खान मंत्रालय

महत्‍वपूर्ण खनिजों की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए केएबीआईएल की स्‍थापना

Posted On: 01 AUG 2019 5:39PM by PIB Delhi

केन्‍द्रीय कोयला, खान और संसदीय कार्य मंत्री Tश्री प्रहलाद जोशी ने कहा है कि भारत के घरेलू बाजार को महत्‍वपूर्ण खनिजों की सप्‍लाई सुनिश्चित करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के तीन केन्‍द्रीय प्रतिष्‍ठान- राष्‍ट्रीय एल्‍यूमि‍नियम कम्‍पनी लिमिटेड (नालको), हिन्‍दुस्‍तान कॉपर लिमिटेड (एचसीएल) मिनरल एक्‍सप्लोरेशन कम्‍पनी लिमिटेड (एमईसीएल) – की भागीदारी से खनिज बिदेश इंडिया लिमिटेड (केएबीआईएल) की स्‍थापना की जाएगी। उन्‍होंने कहा कि केबीआईएल देश की खनिज सुरक्षा सुनिश्चित करेगी और आयात विकल्‍प के समग्र उद्देश्‍य को पूरा करने में सहायक होगी।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001Z4L5.jpg

खान मंत्री श्री प्रहलाद जोशी संयुक्‍त उद्यम केबीआईएल समझौता हस्‍ताक्षर के अवसर पर नालको, एचसीएल तथा एमईसीएल के अध्‍यक्ष और प्रबन्‍ध निदेशकों के साथ।

       उन्‍होंने कहा कि परिवहन और मैन्‍युफैक्‍चरिंग के लिए खनिज और धातु सामग्रियों का निरंतर स्रोत आवश्‍यक है। संयुक्त राष्‍ट्र जलवायु परिवर्तन सम्‍मेलन, पेरिस, 2015 में ग्रीन हाउस गैस उत्‍सर्जन कम करने और परिवहन के हरित उपाय अपनाने के बारे में भारत की वचनबद्धता की याद दिलाते हुए श्री जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री इलेक्‍ट्रिक वाहन मोबिलिटी पर बल दे रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि बैटरी के माध्‍यम से ऊर्जा भंडारण सुनिश्चित करना महत्‍वपूर्ण है। उन्‍होंने कहा कि विमानन, रक्षा तथा अंतरिक्ष अनुसंधान में भी कम भार की और उच्‍च मैकेनिकल शक्ति के खनिजों की आवश्‍यकता होती है। महत्‍पूर्ण खनिजों के रूप में चिन्‍हित कम संसाधन आधार वाले ऐसे 12 खनिजों में लिथियम, कोबाल्‍ट महत्‍वपूर्ण हैं।

      केबीआईएल वाणिज्यिक उपयोग और घरेलू आवश्‍यकताओं के लिए विदेशों में महत्‍वपूर्ण खनिजों की पहचान, अधिग्रहण, खोज, विकास, खनन और प्रोसेसिंग का कार्य करेगी। इन खनिजों और धातुओं की सोर्सिंग का काम व्‍यापार अवसर बनाकर उत्‍पादक देशों के साथ सरकार से सरकार स्‍तर पर सहयोग करके या स्रोत देशों में इन खनिजों की खोज और खनन से की जाएगी। नई कम्‍पनी ऑस्‍ट्रेलिया, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका जैसे खनिज सम्‍पन्‍न देशों के साथ साझेदारी बनाने में मदद करेगी, जिसमें खोज तथा प्रोसेसिंग में भारतीय विशेषज्ञता पारस्‍परिक रूप से लाभकारी होगी और नए आर्थिक अवसर पैदा करेगी। नालको, एचसीएल तथा एमईसीएल के बीच इक्विटी भागीदारी 40:30:30 अनुपात में होगी।

      श्री प्रहलाद जोशी की उपस्थिति में संयुक्‍त उद्यम समझौता पर हस्‍ताक्षर किए गए। इस अवसर पर खान सचिव श्री अनिल मुकिम और अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारी उपस्थित थे।

****

आर.के.मीणा/आरएनएम/एजी/आरएन–2274      



(Release ID: 1581076) Visitor Counter : 686


Read this release in: English , Urdu , Bengali