Print
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
21-अक्टूबर-2019 16:31 IST

भारत-अमरीका व्‍यापार वार्ता सही दिशा में : पीयूष गोयल

निवेश के लिए वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय देश में एकल खिड़की व्‍यवस्‍था शुरू कर रहा है वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री ने अमरीका-भारत रणनीतिक साझेदारी मंच के दूसरे वार्षिक इंडिया लीडरशिप सम्‍मेलन को संबोधित किया

केन्‍द्रीय वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि भारत और अमरीका के आपसी संबंध सबसे बेहतरीन दौर में है और अब दोनों के बीच व्‍यापारिक संबंध बढ़ाने की भी अच्‍छी संभावनाएं बन रही है। श्री गोयल आज नई दिल्‍ली में अमरीका-भारत रणनीतिक साझेदारी मंच (यूएसआईएसपीएफ) के दूसरे वार्षिक इंडिया लीडरशिप सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

भारत और अमरीका के बीच व्‍यापार वार्ता का जिक्र करते हुए वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री ने कहा कि यह सही दिशा में आग बढ़ रही है। भारत अमरीका से प्रौद्योगिकी नवाचार, कौशल और गुणवत्‍तायुक्‍त शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग की अपेक्षा रखता है और बदले में अमरीकी कारोबारियों और अमरीकी कंपनियों के देश में एक आकर्षक बाजार और कुशल श्रम-बल उपलब्‍ध कराने के लिए तैयार है।

श्री गोयल ने यूएसआईएसपीएफ को बताया कि वाणिज्‍य और उद्योग मंत्रालय भारत में निवेश के इच्‍छुक लोगों के लिए एकल खिड़की व्‍यवस्‍था शुरू करने जा रहा है। उन्‍होंने इसके लिए नये विचार और सुझाव आमंत्रित किये। केन्‍द्रीय मंत्री ने सम्‍मेलन में उपस्थित लोगों को बताया कि उनका मंत्रालय भारत में विनिर्माण इकाई लगाने वाले कंपनियों के लिए लॉजिस्टिक सेवाओं की लागत कम करने के उपाय भी खोजे जा रहे हैं।

यूएसआईएसपीएफ के मुताबिक 2025 भारत और अमरीका के बीच द्विपक्षीय व्‍यापार 238 अरब डॉलर तक पहुंच जाने का अनुमान है। यह वर्तमान रूझानों को उजागर करते हुए द्पिक्षीय संबंधों में विकास और आर्थिक अवसरों के नये रास्‍तों को रेखांकित करता है। रक्षा, व्‍यापार, वाणिज्यिक विमान सेवायें, तेल और कोयला, मशीनरी और इलेक्‍टॉनिक जैसे क्षेत्रों में भारत ने अमरीकी निवेश के लिए प्रचुर संभावनाएं है, जबकि भारत के लिए अमरीकी बाजार में मोटर-वाहन, फार्मा, समुद्री उत्‍पाद, सूचना प्रौद्योगिकी तथा यात्रा सेवाओं को बढ़ावा देने के मौके हैं।  

*****

आरकेमीणा/आरएनएम/एएम/एमएस/एसएस-3716