिक बढ़ जाती है जिससे कि प्रधानमंत्री का विजन साकार किया जा सके। श्री तोमर ने कहा कि गांव के प्रत्येक बच्चे को स्कूल जाना चाहिए, टीकाकरण से लेकर पोषण तक सभी कार्यक्रमों का सुगमतापूर्वक संचालन होना चाहिए, किसानों को कृषि तकनीकों के बारे में जानकारी मिलनी चाहिए और इसे अर्जित करने के लिए सरपंचों को स्थानीय सरकार के समन्वयन के साथ कार्य करना होगा। सरंपचों को ग्रामीणों के लिए प्रत्येक सरकारी स्कीम के लाभों की निगरानी करनी चाहिए।

मंत्री ने पंचायती राज मंत्रालय की स्वामित्व योजना का संदर्भ दिया और कहा कि यह स्कीम गांवों में रहने वाले लोगों को उनकी आवासीय संपत्तियों के लिए कानूनी दस्तावेज उपलब्ध कराएगी। श्री तोमर ने पंचायती राज मंत्रालय की पत्रिका ग्रामोदय संकल्प का विमोचन भी किया। इस पत्रिका में पंचायतों के शानदार कार्यों के बारे में महत्वपूर्ण सूचना, प्रेरणादायी विषय वस्तुएं तथा सफलता की गाथाएं एवं विभागों की योजनाएं भी सन्निहित हैं।

उत्तर प्रदेश के पंचायती एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह चैधरी, हिमाचल प्रदेश के पंचायती एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री वीरेन्द्र कंवर तथा पंचायती राज मंत्रालय के सचिव श्री सुनील कुमार ने भी कार्यक्रम में वेबकास्ट के जरिये भाग लिया। राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कारों के दो वर्गों-पंडित दीनदयाल उपाध्याय सशक्तिकरण पुरस्कार तथा ई-पंचायत पुरस्कार की भी घोषणा की गई। पुरस्कार विजेता पंचायतों के निर्वाचित प्रतिनिधियों ने उनकी पंचायतों में किए गए असाधारण कार्यों की जानकारी दी।

***

एमजी/एएम/एसकेजे/एसएस



(Release ID: 1644335) Visitor Counter : 204


Read this release in: English , Manipuri , Tamil