Vice President's Secretariat

Vice President greets people on the eve of Ganesh Chaturthi

Posted On: 09 SEP 2021 5:31PM by PIB Delhi

The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu greeted the people on the eve of Ganesh Chaturthi. Following is the text of his message:

“I extend my warm greetings and good wishes to the people of our country on the auspicious occasion of ‘Ganesh Chaturthi’. 

Ganesh Chaturthi marks the birth of Lord Ganesh, who is revered as an embodiment of wisdom, prosperity and good fortune. In India, it is a common practice to invoke and chant the name of Lord Ganesh to remove any obstacles in one’s endeavours.

 Each year during Ganesh Chaturthi, people bring home and make colorful Ganesh idols with love and devotion and worship the Lord with utmost piety. This 10-day long festival witnesses prayers, huge gatherings, processions, culminating with the immersion of the idol - Ganesh Visarjan on the last day. The celebration of Ganesh Chaturthi also signifies the cycle of birth, life and death. It is believed the Visarjan symbolizes the return of Lord Ganesh to Kailasa.

Though this festival is normally celebrated across the country with great traditional fervor, in light of the pandemic, we need to be cautious this year and celebrate the festival in a modest manner, strictly adhering to COVID-appropriate behaviour. May the festival usher in peace, prosperity and happiness in our country.”

Following is the Hindi text of the message:

“मैं 'गणेश चतुर्थी' के पावन अवसर पर देशवासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।

गणेश चतुर्थी भगवान गणेश, जो बुद्धिमत्ता, समृद्धि और सौभाग्य के प्रतीक के रूप में पूजे जाते हैं, के जन्म का प्रतीक है। भारत में हमारे मार्ग में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए भगवान गणेश के नाम का आह्वान करना एक आम परम्परा है।

प्रत्येक वर्ष लोग भगवान गणेश की भव्य मूर्तियों को अपने घरों में लाते हैं और अत्यंत भक्ति भाव और पवित्रता के साथ उनकी पूजा करते हैं। 10 दिनों तक चलने वाले इस पर्व के दौरान भक्ति, विशाल जनसभाएं, शोभा यात्राएं देखने को मिलती हैं और इस पर्व का अंत 10वें दिन मूर्तियों के विसर्जन के साथ होता है। गणेश चतुर्थी जन्म, जीवन और मृत्यु के चक्र का भी प्रतीक है। यह मान्यता है कि विसर्जन भगवान गणेश के कैलाश वापस लौटने का प्रतीक है।

यद्यपि, यह त्योहार सामान्यत: अत्यधिक परम्परागत उत्साह के साथ देशभर में मनाया जाता है, परंतु विश्वव्यापी महामारी के आलोक में इसे इस वर्ष सचेत रहकर कोविड - अनुकूल व्यवहार के सख्त अनुपालन के साथ छोटे स्तर पर मनाए जाने की आवश्यकता है। मैं कामना करता हूं कि यह त्योहार देश में शांति, सौहार्द और समृद्धि लाए।”

 

*****

MS/RK



(Release ID: 1753552) Visitor Counter : 339


Read this release in: Punjabi , Urdu , Hindi , Tamil