पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय

अगले 24 घंटों के दौरान जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में छिटपुट से लेकर दूर-दूर तक वर्षा होने/गरज के साथ बर्फबारी, बिजली चमकने/तेज हवाएं चलने की संभावना


08 से 11 अप्रैल के दौरान पूर्वोत्तर भारत में छिटपुट से व्यापक वर्षा के साथ-साथ गरज के साथ छींटे, बिजली चमकने और तेज हवाएं चलने की संभावना

08 से 09 अप्रैल को असम और मेघालय में गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने और तेज आंधी की संभावना, 09 से 10 अप्रैल को नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा और 09 से 10 अप्रैल को अरूणाचल प्रदेश में भी भारी वर्षा होने की संभावना

अगले 48 घंटों के दौरान पूर्वी मध्य प्रदेश और झारखंड के अलग-अलग स्थानों पर लू जैसी स्थिति की संभावना, जबकि अगले 24 घंटों के दौरान पश्चिमी मध्य प्रदेश, पूर्वी विदर्भ, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और बिहार में भी लू चलने की संभावना

Posted On: 07 APR 2021 5:07PM by PIB Delhi

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केन्‍द्र के अनुसार:-

मौसम की महत्‍वपूर्ण विशेषताएं

  • मध्‍य समुद्र स्तर से 5.8 किलोमीटर की ऊंचाई के साथ मध्य समुद्र स्तर से 3.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर जम्मू-कश्मीर और इससे सटे इलाकों के ऊपर पश्चिमी विक्षोभ एक गर्त के रूप में 32 ° एन  उत्तर देशांतर से 72 ° ई  अक्षांश के साथ आगे बढ़ेगा और उत्तर प्रदेश एवं इससे सटे निचले क्षेत्रों के ऊपर एक चक्रवाती हवा का दबाव बना हुआ है। इन दबावों के कारण जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में अगले 24 घंटों के दौरान 30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के  साथ भारी वर्षा, बर्फबारी और बिजली चमकने की संभावना है।
  • पूर्वी मध्य प्रदेश और झारखंड में अगले 48 घंटों के दौरान अलग-अलग स्थानों पर लू जैसी स्थिति बनने और अगले 24 घंटों के दौरान पश्चिमी मध्य प्रदेश, पूर्वी विदर्भ, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और बिहार में अलग-अलग स्थानों पर लू चलने की संभावना है।
  • झारखंड और इससे सटे उत्तरी छत्तीसगढ़ के निचले इलाकों में एक चक्रवाती वायु दबाव के बनने और समुद्र स्तर से 2.1 किलोमीटर ऊपर 85 ° ई और  उत्तर देशांतर से 22 ° एन अक्षांश में तेज पश्चिमी हवाओं के चलने की संभावना है। अगले 24 घंटों के दौरान इसके पूर्व दिशा की ओर बढ़ने की संभावना है। बंगाल की खाड़ी के निचले  क्षोभमंडलीय स्तर में नमी बढ़ने के कारण इन प्रणालियों के होने की संभावना हैः

 

i) 08 से 11 अप्रैल के दौरान पूर्वोत्तर भारत में छिटपुट से लेकर व्यापक स्तर पर वर्षा और गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने और तेज हवाएं (30-40 प्रति घंटे की रफ्तार से हवा) चलने की संभावना है। 08 से 09 अप्रैल के बीच असम और मेघालय में गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने और तेज आंधी (50-60 प्रति घंटे की रफ्तार से हवा) चलने की संभावना है और 09 अप्रैल को नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में भी ऐसी ही मौसम की परिस्थितियां बनने की संभावना है, जबकि 09 से 10 अप्रैल, 2021 को अरूणाचल प्रदेश में कुछ स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है।

 

ii) 08-11 अप्रैल के दौरान मध्य भारत और इससे सटे पूर्वी भारत में गरज के साथ छींटे पड़ने, छिटपुट से अलग-अलग स्थानों पर वर्षा होने के साथ-साथ तेज आंधी ((30-40 प्रति घंटे की रफ्तार से हवा) चलने की संभावना है। 10 अप्रैल, 2021 को छत्तीसगढ़ के अलग-अलग क्षेत्रों में ओलावृष्टि की संभावना है।

 

मौसम के मुख्‍य आकलन

  • कल 08.30 बजे आईएसटी से आज 08.30 बजे आईएसटी तक जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश एवं पंजाब के अधिकांश स्थानों जबकि उत्तराखंड के कुछ स्थानों और हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, असम, मेघालय, कोंकण और गोवा, दक्षिण मध्य महाराष्ट्र, तेलंगाना, तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल, केरल और माहे एवं अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में छिटपुट स्‍थानों पर बारिश होने/ गरज के साथ बारिश होने का पता चला है।
  • कल 08.30 बजे आईएसटी से आज 08.30 बजे आईएसटी तक (2 सेंटीमीटर या अधिक) काज़ीगंड, बनिहाल में 5 सेंटीमीटर, मनाली में 4 सेंटीमीटर, गुलमर्ग, पहलगांव और बटोटे में 3 सेंटीमीटर और कुपवाड़ा, श्रीनगर, कोकरनाग, भद्रवाह, धर्मशाला, कलपा और भुंटर में 2 सेंटीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई।
  • कल 08.30 बजे आईएसटी से आज 08:30 बजे आईएसटी तक : जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, केरल, उत्तरी अंदरूनी कर्नाटक, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ छींटे पड़े।
  • पूर्वी राजस्थान के कुछ स्थानों और उत्तर-पश्चिम राजस्थान, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, विदर्भ और उत्तर मध्य प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर कल कुछ क्षेत्रों में हीट वेव की स्थिति देखी गई।
  • 06-04-2021के अनुसार अधिकतम तापमान – असम और मेघालय एवं अरूणाचल प्रदेश के कुछ स्थानों पर सामान्‍य से अधिक (5.1 डिग्री सेल्सियस या अधिक) तापमान रिकॉर्ड किया गया; पूर्वी राजस्थान, उत्तराखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश, झारखंड और पूर्वी मध्य प्रदेश के बहुत से स्थानों पर सामान्य से ऊपर (3.1° सी से 5.0 ° सी तक) तापमान दर्ज किया गया; पश्चिमी राजस्थान और पश्चिमी मध्य प्रदेश के कुछ स्थानों, सौराष्ट्र और कच्छ, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु के अलग-अलग स्थानों पर भी इसी तरह का तापमान दर्ज किया गया; हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली एवं विदर्भ के अधिकांश स्थानों पर सामान्य से ऊपर (1.6° सी से 3.0 ° सी तक) तापमान दर्ज किया गया; गुजरात क्षेत्र, कोंकण और गोवा, उप-हिमालय, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और तटीय कर्नाटक में बहुत से स्थानों, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा और उत्तर अंदरुनी कर्नाटक में कुछ स्थानों, गंगीय पश्चिमी बंगाल, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा एवं केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर सामान्य से ऊपर (1.6° सी से 3.0 ° सी तक) तापमान दर्ज किया गया; हिमाचल प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर तापमान सामान्य से कम (-5.1° सी अथवा कम) दर्ज किया गया। जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद में तापमान सामान्य से कम (-3.1° सी से -05.0° सी) दर्ज किया गया। तटीय आंध्र प्रदेश और यनम के अलग-अलग स्थानों पर तापमान सामान्य के आसपास रहा। देश भर में कल उत्तर प्रदेश के बांदा में सर्वाधिक अधिकतम तापमान 44.0 ° सी दर्ज किया गया।
  • 07-04-2021 के अनुसार न्यूनतम तापमान: पूर्वी उत्तर प्रदेश के अलग-अलग स्थानों में न्यूनतम तापमान सामान्य से कुछ अधिक (5.1° सी अथवा अधिक) दर्ज किया गया है। उत्तराखंड के अधिकांश स्थानों, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों और मध्य महाराष्ट्र एवं पश्चिमी राजस्थान और मध्य प्रदेश के अलग-अलग स्थानों उत्तर अंदरुनी कर्नाटक के अधिकांश स्थानों, हरियाणा के बहुत से स्थानों, चंडीगढ़ और दिल्ली, छत्तीसगढ़, झारखंड और तटीय कर्नाटक, ओडिशा के कुछ स्थानों, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, गुजरात, बिहार, पश्चिमी बंगाल और सिक्किम के अलग-अलग स्थानों पर तापमान सामान्य से अधिक (1.6° सी से 3.0 ° सी तक) दर्ज किया गया है। तेलंगाना के अलग-अलग स्थानों में तापमान सामान्य से कम (-3.1° सी से -5.0 ° सी तक) दर्ज किया गया है। रॉयलसीमा, तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल एवं जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद के कुछ स्थानों एवं तटीय आंध्र प्रदेश और यनम के अलग-अलग स्थानों पर तापमान सामान्य से कम (-1.6° सी से -3.0 ° सी तक) दर्ज किया गया है। देश के मैदानी क्षेत्रों में आज पंजाब के अमृतसर में सबसे न्यूनतम तापमान 14.6° सी दर्ज किया गया।

 

मौसम संबंधी विश्लेषण (0830 आईएसटी पर आधारित)

  • पश्चिमी विक्षोभ के कारण जम्मू और कश्मीर एवं इससे सटे क्षेत्रों के ऊपर चक्रवाती दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। यह 72° ई  और 32° एन पर मध्य समुद्र स्तर से करीब 5.8 किलोमीटर ऊपर के अक्षांश के साथ मध्य ऊपरी भूमंडलीय क्षेत्र में मध्य समुद्र स्तर से 3.1 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
  • पंजाब और इसके आसपास के क्षेत्रों में बना चक्रवाती दबाव अब पश्चिमी उत्तर प्रदेश और इसके आसपास के क्षेत्रों की ओर बढ़ गया है और यह समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
  • समुद्र तल से करीब 2.1 किलोमीटर ऊपर 85 ° ई  और 22 ° एन अक्षांश पर तीव्र पश्चिमी हवा का चलना जारी है।
  • कोमोरिन क्षेत्र और इससे सटे इलाकों के ऊपर बना चक्रवाती हवा का दबाव आगे बढ़ गया है और यह समुद्र तल से करीब 0.9 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
  • कोमोरिन क्षेत्र और इससे सटे इलाकों से लेकर उत्तर अंदरुनी कर्नाटक के ऊपर बना पश्चिमी चक्रवाती हवा का दबाव आगे बढ़ गया है और यह समुद्र तल से करीब 0.9 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
  • दक्षिणी अंडमान समुद्र और इससे सटे उत्तरी सुमात्रा तट में बना चक्रवाती हवा का दबाव समुद्र तल से करीब 1.5 किलोमीटर ऊपर की ओर विस्तारित हो गया है।
  • झारखंड और इससे सटे उत्तरी छत्तीसगढ़ पर बना चक्रवाती हवा का दबाव समुद्र तल से करीब 0.9 और 1.5 किलोमीटर ऊपर स्थित है।
  • एक ताजे पश्चिमी विक्षोभ से 10 अप्रैल, 2021 की रात्रि से पश्चिमी हिमालय क्षेत्र के प्रभावित होने की संभावना है।
  • समुद्र तल से 3.1 किलोमीटर ऊपर 89° ई  और 25° एन अक्षांश पर पश्चिमी तेज हवाओं का दबाव कुछ कम हो गया है।
  • उत्तरी अंडमान समुद्र और इससे सटे म्यामार तट पर बना चक्रवाती हवा का दबाव आगे बढ़ गया है और यह समुद्र स्तर से 0.9 किलोमीटर  ऊपर स्थित है।
  • मौसम विभाग के उपविभाग के अनुसार विस्तृत पांच दिनों की संभावनाएं सारिणी एक में दी गई हैं।
  • अगले तीन दिनों के दौरान समूचे उत्तर पश्चिमी भारत में तापमान में 2-3 डिग्री सेल्सियस के कम होने की संभावना है।
  • मध्य भारत और अंदरुनी महाराष्ट्र में अगले 24 घंटों के दौरान अधिकतम तापमान में कोई महत्वपूर्ण बदलाव नहीं होगा और इसके बाद 2 से 4 डिग्री सेल्सियस कमी की संभावना है।
  • अगले 4 से 5 दिनों के दौरान देश के शेष हिस्सों में अधिकतम तापमना में कोई महत्वपूर्ण परिवर्तन नहीं होने की संभावना है।

 

अगले पांच दिनों के लिए मौसम का पूर्वानुमान 12 अप्रैल, 2021 को 0830 आईएसटी तक

अगले दो दिनों के लिए मौसम का पूर्वानुमान 12 अप्रैल, 2021 से 14 अप्रैल, 2021 तक

  • पूर्वोत्तर भारत, केरल और माहे, कर्नाटक और अंडमानों और निकोबार द्वीप समूह के कई क्षेत्रों में छिटपुट से व्यापक स्तर पर अथवा गरज के साथ बारिश होने और बिजली चमकने की संभावना है।
  • पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में अलग-अलग स्थानों पर छिटपुट वर्षा और बर्फबारी होने की संभावना है।
  • महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और ओडिशा के अलग-अलग हिस्सों में छिटपुट बारिश के साथ-साथ गरज के साथ छींटे पड़ने और बिजली चमकने की संभावना है।
  • देश के बाकी हिस्सों में शुष्क मौसम की संभावना है।

 

अगले पांच दिनों के दौरान मौसम की चेतावनी

7 अप्रैल, (पहला दिन)

  • उत्तराखंड के अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने और तेज आंधी (40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा) चलने की संभावना है। गंगीय पश्चिमी बंगाल, असम और मेघालय एवं केरल और माहे के अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज आंधी (30-40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा) चलने की संभावना है। जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, उप-हिमालय, पश्चिम बंगाल और सिक्किम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम एवं तेलंगाना और लक्षद्वीप में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और छिटपुट वर्षा होने की संभावना है।
  • मध्य प्रदेश, पूर्वी विदर्भ, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, बिहार और झारखंड के अलग-अलग स्थानों पर हीटवेव जैसी स्थितियों के बनने की संभावना है।
  • आंधी जैसी मौसम दक्षिणी अंडमान समुद्र के ऊपर (40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं) चलने की संभावना है।

 

08 अप्रैल (दिन 2):

  • गंगीय पश्चिम बंगाल में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने, ओलों और गरज के साथ छींटे पड़ने (50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। असम और मेघालय के अलग-अलग क्षेत्रों में बिजली चमकने और तेज गति से आंधी चलने (50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज गति से हवाएं चलने (40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। झारखंड, उप-हिमालय, पश्चिम बंगाल और सिक्किम, केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज गति से हवाएं चलने (30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। छत्तीसगढ़, ओडिशा और अरूणाचल प्रदेश में बिजली चमकने की संभावना है।
  • पूर्वी मध्य प्रदेश और झारखंड के अलग-अलग स्थानों पर हीटवेव जैसी स्थिति बनी रहने की संभावना है।

 

09 अप्रैल (दिन 3):

  • गंगीय पश्चिम बंगाल के अलग-अलग क्षेत्रों में गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने, ओलावृष्टि और तेज गति से हवाएं चलने (50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में बिजली चमकने और आंधी चलने (50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। उप-हिमालय, पश्चिम बंगाल और सिक्किम के अलग-अलग क्षेत्रों में गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने और तेज हवाएं (40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। ओडिशा के अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने, ओलावृष्टि और तेज गति से हवाएं चलने (30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, अरूणाचल प्रदेश, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम एवं केरल और माहे में बिजली चमकने और तेज हवाएं (30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, दक्षिण-मध्य महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल एवं लक्षद्वीप में बिजली चमनके की संभावना है।
  • अरूणाचल प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है।

10 अप्रैल (दिन 4):

  • छत्तीसगढ़ में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने, ओलावृष्टि और तेज गति से हवाएं चलने (30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। असम और मेघालय में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज गति से हवाएं चलने (40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। झारखंड, गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, अरूणाचल प्रदेश, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा, तटीय आंध्र प्रदेश, यनम, तेलंगाना, केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज गति से हवाएं चलने (30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, कोंकण और गोवा, दक्षिण-मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा और तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल में बिजली चमकने की संभावना है।
  • अरूणाचल प्रदेश के स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है।

 

11 अप्रैल (दिन 5):

  • असम और मेघालय में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ छींटे पड़ने, बिजली चमकने, ओलावृष्टि और तेज गति से हवाएं चलने (40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, अरूणाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर बिजली चमकने और तेज गति से हवाएं चलने (30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने) की संभावना है। जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, कोंकण और गोवा, दक्षिण-मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, तटीय आंध्र प्रदेश और यनम एवं तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल में बिजली चमकने की संभावना है।
  • उत्तर प्रदेश और राजस्थान के अलग-अलग स्थानों पर हीटवेव जैसी स्थिति बनने की संभावना है।

 

ग्राफिक विवरण के लिए यहां क्लिक करें।

स्‍थान विशेष पूर्वानुमान और चेतावनी के लिए कृपया मौसम एप डाउनलोड करें, कृषि मौसम सलाह के लिए मेघदूत एप डाउनलोड करें, बिजली गिरने की चेतावनी के लिए दामिनी एप डाउनलोड करें और जिलेवार चेतावनी के लिए राज्‍य की एमसी/आरएमसी वेबसाइट लाउनलोड करें।

***

एमजी/एएम/एसएस/एमएस



(Release ID: 1710882) Visitor Counter : 120


Read this release in: English , Kannada