रक्षा मंत्रालय

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन एयरो इंडिया 2023 कार्यक्रम के दौरान विभिन्न प्रकार की स्वदेशी रूप से विकसित तकनीकों और प्रणालियों का प्रदर्शन करेगा

Posted On: 09 FEB 2023 5:10PM by PIB Delhi

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने देश में रक्षा अनुसंधान और विकास इकोसिस्टम के विभिन्न हितधारकों को एकीकृत करने के प्रयास के साथ ही 14वें एयरो इंडिया एयर शो के दौरान स्वदेशी रक्षा प्रौद्योगिकियों तथा प्रणालियों के समृद्ध अनुभव को प्रदर्शित करने की योजना बनाई है। यह कार्यक्रम 13 से 17 फरवरी, 2023 तक बेंगलुरु में आयोजित किया जाएगा। इस दौरान, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन स्वदेशी रूप से विकसित उत्पादों तथा प्रौद्योगिकियों की एक विस्तृत श्रृंखला दर्शाएगा। डीआरडीओ भारतीय पवेलियन में अपने प्रमुख उत्पादों को दिखाने के अलावा कई प्रदर्शनियां, हवाई करतब और सेमिनार आयोजित करेगा। इसमें एयरोनॉटिकल सिस्टम्स, मिसाइल्स, आर्मामेंट्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, माइक्रो इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस और कम्प्यूटेशनल सिस्टम्स, सोल्जर सपोर्ट टेक्नोलॉजीज, लाइफ-साइंसेज तथा नवल एंड मैटेरियल साइंस सहित अन्य उत्पादों का प्रदर्शन शामिल होगा। यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने में डीआरडीओ द्वारा की गई हालिया प्रगति को प्रदर्शित करेगा।

डीआरडीओ का पवेलियन 12 क्षेत्रों में वर्गीकृत 330 से अधिक उत्पादों का प्रदर्शन करेगा, जिनमें लड़ाकू विमान और यूएवी, मिसाइल तथा सामरिक प्रणाली, इंजन एवं प्रपल्शन सिस्टम, हवाई निगरानी प्रणाली, सेंसर इलेक्ट्रॉनिक युद्धक व संचार प्रणाली, पैराशूट और ड्रॉप सिस्टम, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मशीन लर्निंग व साइबर प्रणालियां, सामग्री, लैंड सिस्टम तथा युद्ध सामग्री, जीवन सहयोगी सेवाएं और उद्योग एवं शैक्षणिक आउटरीच शामिल हैं।

12 क्षेत्रों में से प्रत्येक में ये प्रमुख उत्पाद हैं: एएमसीए, एलसीए तेजस एमके2, टीईडीबीएफ, आर्चर, तपस अनमैन्ड एरियल व्हीकल, अभ्यास, लड़ाकू विमान और यूएवी क्षेत्र से स्वायत्त स्टील्थ विंग फ्लाइंग टेस्ट बेड; मिसाइल तथा सामरिक प्रणाली क्षेत्र से आकाश, अस्त्र, क्यूआरएसएएम, हेलिना, नाग, प्रलय; एफएसीईसीयू, गियरबॉक्स मॉड्यूल, कावेरी ड्राई इंजन प्रोटोटाइप, इंजन और प्रोपल्शन ज़ोन से छोटा टर्बो फैन इंजन; एईडब्ल्यूएंडसी-नेत्र, एईडब्ल्यूएंडसी-एमके II, एमएमएमए विमान, आईएफएफ, हवाई निगरानी प्रणाली क्षेत्र से एएएयू मॉडल; टीडब्ल्यूआईआर, बीएफएसआर-एसआर, भरणी, अश्लेषा, आत्रु, एएसपीजे पॉड, सेंसर्स इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर एंड कम्युनिकेशंस सिस्टम्स ज़ोन से एलईओपी; मिलिट्री कॉम्बैट पैराशूट सिस्टम, ब्रेक पैराशूट, पैराशूट और ड्रॉप सिस्टम्स ज़ोन से पी-16 हैवी ड्रॉप सिस्टम; हेलीकॉप्टर मॉडल के साथ एयरबोर्न सोनार, नवल सिस्टम्स ज़ोन से एयर लॉन्चड डायरेक्शनल सोनोबॉय; डीडीसीए, इंडिजिस, एयर वारफेयर सिमुलेशन सिस्टम, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मशीन लर्निंग एंड साइबर सिस्टम ज़ोन से क्यूआरएनजी; सामग्री क्षेत्र से एफएसएपीडीएस, टाइटेनियम मिश्रित धातु; एएसआरईएम, निगरानी आरओवी, भूमि प्रणाली और युद्ध सामग्री क्षेत्र से सुमित्रा; इंटीग्रेटेड लाइफ सपोर्ट सिस्टम, लाइफ सपोर्ट सर्विसेज ज़ोन से हेलीकॉप्टर ऑक्सीजन सिस्टम और उद्योग एवं शैक्षणिक आउटरीच जोन से वान्केल रोटरी इंजन, जेट फ्यूल स्टार्टर, रेडियो अल्टीमीटर। भारतीय पवेलियन में डीआरडीओ के पांच उत्पाद प्रदर्शित होंगे। इनमें एईडब्ल्यूसीएंडसी-एमके II, एएमसीए, एलसीए तेजस एमके2, टीईडीबीएफ और आर्चर (इमेज इंटेलिजेंस विद वेपन पेलोड्स) शामिल हैं।

इस मेगा शो में डीआरडीओ की भागीदारी एलसीए तेजस, एलसीए तेजस पीवी6, एईडब्ल्यूएंडसी-नेत्र और तपस यूएवी के उड़ान प्रदर्शन द्वारा की जाएगी। स्टैटिक डिस्प्ले में एलसीए तेजस एनपी1/एनपी5 और एईडब्ल्यूएंडसी-नेत्र भी शामिल हैं। इस भागीदारी को स्वदेशी मीडियम एल्टीट्यूड लॉन्ग एंड्यूरेंस क्लास यूएवी तापस-बीएच (उन्नत निगरानी के लिए टैक्टिकल एरियल प्लेटफॉर्म - बियॉन्ड होराइजन) के उड़ान की शुरुआत से भी प्रदर्शित किया जाएगा। तपस-बीएच अपनी क्षमताओं को दर्शायेगा और व्यावसायिक दिनों में स्टैटिक के साथ-साथ हवाई प्रदर्शनों को भी कवर करेगा और इस दौरान हवाई वीडियो को पूरे आयोजन स्थल पर लाइव स्ट्रीम किया जाएगा। तपस डीआरडीओ की तीनों सेवाओं आईस्टार आवश्यकताओं का समाधान है। यूएवी 18 से अधिक घंटे की समय की स्थायित्व क्षमता के साथ 28000 फीट की ऊंचाई पर कार्य करने में सक्षम है।

डीआरडीओ इस आयोजन के दौरान दो सेमिनार भी आयोजित कर रहा है। एयरो इंडिया इंटरनेशनल सेमिनार का 14वां द्विवार्षिक संस्करण 'एयरोस्पेस एंड डिफेंस टेक्नोलॉजीज - वे फॉरवर्ड' विषय पर 12 फरवरी को एयरोनॉटिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के सहयोग से सीएबीएस, डीआरडीओ द्वारा आयोजित किया जा रहा है। यह सेमिनार एक प्रमुख कार्यक्रम है, जिसे एयरो इंडिया के प्रीक्वल के रूप में आयोजित किया जाता है। डीआरडीओ, भारतीय वायु सेना, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों एवं प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों के कई प्रतिष्ठित मुख्य वक्ता एयरोस्पेस और रक्षा में अत्याधुनिक तकनीकों तथा उन्नति के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए भाग लेंगे। डीआरडीओ संगोष्ठी के दौरान विमानन और एयरोस्पेस (आईडब्ल्यूपीए) में भारतीय महिला पेशेवरों को भी सम्मानित करेगा।

दूसरा सेमिनार 14 फरवरी को डीआरडीओ के एरोनॉटिक्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट बोर्ड (एआरएंडडीबी) द्वारा आयोजित किया जा रहा है। रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह इसका उद्घाटन रकरेंगे और इस दौरान रक्षा राज्य मंत्री श्री अजय भट्ट विशिष्ट अतिथि होंगे। कार्यक्रम का विषय 'स्वदेशी एयरो इंजनों के विकास के लिए आगे की राह सहित फ्यूचरिस्टिक एयरोस्पेस प्रौद्योगिकियों का स्वदेशी विकास' है। इस बैठक में प्रतिष्ठित प्रतिभागियों में अकादमिक, भारतीय निजी उद्योग, स्टार्ट-अप, पीएसयू और डीआरडीओ के सदस्य शामिल हैं।

14 फरवरी को संगोष्ठी के दौरान कई गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। मिग-29के के लिए स्वास्थ्य उपयोग एवं निगरानी प्रणाली, नौसेना स्टाफ के उप प्रमुख को सौंपी जाएगी, इसे प्रौद्योगिकी विकास निधि (टीडीएफ) के माध्यम से विकसित किया गया है। इसके अलावा कई अन्य गतिविधियां आयोजित होंगी अर्थात् तेजस के एएमएजीबी में सीवीआरडीई द्वारा विकसित एयरक्राफ्ट बियरिंग्स के लिए सीईएमआईएलएसी प्रमाणपत्र सौंपना; सिस्टम फॉर एडवांस मैन्युफैक्चरिंग असेसमेंट एंड रेटिंग हेतु एक वेब पोर्टल (www.samar.gov.in) का शुभारंभ; डीआरडीओ एक्सपोर्ट कम्पेंडियम, डीआरडीओ मोनोग्राफ 'नॉन डिस्ट्रक्टिव इवैल्यूएशन ऑफ सॉलिड रॉकेट्स एंड मिसाइल सिस्टम्स, एरोनॉटिक्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट बोर्ड की मैगजीन 'पुष्पक 2022' तथा डीआरडीओ एक्सपोर्ट कॉम्पेंडियम का विमोचन। डीआरडीओ सेमिनार के दौरान 15 उद्योगों को डीआरडीओ द्वारा विकसित 11 प्रौद्योगिकियों के लिए प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण के उद्देश्य से 16 लाइसेंसिंग समझौते (एलएटीओटी) भी सौंपेगा।

एयरो इंडिया 2023 में डीआरडीओ की भागीदारी भारतीय एयरोस्पेस समुदाय के लिए आत्मनिर्भरता एवं राष्ट्रीय गौरव की भावना के साथ सैन्य प्रणालियों तथा प्रौद्योगिकियों के स्वदेशी विकास को बढ़ावा देने का एक उत्कृष्ट अवसर है। यह सहयोग के लिए एक मंच प्रदान करेगा और स्वदेशी रक्षा उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के उद्देश्य से नए अवसर भी विकसित करेगा। प्रणालियों और प्रदर्शनीय वस्तु को समझाने तथा दर्शाने के लिए वैज्ञानिकों के साथ विभिन्न सत्रों में बातचीत की उम्मीद की जाती है।

*********

एमजी/एएम/एनके/डीवी



(Release ID: 1897821) Visitor Counter : 518


Read this release in: English , Urdu