विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने झारखंड के लोगों को राज्य के स्थापना दिवस पर बधाई दी  
  • अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्रालय
  • उस्ताद दस्तकारों और शिल्पकारों के लिए "हुनर हाट" सशक्तिकरण एक्सचेंज साबित हुए हैं;  पिछले तीन वर्षों में 2.5 लाख से अधिक ने रोजगार के अवसर प्रदान किए : श्री नकवी  
  • आदिवासी मामलों के मंत्रालय
  • गृह मंत्री श्री अमित शाह कल ‘आदि महोत्सव 2019’ का उद्घाटन करेंगे  
  • आयुष
  • श्री श्रीपद नाइक ने अंतर्राष्ट्रीय योग सम्मेलन का उद्घाटन किया  
  • कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय
  • कौशल विकास मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडे ने इंडियास्किल्स 2020 प्रतियोगिता के लिए ऑनलाइन पंजीकरण शुरु करने की घोषणा  
  • नीति आयोग
  •       नीति आयोग  ‘न्‍यू इंडिया के लिए स्‍वास्‍थ्‍य प्रणाली : बिल्डिंग ब्लॉक्स - सुधार के संभावित तरीकों’ पर रिपोर्ट जारी करेगा  
  • युवा मामले और खेल मंत्रालय
  •       राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के खेल एंव युवा मामलों के मंत्रियों की बैठक   
  • रक्षा मंत्रालय
  • रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने अरूणाचल प्रदेश में दिबांग घाटी को सियांग से जोड़ने वाले सिसेरी पुल का उद्घाटन किया  
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेलवे ने आईआरसीटीसी के जरिये राजधानी/शताब्दी/दुरंतो ट्रेनों में खानपान शुल्कन और व्यं जन सूची तथा मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों में मानक भोजन को युक्तिसंगत बनाया   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • पहली अंतर्राष्‍ट्रीय क्रेता-विक्रेता बैठक अरूणाचल प्रदेश में  
  • वित्त मंत्रालय
  • 22 करोड़ रुपये के फर्जी जीएसटी चालान जारी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश  

 
नागर विमानन मंत्रालय08-सितम्बर, 2017 20:45 IST

सरकार ने हवाई यात्रा के दौरान यात्रियों के द्वारा अभद्र और परेशानी पैदा करने वाले व्यवहार पर नियंत्रण के लिये नियम जारी किये, उड़ान भरने पर प्रतिबंधित से संबंधित सूची तैयार करने का मार्ग प्रशस्त

नागरिक उड्यन मंत्रालय ने आज हवाई यात्रा के दौरान यात्रियों के द्वारा अभद्र और परेशानी पैदा करने वाले व्यवहार पर नियंत्रण के लिये नियम जारी किये। मीडिया से बातचीत में नागिरक विमानन मंत्री श्री पी. अशोक गजपति राजू ने कहा कि नये नियमों की मदद से ऐसे अभद्र यात्रियों की एक राष्ट्रव्यापी सूची तैयार की जा सकेगी। उन्होंने कहा भारत द्वारा उड़ान भरने से प्रतिबंधित व्यक्तियों की सूची तैयार करना दुनिया में इस तरह का पहला कदम है। सुरक्षा सुनिश्चित करने की सरकार की प्रतिबद्धता पर बल देते हुये श्री राजू ने कहा कि इस सूची का विचार केवल सुरक्षा खतरे पर नहीं बल्कि यात्रियों, विमान कर्मियों और विमान की सुरक्षा की चिंता पर आधारित है।

डीजीसीए ने इसके लिये नागर विमानन आवश्यकता ( अभद्र यात्रियों से निपटना: सीएआर सेक्शन 3, सीरीज -एम, खण्ड VI) के प्रासंगिक नियमों में बदलाव किया है ताकि हवाई यात्रा के दौरान अभद्रता करने वाले यात्रियों से निपटा जा सके।

यह संशोधन 1963 के टोक्यो समझौते के प्रावधानों के अनुसार है।

संशोधित नियम हवाई यात्रा के दौरान अभद्र यात्रियों से निपटने से संबंधित हैं। हवाई अड्डों पर यात्रियों के अभद्र व्यवहार से निपटना प्रचलित दण्ड कानूनों के अनुसार सुरक्षा एजेंसियों की जिम्मेदारी रहेगा। संशोधित नियम सभी भारतीय एयरलाइनों पर लागू होगा जिसमें सूचित एवं अनुसूचित एवं ढुलाई सेवायें शामिल हैं, यह भारतीय एवं अंतरराष्ट्रीय यात्रियों दोनों के मामलों में लागू होगा।

1963 के टोक्यो समझौते के अनुसार यह नियम विदेशी एयरलाइन्स पर भी लागू होगा। इस मौके पर नागर विमानन राज्य मंत्री श्री जयंत सिन्हा ने कहा कि नये नियम सभी संबंधित पक्षों से व्यापक बातचीत के बाद तैयार किये गये हैं। इनका उद्देश्य हवाई यात्रा के दौरान यात्रियों, विमान चालक दल और एयरलाइन के हितों की सुरक्षा करना है।

नये नियमों में अभद्र व्यवहार के तीन स्तर परिभाषित किये गये हैं, पहले स्तर में मौखिक अभद्रता शामिल है जिसमें 3 महीने तक के प्रतिबंध का प्रावधान है; दूसरे स्तर में शारीरिक रूप से भी अभद्रता शामिल है जिसके लिये 6 महीने का प्रतिबंध हो सकता है, तीसरे स्तर में जीवन को जोखिम में डालने वाली अभद्रता है जिसके लिये कम से कम प्रतिबंध 2 वर्ष का है।

अभद्रता की शिकायत पायलट-इन-कमाण्ड के द्वारा दर्ज करायी जायेगी जिसकी जांच विमान कंपनी द्वारा गठित एक आंतरिक समिति द्वारा की जायेगी। इस समिति के अध्यक्ष एक सेवानिवृत्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश होंगे और इसमें विमान कंपनियों, यात्री संगठनो, उपभोक्ता संगठनों के प्रतिनिधि और जिला उपभोक्ता परिषद के सेवानिवृत्त अधिकारी भी शामिल होंगे। नियमों के मुताबिक समिति को 30 दिनों में फैसला लेना होगा और यात्री पर प्रतिबंध की अवधि तय करनी होगी। जांच पर फैसला आने की पहले की अवधि के दौरान संबंधित एयरलाइन उस यात्री के उड़ान भरने पर रोक लगा सकेगी। और अभद्रता की पुनरावृत्ति पर दण्ड की अवधि पहले से दुगुनी होगी।

एयलाइन्स को यह सूची साझा करनी होगी और यह डीजीसीए की वेबसाइट पर भी उपलब्ध होगी। लेकिन दूसरी विमान कंपनियां इसको मानने के लिये बाध्य नहीं होंगी। इस सूची में दो तरह के यात्री होंगे, पहला जिन्हें अवधि विशेष के लिये प्रतिबंधित किया गया है और दूसरा जिन्हें गृहमंत्रालय के मुताबिक राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये खतरा माना गया है। दूसरी सूची वेबसाइट पर जारी नहीं की जायेगी।

संशोधित नियमों में प्रतिबंध के खिलाफ अपील का भी प्रावधान है। पीड़ित व्यक्ति (जिसमें गृहमंत्रालय से प्रतिबंधित व्यक्ति शामिल नहीं हैं), प्रतिबंध के 60 दिनों के अंदर नागर विमानन मंत्रालय द्वारा अपीलीय अधिकरण के सामने अपील दाखिल कर सकेंगे, इस समिति में उपभोक्ता समूहों के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।

*****


वीएल/डीएनटी/एमबी-3708
(Release ID 67014)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338