विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्‍ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने सम्राट नारुहितो के राज्‍याभिषेक समारोह में शिरकत की  
  • अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्रालय
  • सरकार हुनर हाट के जरिए लाखों शिल्‍पकारों, कारीगरों और पारंपरिक रसोइयों को रोजगार के अवसर उपलब्‍ध कराएगी : श्री मुख्‍तार अब्‍बास नकवी  
  • कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन
  • एसीसी नियुक्ति  
  • गृह मंत्रालय
  • जम्‍मू कश्‍मीर तथा लद्दाख संघ क्षेत्रों के सरकारी कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग के अंगीकृत सभी भत्‍तों का लाभ 31 अक्‍टूबर, 2019 से  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • श्री धर्मेन्द्र प्रधान ने आज रूसी सुदूर पूर्व में चल रही तेल और गैस परियोजनाओं की समीक्षा की और ज़वेजा में जहाज निर्माण परिसर का भी दौरा किया  
  • सितंबर, 2019 में कच्‍चे तेल और प्राकृतिक गैस के उत्पादन पर रिपोर्ट  
  • रेल मंत्रालय
  • सर्वाधिक उन्‍नत इलेक्‍ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग सिस्‍टम को ग्रैंड कॉर्ड मार्ग पर लगाया गया   
  • भारत और स्विट्जरलैंड रेल परिवहन के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर सहमत  
  • श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
  • क्षेत्रीय श्रम सम्मेलन का भुवनेश्वर में आयोजन  
  • सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्यम मंत्रालय
  • केवीआईसी ने गोवा में कई पहलों की शुरूआत की  
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • 50वें भारत-अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म महोत्‍सव में प्रदर्शित होने वाली फिल्‍मों की सूची जारी  
  • फाइनेंस कमीशन
  • 15वें वित्त आयोग ने उत्तर प्रदेश सरकार के साथ बैठक की  
  • जल शक्ति मंत्रालय
  • ‘भारत के लिए पर्यावरणीय प्रवाह का आकलन एवं कार्यान्‍वयन’ पर दो दिवसीय अंतर्राष्‍ट्रीय कार्यशाला नई दिल्‍ली में आयोजित  

 
मंत्रिमंडल18-नवंबर, 2015 12:02 IST

भारत, ब्राज़ील और दक्षिण अफ्रीका के बीच निर्धनता एवं क्षुधा उपशमन के लिए इब्सा कोष हेतु त्रिपक्षीय समझौते को कैबिनेट की मंजूरी

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट ने भारत, ब्राज़ील एवं दक्षिण अफ्रीका के बीच निर्धनता एवं क्षुधा उपशमन हेतु त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर करने को अनुमति प्रदान कर दी है।

इस निर्णय से दक्षिण-दक्षिण सहयोग के क्षेत्र में अद्वितीय इब्सा कोष (IBSA Fund) को मज़बूत बनाने में मदद मिलेगी। इब्सा देश इस कोष में सालाना 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर देते हैं, जो जनवरी 2015 तक 28.2 मिलियन अमेरिकी डॉलर हो चुका है। भारत अब तक इस कोष में 9.1 मिलियन अमेरिकी डॉलर दे चुका है।

इब्सा कोष विकास परियोजनाओं का दायित्व वहन करता है। इब्सा कोष द्वारा वित्तपोषित पहली परियोजना कृषि एवं पशुधन विकास पर थी। दिसंबर 2006 में न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र दिवस के मौके पर इब्सा कोष को दक्षिण-दक्षिण सहकारिता पुरस्कार दिया गया था। इससे दक्षिण-दक्षिण विकासात्मक सहकारिता के क्षेत्र में इब्सा कोष की महत्ता एवं कद इंगित होता है।

इब्सा डायलॉग फोरम के अंतर्गत सहयोग के तीन में से एक स्तंभ के तौर पर इब्सा कोष का गठन वर्ष 2004 में निर्धनता एवं क्षुधा उपशमन हेतु किया गया था। अन्य दो स्तंभ हैं- विश्व राजनीति पर मंत्रणा एवं समन्वयन और यथार्थपूर्ण क्षेत्रों एवं परियोजनाओं पर त्रिपक्षीय सहयोग।

पृष्ठभूमिकः

आईबीएसए डायलॉग फोरम को दक्षिण के वैश्विक प्रासंगिकता एवं प्रभाव वाले तीन जोशपूर्ण जनतंत्रों के मध्य सहयोग हेतु जून 2003 में शुरू किया गया था। सभी तीन देश बहुलवादी, बहुसांस्कृतिक, बहुनस्लीय, बहुभाषीय एवं अनेक धर्मों के समाजों वाले विकासशील देश हैं।

एबी/सीएस–5606
(Release ID 42080)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338