विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • इस्पात मंत्रालय
  • लौह अयस्‍क उत्‍पादन के 25 प्रतिशत को घरेलू बाजार में स्‍थानांतरित करने के लिए सेल को अनुमति  
  • उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण
  • उपभोक्‍ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री ने प्‍लास्टिक के इस्‍तेमाल को रोकने के लिए जागरूकता फैलाने की आवश्‍यकता पर बल दिया  
  • गृह मंत्रालय
  • केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने अखिल भारतीय प्रबंधन संघ (AIMA) द्वारा आयोजित 46 वें राष्ट्रीय प्रबंधन सम्मेलन की अध्यक्षता की  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • तालचेर में यूरिया परियोजना के लिए कोयला गैसीकरण संयंत्र का अनुबंध देने के उपलक्ष्‍य में समारोह का आयोजन   
  • रक्षा मंत्रालय
  • सेना वीर नारियों तथा निकटतम परिजनों तक पहुंची और संवाद कायम किया  
  •  एसयू-30 एमकेआई से हवा से-हवा में मार करने वाली मिसाइल ‘अस्त्र’ का सफल परीक्षण  
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेलवे द्वारा पूरे देश में बड़े पैमाने पर श्रमदान की शुरूआत  
  • श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
  • श्रम मंत्री श्री संतोष कुमार गंगवार ने वर्ष 2017 के लिए विश्वकर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार और राष्ट्रीय सुरक्षा पुरस्कार प्रदान किए  

 
शिपिंग मंत्रालय14-अप्रैल, 2016 19:44 IST

‘सागरमाला’ राष्‍ट्रीय परिप्रेक्ष्‍य योजना प्रस्‍तुत की गई

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज मुंबई में ‘मेरीटाइम इंडिया समिट’ के शुभारंभ के अवसर पर राष्‍ट्रीय परिप्रेक्ष्‍य योजना जारी की, जिसमें ‘सागरमाला’ की रूपरेखा का ब्‍यौरा दिया गया है। सागरमाला सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है जिसका उद्देश्‍य देश में बंदरगाहों की अगुवाई में विकास की गति तेज करना है।

केंद्र एवं राज्‍य सरकारों के अहम हितधारकों और शिपिंग, बंदरगाह, जहाज निर्माण, विद्युत, सीमेंट एवं इस्‍पात क्षेत्रों की सार्वजनिक और निजी कंपनियों के साथ व्‍यापक सलाह-मश‍विरा करने के बाद राष्‍ट्रीय परिप्रेक्ष्‍य योजना तैयार की गई है। यह न्‍यूनतम निवेश के साथ निर्यात-आयात एवं घरेलू व्‍यापार की लागत काफी हद तक कम करने संबंधी सागरमाला के विजन को साकार करने की दिशा में एक अहम कदम है।

केंद्रीय शिपिंग, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने बाद में संवाददाताओं के साथ बातचीत करते हुए कहा कि जल परिवहन को बढ़ावा देना सरकार की प्राथमिकता है क्‍योंकि इससे लॉजिस्टिक्‍स लागत में खासी कमी करने में मदद मिलेगी, जो चीन एवं यूरोपीय देशों की तुलना में भारत में बहुत ज्‍यादा है।

रिपोर्ट में अनुमान व्‍यक्‍त किया गया है कि इस कार्यक्रम से लॉजिस्टिक्स लागत में तकरीबन 35,000 करोड़ रुपये की सालाना बचत संभव हो सकती है और इसके साथ ही वर्ष 2025 तक भारत के व्‍यापारिक निर्यात के बढ़कर 110 अरब डॉलर के स्‍तर पर पहुंच जाने की संभावना है। यही नहीं, लगभग 1 करोड़ नये रोजगार सृजित होने का अनुमान है, जिनमें से 40 लाख प्रत्‍यक्ष रोजगार होंगे।

यह योजना इन चार रणनीतिक पहलुओं पर आधारित है- घरेलू कार्गो की लागत घटाने के लिए मल्टी-मोडल ट्रांसपोर्ट का अनुकूलन करना, निर्यात-आयात कार्गो लॉजिस्टिक्‍स में लगने वाले समय एवं लागत को न्‍यूनतम करना, बल्‍क उद्योगों को लागत के और करीब स्‍थापित कर लागत को घटाना और बंदरगाहों के पास पृथक विनिर्माण क्लस्टरों की स्‍थापना कर निर्यात के मामले में प्रतिस्‍पर्धी क्षमता बेहतर करना।

सागरमाला का लक्ष्‍य चार व्‍यापक क्षेत्रों में 150 से भी ज्‍यादा परियोजनाओं और पहलों के जरिये आवश्‍यक सकारात्‍मक असर सुनिश्चित करना है। भारत के बंदरगाह ढांचे के आधुनिकीकरण के लिए 5-6 नये बंदरगाह बनाने का प्रस्‍ताव किया गया है। इसके अलावा बंदरगाहों की क्षमता बढ़ाने वाली 40 से अधिक परियोजनाओं पर काम शुरू किया जाएगा। क्षमता बढ़ाने के अलावा ये परियोजनाएं बर्थों के यं‍त्रीकरण और बड़े जहाजों के समायोजन हेतु तलछटों की ज्‍यादा गहराई सुनिश्चित करके बंदरगाह ढांचे को और ज्‍यादा आधुनिक बनाने में मददगार साबित होंगी।

इस मामले में विशेष ध्‍यान वाला दूसरा क्षेत्र बंदरगाहों की कनेक्टिविटी है, जिसके लिए 80 से भी ज्‍यादा परियोजनाओं पर विचार किया जा रहा है।

परियोजनाओं के तीसरे समूह का उद्देश्‍य बंदरगाहों की अगुवाई में औद्योगीकरण की संभावना का दोहन करना है, ताकि तटीय रेखा के साथ-साथ औद्योगिक एवं निर्यात विकास को नई गति प्रदान की जा सके। तटीय रेखा के पास अवस्थित 14 तटीय आर्थिक क्षेत्रों (सीईजेड) के जरिये इस उद्देश्‍य की पूर्ति की जाएगी।

आखिर में, कौशल विकास पर फोकस करते हुए तटीय समुदायों की संभावनाओं का दोहन किया जाएगा, ताकि बंदरगाहों की अगुवाई में औद्योगीकरण में सहूलियत हो सके। इसके अंतर्गत उठाए जाने वाले कदमों के तहत मछुआरों एवं अन्‍य तटीय समुदायों के लिए भी अवसर सृजित किए जाएंगे। इसके अलावा भारत की तटीय रेखा के आसपास कई द्वीपों का विकास किया जाएगा।

***


आरआरएस/एनआर-2024
(Release ID 47245)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338