पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय

यह सुनिश्चित करने के लिए कि जलवायु वार्ता के लिए कोई समानांतर ट्रैक मौलिक रूप से सहमत सिद्धांतों से अलग नहीं हों : यूएनएससी में भारत

Posted On: 23 FEB 2021 9:53PM by PIB Delhi

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में "अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए जलवायु संबंधी जोखिमों" पर आयोजित खुली बहस में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने जोर देकर कहा कि जलवायु मुद्दे पर बातचीत जलवायु कामना के लक्ष्य को 2050 तक ले जाने के लिए नहीं होना चाहिए। देशों को 2020 से पहले की प्रतिबद्धताओं को पूरा करना पर ध्यान देना चाहिए।

श्री जावड़ेकर ने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन (यूएनएफसीसीसी) और पेरिस समझौते के तहत बातचीत के मूलभूत रूप से सहमत सिद्धांतों के आधार पर राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित तरीके से जलवायु बातचीत के लिए सेंट्रल मैकेनिज्म हैं, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण "आम लेकिन विभेदित जिम्मेदारी और प्रतिक्रियाशील क्षमता" है।

श्री जावड़ेकर ने 2019 आईपीसीसी की विशेष रिपोर्ट "जलवायु परिवर्तन और भूमि" का हवाला देते हुए कहा, जिसमें कहा गया है कि समशीतोष्ण मौसम और जलवायु या धीमी गति से शुरू होने वाली घटनाओं से विस्थापन बढ़ सकता है, खाद्य श्रृंखलाओं को बाधित किया जा सकता है, आजीविका को खतरा हो सकता है, और संघर्ष के लिए तनाव बढ़ाने में योगदान कर सकता है। उन्होंने आगे कहा कि यहां तक कि सबसे बेहतर विज्ञान उपलब्ध दावे भी कहते हैं कि क्लाइमेट चेंज केवल संघर्ष को बढ़ाने का कारण बनता है और यह संघर्ष का कारण नहीं है और इससे शांति और सुरक्षा को कोई खतरा नहीं है। मंत्री ने कहा कि इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि यह सुनिश्चित किया जाए जलवायु समझौता मौलिक रूप से सहमत सिद्धांतों से अलग कोई समानांतर ट्रैक नहीं बनाया जाए।

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने कहा, "जबकि जलवायु परिवर्तन सीधे या स्वाभाविक रूप से हिंसक संघर्ष का कारण नहीं बनता है, अन्य सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक कारकों के साथ इसकी बातचीत, फिर भी, संघर्ष और नाजुकता को बढ़ा सकती है और शांति, स्थिरता और सुरक्षा पर नकारात्मक प्रभाव डालती है; और इसलिए यह ठीक है इस कारण से कि पेरिस समझौते के तहत देश के राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदानों में अनुकूलन गतिविधियों की जानकारी, और वित्त, प्रौद्योगिकी विकास और हस्तांतरण, क्षमता निर्माण और पारदर्शिता की आवश्यकता शामिल है”। इसलिए पेरिस समझौते के तहत विकासशील देश के राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान, गतिविधियों, वित्त, प्रौद्योगिकी विकास और हस्तांतरण, क्षमता निर्माण और पारदर्शिता की जानकारी शामिल है।"

श्री जावड़ेकर ने फिर दोहराया कि विकसित देशों की संयुक्त रूप से विकासशील देशों में जलवायु मुद्दे के समर्थन देने के लिए 2020 तक प्रति वर्ष 100 बिलियन डॉलर जुटाने की प्रतिबद्धता का एहसास नहीं हुआ है और यह भी कहा गया है कि राष्ट्रीय स्तर की जलवायु परिवर्तन नीति और नियोजन प्रक्रियाओं में महिलाओं की सार्थक भागीदारी को बढ़ावा देने और हाशिए पर रहने वाले समूह को समर्थन करने की तत्काल आवश्यकता है।

भारत के जलवायु अधिनियमों पर श्री जावड़ेकर ने कहा कि भारत अपने जलवायु परिवर्तन शमन नियमों को पूरा करने के लिए जी20 राष्ट्रों के बीच भारत एकमात्र देश है जो सही रास्ते पर है। हम न केवल अपने पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा कर रहे हैं, बल्कि आगे बढ़-चढ़ कर काम करेंगे।

मंत्री ने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) और आपदा निवारण सुविधा (सीडीआरआई) के लिए भारत द्वारा दो पहल जो जलवायु परिवर्तन और अनुकूलन की चुनौतियों का समाधान करने के लिए शुरू की गई हैं पर प्रकाश डाला।

कोविड-19 पर काबू पाने के बाद टिप्पणी करते हुए, श्री जावड़ेकर ने कहा कि भारत का मानना है कि देशों के लिए अपने कोविड-19 बचाव और रिकवरी उपायों और दीर्घकालिक शमन रणनीतियों में कम कार्बन उर्त्सजन को एकीकृत करने के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है, जिनकी घोषणा 2021 में पार्टियों के सम्मेलन (सीओपी26) के 26वें सत्र की जानी है।

यूनाइटेड किंगडम फरवरी 2021 के लिए यूएनएससी का अध्यक्षता कर रहा है और उनकी एक अध्यक्षता कार्यक्रम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद खुली बहस का आयोजन "अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए जलवायु संबंधी जोखिमों को संबोधित" करने पर कर रहा है।

भारतीय वक्तव्य का मूल पाठ

***********

एमजी/एएम/एके/डीसी



(Release ID: 1700389) Visitor Counter : 49


Read this release in: English , Urdu