विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • देश भर में यूआईडीएआई द्वारा संचालित 21 ‘आधार’ सेवा केन्‍द्र परिचालन में हैं  
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • अच्छी फिल्म बनाने के तीन महत्वपूर्ण पहलू पटकथा, सिनेमाटोग्राफी तथा प्रोडक्शन डिजाइन हैं: श्री प्रियदर्शन  
  • सूचना और प्रसारण सचिव ने एनएफएआई का 2020 का कैलेंडर लांच किया  
  • प्रदर्शनी-IFFI@50  युवाओं तथा बच्चों को सूचित, शिक्षित और आकर्षित करेगा और उन्हें फिल्मों की ओर ले जाएगाः सूचना और प्रसारण सचिव श्री खरे  
  • कला अकादमी में अमिताभ बच्चन रेट्रोस्पेक्टिव प्रारंभ  
  • 50वां भारत अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह (आईएफएफआई)-2019 का भारतीय पैनोरमा भाग प्रारंभ  

 
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय04-सितम्बर, 2016 17:04 IST

ब्राजील के प्रतिनिधिमंडल ने ब्रिक्स फिल्म समारोह में ब्राजील की फिल्मों के सार तत्व एवं चुनौतियों पर चर्चा की

ब्राजील के प्रतिनिधिमंडल ने ब्रिक्स फिल्म समारोह के दौरान उपस्थित मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि भारत सांस्कृतिक रूप से एक समृद्ध और विविधतापूर्ण देश है और ब्राजील कई मायनों में भारत के ही समान है। ब्राजील की फिल्मों के कलाकारों एवं तकनीकी कर्मियों ने फिल्मों के पीछे के विचार तथा फिल्मों की शूटिंग करने के दौरान हुए अपने अनुभवों को साझा किया। उन्होंने ब्रिक्स फिल्म समारोह में ब्राजील की भागीदारी के महत्व पर भी प्रकाश डाला।

इस अवसर पर फिल्म “दे विल कम बैक” की चर्चा करते हुए फिल्म की अभिनेत्री मारिया लुइज़ा टवारेश ने कहा कि इस फिल्म को वर्ष 2011 में फिल्माया गया था जब वह केवल 13 वर्ष की थी। 2015 से ही वह दुनिया भर में विभिन्न फिल्म समारोहों में फिल्म की स्क्रीनिंग के लिए यात्रा कर रही है और उसने तब से काफी कुछ सीखा है।

फिल्म “दे विल कम बैक” क्रिस एवं उसके बडे भाई पीयू की कहानी है जिन्हें उनके अपने माता-पिता द्वारा समुद्री तट की एक यात्रा के दौरान लगातार आपस में लड़ने की सज़ा के रूप में एक सड़क के किनारे छोड़ दिया गया है। कुछ घंटों के पश्चात् यह महसूस करने के बाद कि उनके माता-पिता अब वापस नहीं लौटेंगे, पीयू एक गैस स्टेशन की तलाश में चला जाता है। क्रिस पूरे दिन उसी जगह पर बिना अपने माता-पिता या भाई के बारे में कोई खबर जाने बैठी रहती है और फिर खुद ही घर वापस लौटने का फैसला करती है।

रोड 47 की निर्माता इजाबेल मार्टिनेज कहती है कि रोड 47 दुनिया के लिए एक बेहद महत्वपूर्ण फिल्म है क्योंकि यह द्वितीय विश्वयुद्ध के सैन्य इतिहास के अब तक अचर्चित रहे अध्याय का खाका खींचती है। दुनिया इटली में मित्र देशों की सेनाओं में 25 हजार ब्राजीली सैनिकों के टुकड़ियों की भागीदारी के बारे में अवगत नहीं है। रोड 47 एक एक्शन फिल्म नहीं है, लेकिन यह युद्ध में ब्राजील की भागीदारी की चर्चा करती है और इसे अधिकतर इटली में ही फिल्माया गया है।

“बिटविन वैलीज” की सहायक निर्माता क्रिस्टिन डी स्टेफानो फ्यू ने अपने अनुभव को साझा करते हुए कहा कि डम्पिंग काम के जारी रहते हुए दुनिया के एक सबसे बड़े डम्प्स्टर में फिल्म की शूटिंग करना काफी चुनौतीपूर्ण था। इसी से जुड़ा एक अन्य कठिन कार्य डम्प्स्टरों में रहने वाले लोगों की जीवनशैली को सीखना था जो जीने के संघर्ष में अपनी पहचान खो बैठे थे।

***


एसकेजे/डीए – 4180
(Release ID 53947)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338