Print
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
रक्षा मंत्रालय
16-अगस्त-2019 16:35 IST

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने जैसलमेर में5वीं अंतर्राष्ट्रीयसेना स्काउट्स मास्टर्स प्रतियोगिता, 2019 के विजेताओं को सम्‍मानित किया

पहली बार भाग ले रही भारतीय सेना ने प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन किया

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने आज जैसलमेर मिलिट्री स्‍टेशन में 6 से 14 अगस्‍त, 2019 तक आयोजित 5वीं अंतर्राष्‍ट्रीय सेना स्‍काउट्स मास्‍टर्स प्रतियोगिता, 2019 के विजेताओं को सम्‍मानित किया।

पहली बार भाग ले रही भारतीय सेना की टीम ने उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन किया। इस प्रतियोगिता  में आर्मेनिया, बेलारूस, चीन, कजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान,रूस, सूडान और भारतकी कुल आठ टीमों ने भाग लिया।

विजेताओं को पदक और ट्रॉफी प्रदान करते हुएरक्षा मंत्री ने उनके शानदार प्रदर्शन के लिए बधाई दी और सभी आठ टीमों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पिछले 10 दिनों में, सभी प्रतियोगियों ने असाधारण कौशल दिखायाऔर एक-दूसरे के साथ कड़ी प्रतिस्पर्धाकी। प्रतियोगिता के दौरान टीम सदस्‍यों के बीच हुई मित्रता से भाग लेने वाले देशों के बीच संबंध बेहतर होंगे।

रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत ने इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले देशों के साथ मैत्रीपूर्ण और सौहार्दपूर्ण संबंध है। हम रूस के साथ ‘इंद्र’ संयुक्‍त अभ्‍यास का प्रतिवर्ष आयोजन करते हैं।उन्‍होंने कहा कि चीन के साथ ‘हैंड इन हैंड’ संयुक्‍त अभ्‍यास का आयोजन किया जाता है। भारत के मध्‍य एशिया के देशों - आर्मेनिया, बेलारूस, कजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान के साथ वाणिज्यिक और सांस्‍कृतिक संबंध रहे है। सूडान के बारे में श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत ने संयुक्‍त राष्‍ट्र शान्ति सेना में पिछले दस वर्षों से महत्‍वपूर्ण योगदान दिया है।

इस अवसर पर उज्बेकिस्तान के राजदूत श्री फ़रहाद आरज़िव, सेना प्रमुख बिपिन रावत, दक्षिणी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ़लेफ्टिनेंट जनरल एसके सैनी,  प्रतिनिधिमंडल के प्रमुखऔर अन्‍य गणमान्‍य व्‍यक्ति भी उपस्थित थे।

इस प्रतिष्ठित कार्यक्रम का संचालन करने के लिए जैसलमेर मिलिट्री स्टेशन में विश्व स्तरीय अवसंरचना का निर्माण किया गया था। इसमें इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल्स के लिए एक चुनौतीपूर्ण बाधा कोर्स शामिल था। इस कोर्स  की लंबाई 6.7 किलोमीटर थी और इसमें 15 बाधाएं थी। स्काउट मास्टर्स टीमों के बाधा कोर्स की लंबाई 1.3 किलोमीटर थी और इसमें 22 बाधाएं थी।

 

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/PIC242A8.jpeg

***

आर.के.मीणा/आरएनएम/एएम/जेके/जीआरएस – 2492