वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय

ब्रिक्सदेशों के वाणिज्य मंत्रियोंकी बैठकमेंई-कॉमर्स के तहत व्यावसायिक सेवाओंके व्यापर, आनुवांशिक संसाधनों और उपभोक्ता संरक्षण से जुड़े सहयोग के नए क्षेत्रों को मजबूती मिली


खाद्य सुरक्षासे जुड़े उद्देश्यों के लिए “सार्वजनिक स्टॉक होल्डिंग”कार्यक्रमों के स्थायी, पर्याप्त और न्यायसंगत समाधान की जरूरत – ब्रिक्सदेशों के वाणिज्य मंत्रियोंकी बैठक में श्री पीयूष गोयल

टीकों, चिकित्सीय और नैदानिकमामलों में ट्रिप्स संबंधी छूट के प्रस्ताव पर शीघ्र निर्णयकी जरूरत- श्री गोयल

ब्रिक्स देशों नेव्यावसायिक सेवाओं केव्यापार में सहयोग से संबंधितरूपरेखा का समर्थन किया

ब्रिक्स के सभी सदस्यदेशों के बीचपहली बार आनुवांशिक संसाधनों के संरक्षण की दिशा में संयुक्त रूप से काम करने कीआम सहमति बनी

ब्रिक्सदेशों के वाणिज्यमंत्रियों की 11वीं बैठक (वर्चुअल) कल (3सितंबर 2021)देर शाम आयोजित की गई

ब्रिक्स देशों के व्यापार मंत्रियों ने 2021 में भारत द्वाराब्रिक्स की अध्यक्षता के दौरान कई मुद्दों पर सहयोग और कार्य योजना का समर्थन किया

Posted On: 04 SEP 2021 4:57PM by PIB Delhi

ब्रिक्सदेशों के वाणिज्यमंत्रियों की 11वीं बैठक 3 सितंबर, 2021 को भारत की अध्यक्षता में आभासी प्रारूप में आयोजित की गई।वाणिज्य एवंउद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्रीश्री पीयूष गोयल ने इस बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में ब्रिक्स देशों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) के वाणिज्यएवंआर्थिक मंत्रियों ने भाग लिया।

केन्द्रीयमंत्री श्री पीयूष गोयल ने भारत की आजादी की 75वींवर्षगांठ – ‘आजादी का अमृत महोत्सव’के समय आयोजित होने वाली इस बैठक के अपने उद्घाटन भाषण में अपने समकक्षमंत्रियोंका स्वागत किया।

कोविड-19 के प्रभावोंका उल्लेख करते हुए, उन्होंने टीकाकरण के मामले में हासिल की गई उल्‍लेखनीय उपलब्धियों के साथ-साथ इसमहामारी के प्रभाव को दूर करने के लिए दी गई महत्वपूर्ण वित्तीय और मौद्रिक सहायता सहित भारत द्वारा की गई विभिन्न तत्काल सहायक कार्रवाइयों का उल्लेख किया। उन्होंने ब्रिक्स देशों सेबहुपक्षीय प्रणाली, जिसके मूल में विश्व व्यापार संगठन है, को मजबूत करने के लिए मिलकर काम करने और विकासशील देशों तथाकम विकसित देशों की विकासात्मक जरूरतों को ध्यान में रखते हुए आगामी विश्व व्यापार संगठनकेमंत्रिस्तरीय सम्मेलन (एमसी12) मेंएकसंतुलित और समावेशी निर्णयों की जरूरतपर जोर दिया। उन्होंने विशेष एवंविभेदक व्यवहारके सिद्धांतों और “साझालेकिन विभेदित जिम्मेदारी”पर प्रकाश डाला। उन्होंने अन्य बातों के अलावा, खाद्य सुरक्षा से जुड़े उद्देश्यों के लिए सार्वजनिक स्टॉक होल्डिंग कार्यक्रमों के स्थायी, पर्याप्त और न्यायसंगत समाधान; टीकों, चिकित्सीय और नैदानिक मामलों में ट्रिप्स संबंधी छूट के प्रस्ताव पर शीघ्र निर्णय; डेटा सुरक्षा और साइबर सुरक्षा से जुड़ीचुनौतियों का समाधान ढूंढते हुए तेजी से बदलती दुनिया में उभरती हुई नई प्रौद्योगिकियों को अपनाने; और खपत एवंउत्पादन के टिकाऊ पैटर्न को सुनिश्चित करने की जरूरतपर भी जोर दिया।

श्री गोयल ने कहा कि कोविड -19 महामारी और उससे जुड़ेयात्रा संबंधी प्रतिबंधों के कारणउत्पन्नकई चुनौतियों और बाधाओं के बावजूदभारत ब्रिक्स देशों के बीच कार्य और सहयोग के नए क्षेत्रों के लिए आम सहमति बनाने में सफल रहा है।विश्व व्यापार संगठनकेमंत्रिस्तरीय सम्मेलन (एमसी-12)के लिएबहुपक्षीय व्यापार प्रणाली के मुद्दे पर एक साझादृष्टिकोणविकसित करने जैसी अन्य बातों के अलावाब्रिक्स देशों के बीच पहली बार साझा समझ के परिणामस्वरूपउपभोक्ता संरक्षण, ई-कॉमर्स, आनुवांशिक संसाधनों और पारंपरिक ज्ञान, व्यावसायिकसेवाओंके क्षेत्रमें सहयोग से संबंधित कई नई घोषणाएं हुईं।

ब्रिक्स देशों ने घरेलू क्षमता और वैश्विक प्रतिस्पर्धा को बढ़ाने, ब्रिक्सदेशों के भीतर पेशेवरों की आवाजाही को बढ़ावा देने में भागीदारी और ब्रिक्सदेशों के भीतर व्यावसायिकसेवाओं को बढ़ाने के उद्देश्यों के साथ व्यावसायिक सेवाओं केव्यापार में सहयोग से संबंधित रूपरेखा का समर्थन किया। यह निश्चित रूप से इस इलाकेमें आपसी हित के क्षेत्रों या उप-क्षेत्रों में सहयोग को आगे बढ़ाने की दिशा मेंएक कदम है।

ब्रिक्स के सभी सदस्यदेशों के बीचपहली बार आनुवांशिक संसाधनों, पारंपरिक ज्ञान और पारंपरिक सांस्कृतिक अभिव्यक्तियों के संरक्षण की दिशा में संयुक्त रूप से काम करने कीआम सहमति बनी ताकि संसाधन की उत्पत्ति के स्रोत के अनिवार्य प्रकटीकरणऔर पूर्व सूचित सहमति और पहुंच तथा लाभ साझा करने से संबंधितप्रमाणके प्रकटीकरणके माध्यम से इसके दुरुपयोग से जुड़ेमुद्दोंका समाधानकिया जा सके। इससे इस मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय मंचों पर साथ मिलकर चलने में भी मदद मिलेगी।

ई-कॉमर्स और ऑनलाइन इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन के उपयोग में तेजी से आए उछाल के इस युग में, ब्रिक्स देशों के बीच एक साझाकार्य योजना तैयार करने के बारे में बनी सहमतिउपभोक्ता संरक्षण सुनिश्चित करने की दिशा मेंव्यावहारिक विकल्पों की खोज को बढ़ावा देने में मदद करेगी।

ब्रिक्स की अध्यक्षता के लिए भारत द्वारा चुना गया विषय है -  ब्रिक्स@15: निरंतरता, समेकन और आम सहमति की दिशा मेंब्रिक्स देशों के भीतर सहयोग। इस अवधिके दौरान, भारत ने ब्रिक्स व्यापार मेलेके दूसरे संस्करण के (वर्चुअल मोड में)आयोजनसहित विभिन्न गतिविधियों का सफलतापूर्वक संचालन किया है।यह व्यापार मेला भारत द्वारा ब्रिक्स देशों के बीचएक अनूठा आयोजन है, जिसमें ब्रिक्स देशों की 600 से अधिक कंपनियों ने अपने उत्पादों और सेवाओं का प्रदर्शन किया। सेवा व्यापार सांख्यिकी से जुड़ीकार्यशालाओं ने सेवाओं के डेटा संकलन पद्धतियों में मौजूद खाईको पाटने के लिए उत्कृष्टउपायोंको साझा करने और एक दूसरे से सीखने में सक्षम बनाया। एमएसएमई गोलमेज सम्मेलन ब्रिक्स देशों के बीच उत्कृष्टउपायोंको सीखने के माध्यम से सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यमोंसे जुड़े हितोंको बढ़ावा देने के लिए आयोजित किया गया था। भारत ने ब्रिक्स देशों के बीचव्यापारिकसहयोग को आगे बढ़ाने के लिए ब्रिक्स व्यापार परिषद और ब्रिक्स महिला व्यापार गठबंधन के माध्यम से कई बी2बी कार्यक्रम आयोजित किए हैं।

ब्रिक्सदेशों के वाणिज्यमंत्रियों ने इन पहलों के माध्यम से ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए भारत की सराहना की। इन मंत्रियों ने 11वें ब्रिक्स देशों के वाणिज्य मंत्रियों की संयुक्त विज्ञप्ति और भारत द्वारा प्रस्तावित पांच अन्य दस्तावेजों को स्वीकृत किया। ब्रिक्स देशों के माननीय मंत्रियों ने अपनेसामानोंऔर सेवाओं को वैश्विक स्तर परप्रतिस्पर्धी बनाने औरआगे वैश्विक मूल्य श्रृंखला में उनका समेकनकरने के साझा लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में ब्रिक्सदेशों के भीतर आपसीसहयोग को मजबूत करने के महत्व को स्वीकार किया।

श्री पीयूष गोयल द्वारा ब्रिक्स एजेंडा को आगे बढ़ाने में ब्रिक्स देशों के समर्थन के लिए उन्हें धन्यवाद देने और आगामी जी -20 तथा एमसी -12 के वाणिज्यमंत्रियों की बैठकों में मिलने की उम्मीद व्यक्त करने के साथइस बैठक का समापन हुआ।

 

****

एमजी / एएम / आर/वाईबी



(Release ID: 1752152) Visitor Counter : 365


Read this release in: English , Urdu , Marathi , Tamil