Print
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
उप राष्ट्रपति सचिवालय
11-फरवरी-2020 16:03 IST

उपराष्‍ट्रपति ने पेट्रोलियम मंत्रालय से कहा, ‘आंध्र प्रदेश में उन सभी पेट्रोलियम परियोजनाओं में तेजी लाएं जो कार्यान्‍वयन के विभिन्‍न चरणों में हैं’

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री ने उपराष्‍ट्रपति को आंध्र प्रदेश में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय की सभी परियोजनाओं के त्‍वरित कार्यान्‍यवन के बारे में आश्‍वस्‍त किया उपराष्‍ट्रपति ने पेट्रोलियम मंत्री और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के अधिकारियों से बातचीत की

उपराष्‍ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज केन्‍द्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्‍पात मंत्री श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान से आंध्र प्रदेश में उन सभी पेट्रोलियम परियोजनाओं में तेजी लाने को कहा जो कार्यान्‍वयन के विभिन्‍न चरणों में हैं। केन्‍द्रीय पेट्रोलियम मंत्री ने उपराष्‍ट्रपति को आश्‍वस्‍त करते हुए कहा कि आंध्र प्रदेश में सभी परियोजनाओं के कार्यान्‍वयन में तेजी लाने के लिए सभी आवश्‍यक कदम उठाए जाएंगे।

राज्‍य सभा में सभापति के चैम्‍बर में आयोजित इस बैठक के दौरान श्री नायडू ने 1.7 एमएमटीपीए पेट्रोलियम उत्‍पादों के उत्‍पादन के लिए लगभग 32,000 करोड़ रुपये के निवेश से काकीनाडा में स्‍थापित किए जा रहे नए पेट्रोरसायन कॉम्‍प्‍लेक्‍स की ताजा स्थिति के बारे में पूछा। यह परियोजना आंध्र प्रदेश सरकार के सहयोग से हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) और गेल इंडिया लिमिटेड द्वारा स्‍थापित की जा रही है।

पेट्रोलियम मंत्री और उनके साथ आए गेल के अधिकारियों ने उपराष्‍ट्रपति को यह जानकारी दी कि केन्‍द्र सरकार इस पेट्रोरसायन परियोजना को जल्‍द-से-जल्‍द कार्यान्वित करने की इच्‍छुक है और वह इस परियोजना के वित्त पोषण के लिए विशिष्‍ट वित्तीय रूपरेखा पर राज्‍य सरकार के जवाब का इंतजार कर रही है क्‍योंकि इसे राज्‍य सरकार के साथ साझेदारी में संयुक्‍त रूप से कार्यान्वित किया जा रहा है।

ओएनजीसी के अधिकारियों ने उपराष्‍ट्रपति को केजी बेसिन और राजमुंदरी में ओएनजीसी की अपतटीय एवं तटवर्ती परियोजना से अवगत कराया। ओएनजीसी आंध्र प्रदेश में अपतटीय परियोजनाओं में 68,000 करोड़ रुपये और तटवर्ती परियोजनाओं में 10,000 करोड़ रुपये का निवेश करने की तैयारी में है।

पेट्रोलियम मंत्री ने उपराष्‍ट्रपति को यह जानकारी दी कि केन्‍द्र सरकार और निजी क्षेत्र की ओर से आंध्र प्रदेश के पूर्वी तट पर हाइड्रोकार्बन क्षेत्र में भारी-भरकम ‍निवेश किया जा रहा है और काकीनाडा जल्‍द ही देश में एक हाइड्रोकार्बन हब के रूप में उभर कर सामने आएगा।

श्री नायडू ने विशाखापत्तनम के सब्बावरम में भारतीय पेट्रोलियम एवं ऊर्जा संस्‍थान (आईआईपीई) के लिए एक स्‍थायी कैंपस के निर्माण की दिशा में अब तक हुई प्रगति के बारे में भी पूछा। अधिकारियों ने उपराष्‍ट्रपति को यह जानकारी दी कि आईआईपीई के नए कैंपस का निर्माण पूरा होने के अंतिम चरणों में है।

उपराष्‍ट्रपति ने अधिकारियों को आईआईपीई से पास होने वाले विद्यार्थियों की कैंपस में भर्ती सुनिश्चित करने के लिए आवश्‍यक कदम उठाने की सलाह दी। अधिकारियों ने उपराष्‍ट्रपति को यह जानकारी दी कि वे सभी संभावनाओं को तलाशेंगे।

श्री नायडू ने हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमि‍टेड द्वारा अपनी विशाखापत्तनम रिफाइनरी में लगभग 26,264 करोड़ रुपये के पूंजीगत परिव्‍यय से कार्यान्वित की जा रही ‘विशाख रिफाइनरी आधुनिकीकरण परियोजना (वीआरएमपी)’ की ताजा स्थिति के बारे में भी पूछा।

पेट्रोलियम मंत्री ने उपराष्‍ट्रपति को यह जानकारी दी कि परियोजना का कार्यान्‍वयन तेजी से प्रगति पर है। उन्‍होंने विशेष बल देते हुए कहा कि लगभग 13,000 लोग चौबीसों घंटे इस परियोजना स्‍थल पर काम कर रहे हैं और तय समय से पहले ही यह परियोजना पूरी कर ली जाएगी।

पेट्रोलियम मंत्री ने विभिन्‍न परियोजनाओं की प्रगति की ताजा स्थिति से उपराष्‍ट्रपति को अवगत कराते हुए यह जानकारी भी दी कि शहरी गैस वितरण (सीजीडी) नेटवर्क को आंध्र प्रदेश के विभिन्‍न जिलों में कार्यान्वित किया जा रहा है। इससे लोगों या परिवारों, परिवहन एवं औद्योगिक खंडों की पीएनजी एवं सीएनजी तक आसान पहुंच सुनिश्चित हो जाएगी।

केन्‍द्रीय पेट्रोलियम मंत्री ने उपराष्‍ट्रपति को आश्‍वासन दिया कि आंध्र प्रदेश में सभी परियोजनाओं को तेजी से कार्यान्वित करने के लिए सभी आवश्‍यक कदम उठाए जाएंगे।

***

एस.शुक्‍ला/एएम/आरआरएस/वीके-5686