नीति आयोग

तेलंगाना की 4 प्रेरक महिलाओं को नीति आयोग द्वारा वुमन ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया अवार्ड्स के पांचवें संस्करण में सम्मानित किया गया


भारत की आजादी के 75वें वर्ष में 75 महिलाओं को किया गया सम्मानित 

Posted On: 23 MAR 2022 5:08PM by PIB Delhi

भारत को 'सशक्त और समर्थ भारत' बनाने की दिशा में महिलाएं लगातार महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। विभिन्न क्षेत्रों में इन महिलाओं की उल्लेखनीय उपलब्धियों को ध्यान में रखते हुए नीति आयोग ने वुमन ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया अवार्ड्स की स्थापना की है।

इस वर्ष, भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष मनाने के लिए आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में, 75 महिलाओं को डब्ल्यूटीआई पुरस्कार प्रदान किए गए। इन 75 पुरस्कार विजेताओं में से तेलंगाना राज्य की 4 महिलाओं को सम्मानित किया गया। अन्य पुरस्कार प्राप्त विजेताओं के बारे में जानने के लिए यहां पर क्लिक करें

विजया स्विथा, हैदराबाद, चित्रिका

विजया स्विथा ने चित्रिका की शुरुआत आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में कारीगर समुदायों के साथ मिलकर काम करने के लिए की, जिसमें महिलाओं के स्वामित्व और सामुहिक प्रबंधन वाले समूह शामिल थे। उनका मुख्य लक्ष्य कारीगरों के साथ मिलकर काम करना है, जिससे स्थायी और सफल व्यावसायिक उद्यमों का सह-निर्माण किया जा सके जो स्वयं कारीगरों के स्वामित्व और संचालन के अंतर्गत आते हैं। वे कारीगरों को संगठित होने के लिए सक्षम बनाते हैं, उनकी आय को बढ़ावा देते हैं, बाजार के क्रिया-कलापों का प्रबंधन करते हैं और उनके व्यावसायिक कौशल का निर्माण करते हैं और उनमें सुधार लाते हैं।

कारीगरों की आय में बढ़ोत्तरी करने के लिए चित्रिका प्रौद्योगिकी, प्रबंधन, कौशल और डिजाइन विविधता का उपयोग करने में अग्रणी है।

अनु आचार्य, हैदराबाद, मैपमायजिनोम इंडिया लिमिटेड

मैपमायजिनोम™ एक आणविक निदान कंपनी है, जो लोगों को उनके स्वास्थ्य के प्रति सक्रिय रहने के लिए प्रोत्साहित करती है। वे आनुवंशिक रिपोर्ट और स्वास्थ्य विवरण को मिलाकर हमारे स्वास्थ्य के प्रति अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं, जिसमें लक्षण, दवा की प्रतिक्रिया, वंशागत प्राप्त स्थितियां और बीमारियां शामिल हैं।

अनु आचार्य, मैपमाइजिनोम इंडिया लिमिटेड की संस्थापक और सीईओ  का उद्देश्य जीनोमिक्स का उपयोग करके पूरी दुनिया में 100 मिलियन से ज्यादा लोगों को व्यक्तिगत स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना और वर्ष 2030 तक कम से कम 1 मिलियन लोगों के जीवन को सुरक्षित बनाना है।

उनकी पेटेंट सेवा, जीनोमपत्री™ जीवन शैली से जुडी हुई बीमारियों का आनुवंशिक जोखिम, लक्षणों की प्रवृति, वाहक की स्थिति और दवा की प्रतिक्रियाओं का एक व्यापक मूल्यांकन है। यह किसी व्यक्ति का अद्वितीय स्वास्थ्य प्रोफ़ाइल होता है, जिस पर वे अपना ध्यान केंद्रित करते हैं।

आनुवंशिक रिपोर्ट और स्वास्थ्य विवरण को मिलाते हुए आनुवांशिक परामर्श के साथ, मैपमायजिनोम™ किसी भी व्यक्ति के लिए स्वस्थ रहने की दिशा में व्यवहारिक कदम प्रदान करता है।

रूपा मागंती, ग्रीनतत्व एग्री टेक एलएलपी

ग्रीनतत्व एक सामाजिक उद्यम है, जिसका विश्वास है कि प्राकृतिक खेती स्थिरता में अपना योगदान देती है। रूपा मागंती जमीनी स्तर पर आजीविका उत्पन्न करके और अपने ब्रांड 'सुधन्या' के माध्यम से गैर-हानिकारक भोजन प्रदान करके अपने उपभोक्ताओं को स्वस्थ रखते हुए ग्रामीण महिलाओं को सहायता प्रदान करती हैं। वे तीन आधारशिलाओं - किसानों, कृषि उद्यमियों और उपभोक्ताओं को आपस में जोड़ते हैं और क्लस्टर-आधारित पद्धति के माध्यम से खाद्य आपूर्ति श्रृंखला में कार्बन फुटप्रिंट में कमी लाते हैं। सैटेलाइट इमेजरी के माध्यम से उनके खेतों को जियोटैग प्रदान करते हैं, उन्हें मिट्टी के स्वास्थ्य, मौसम और जल संसाधनों को समझने की अनुमति देते हैं और वैज्ञानिक और व्यवस्थित खेती में किसानों को सहायता प्रदान करते हैं। ग्रीनतत्व गुणवत्ता नियंत्रण, पैकेजिंग, ब्रांडिंग और बाजार तक पहुंच प्रदान करते हुए अनाज प्रसंस्करण और मूल्यवर्धित उत्पादों के उत्पादन में लगे हुए ग्रामीण कृषि उद्यमियों को समर्थन प्रदान करता है।

ग्रीनतत्व 5पी- प्लेनेट, पीपुल, प्रॉस्पेरिटी, पीस, पार्टनरशिप के सहजीविता के साथ एक समग्र, चिरस्थायी विकास को बढ़ावा देने की कल्पना करता है।

तनुजा अब्बुरी, हैदरबाद, ट्रांसफॉर्मेशन स्किल्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (बियॉन्ड पिंक्स)

एक सच्चे पथप्रदर्शक, तनुजा को प्रतिभाओं का विकास और पोषण करने की दिशा में कई उल्लेखनीय माइल्स्टोन स्थापित करने और योगदान देने के लिए जाना जाता है। एक उद्यमी के रूप में और ट्रांसफॉर्मेशन स्किल्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (बियॉन्ड पिंक्स) के संस्थापक के रूप में अपने वर्तमान अवतार में, उन्होंने प्रतिभाओं का विकास करने में अपने उत्साह और विशेषज्ञता का फायदा उठाया है, जिससे महिलाओं को अपने करियर को पोषित करने, अपनी नौकरी पर वापस लौटने और अपने करियर को विकसित करने के लिए एक सहायता प्रणाली प्रदान की जा सके। नीति आयोग द्वारा समर्थित उनका संगठन एक तकनीकी-सक्षम परामर्श समाधान है, जो जमीनी स्तर पर महिलाओं को प्राथमिकता प्रदान करते हुए डी एंड आई चुनौती का निराकरण करने के लिए डिजाइन थिंकिंग का उपयोग करता है। अब तक उन्होंने 4,000 से ज्यादा महिलाओं को परामर्थ दिया है और हाइसा और एनएचआरडी जैसे औद्योगिक निकायों के साथ महत्वपूर्ण साझेदारी की है।

बियॉन्ड पिंक, एक सर्व-महिला संगठन है, जो 50 से ज्यादा परामर्थ क्षेत्रों में परामर्श देता है और 60 से ज्यादा ब्लू-चिप संगठनों के 150 से ज्यादा सलाहकारों के साथ महिलाओं को समर्थन प्रदान करता है। उनका दृष्टिकोण 2022 तक 10,000 लोगों और 2025 तक 1 लाख लोगों के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालना है।

********

एमजी/एएम/एके/डीवी



(Release ID: 1808904) Visitor Counter : 194


Read this release in: English , Telugu