वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय

अपेडा ने जैविक निर्यात प्रोत्साहन पर फोकस के साथ समर्पित जैविक संवर्धन प्रभाग बनाया


अपेडा ने उत्तराखंड और सिक्किम से जैविक निर्यात को बढ़ावा देने के लिए रोडमैप तैयार किया

Posted On: 22 FEB 2024 2:01PM by PIB Delhi

कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (अपेडा) ने भारत के जैविक निर्यात क्षेत्र के लिए महत्त्वपूर्ण प्रोत्साहन कदम उठाते हुए एक समर्पित जैविक संवर्धन प्रभाग बनाया है। यह प्रभाग जैविक निर्यात को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया है। प्रभाग अब देश की जैविक निर्यात क्षमता को बढ़ाने के प्रयासों में समन्वय के लिए एक केंद्र बिंदु के रूप में कार्य कर रहा है।

कृषि संवर्धन संस्था एक व्यापक रणनीति के माध्यम से उत्तराखंड के जैविक क्षेत्र को प्रोत्साहित करने की दिशा में काम कर रही है। अपेडा की योजना का फोकस कृषि प्रथाओं को बढ़ाने, प्रमाणन प्रक्रियाओं को अधिकतम करने तथा प्रमुख निर्यात उत्पादों की पहचान करने पर है। अंतिम उद्देश्य वैश्विक जैविक बाजार में उत्तराखंड की प्रोफाइल को एक महत्वपूर्ण सहभागी के रूप में बढ़ाना है।

भारत के पहले पूर्ण जैविक राज्य के रूप में सिक्किम की अग्रणी स्थिति के अनुसार अपेडा निर्यात में विविधता लाने और टिकाऊ प्रथाओं को मजबूत बनाने  के लिए रणनीतिक रोडमैप तैयार कर रहा है। जैविक क्षेत्र में सिक्किम की विशिष्ट शक्ति का लाभ उठाते हुए, संवर्द्धन निकाय की योजना का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय मंच पर अपनी प्रमुखता में वृद्धि करना है।

उत्तराखंड में सफल रूप से जारी पहल तथा सिक्किम के लिए आकार लेने वाली योजनाओं के साथ अपेडा का विजन इन रणनीतियों को अधिक राज्यों में दोहराने का है। पर्याप्त जैविक खेती क्षमता वाले क्षेत्रों को लक्षित करके, निकाय पूरे भारत में संपन्न जैविक निर्यात केंद्रों का एक नेटवर्क बनाने के लिए इच्छुक है।

इसके अतिरिक्त अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में जैविक उत्पादों की पहुंच बढ़ाने के प्रयास में राष्ट्रीय जैविक उत्पादन कार्यक्रम (एनपीओपी) महत्वपूर्ण सुधार के दौर से गुजर रहा है। एनपीओपी दिशानिर्देशों में होने वाले संशोधनों का उद्देश्य यूरोपीय संघ विनियमन सहित प्रमुख वैश्विक नियमों और मानकों के साथ सामंजस्य स्थापित करना है। यह रणनीतिक परिवर्तन जारी और संभावित पारस्परिक मान्यता समझौतों पर दृष्टि डालते हुए किया गया है। इस परिवर्तन में महत्त्वपूर्ण पक्ष, एनपीओपी के आईटी आघारभूत अवसंरचना का आधुनिकीकरण, शामिल है। संशोधित आईटी प्रणाली एक अधिक लचीली निरीक्षण व्यवस्था प्रस्तुत करने के लिए तैयार है। इस व्यवस्था में प्रमाणन निकायों और उनके प्रमाणित ऑपरेटरों पर विशेष रूप से फोकस किया गया है। संशोधित आईटी प्रणाली में खेतों की जियो-टैगिंग और निरीक्षण दौरों के भू-स्थान के प्रावधानों की परिकल्पना की गई है।

****

एमजी/एआर/आरपी/एजी/ओपी



(Release ID: 2008053) Visitor Counter : 348


Read this release in: English , Urdu , Telugu