गृह मंत्रालय

“नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस’’ पर केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह का संदेश

Posted On: 26 JUN 2022 3:36PM by PIB Delhi

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन में गृह मंत्रालय ने मादक पदार्थों के खिलाफ ज़ीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है

मोदी जी के ‘ड्रग्स मुक्त भारत’ के संकल्प को पूरा करने में पूरी तत्परता से लगे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के सभी कर्मी, NGOs और इससे जुड़े वालंटियर्स को उनके प्रयासों के लिए बहुत बहुत शुभकामनाएं देता हूँ

स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में हमने तय किया है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के ‘ड्रग्स मुक्त भारत’ के आवाहन को इस अमृत काल में हमारा दृढ़ संकल्प बनाना है

नशे की समस्या राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी एक बड़ी चुनौती है, जिसे सभी के समन्वय से ही रोका व समाप्त किया जा सकता है

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार ड्रग्स तस्करी के संपूर्ण उन्मूलन के लिए व्यापक स्तर पर काम कर रही है, मोदी जी के नेतृत्व में हमने इस लड़ाई को समन्वित और संस्थागत बनाया है

 गृह मंत्रालय के “नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो” के तत्वाधान में “नार्को समन्वय तंत्र” की स्‍थापना की है,  जिसका उद्देश्य सभी एजेंसियों के बीच समन्वय एवं तालमेल स्थापित करना है, जिससे ड्रग्स तस्करी पर अंकुश लगाने में हमें पूर्णरूप से कामयाबी मिल सकती है

NCB राष्ट्रीय स्तर पर ड्रग्स के विरुद्ध इस युद्ध में अपनी सक्रिय भूमिका निभा रहा है, जिसके कारण हमें सफल परिणाम देखने को मिल रहे हैं, 2014 से 2022 तक, पिछले 8 वर्षों में जब्त किये गए ड्रग्स का मूल्य उसके पहले के 8 सालों की तुलना में लगभग 25 गुना अधिक है

नशीले पदार्थों का दुरूपयोग, न केवल समाज को खोखला बनाता है, बल्कि, नशीली दवाओं की तस्करी से अर्जित धन देश की सुरक्षा के लिए भी बहुत बडा ख़तरा है

मुझे विश्वास है कि NCB और सभी हितधारकों के सामूहिक प्रयास से अपेक्षित सफलता हासिल होगी, आइये हम सब मोदी जी के ‘ड्रग्स मुक्त भारत’ के संकल्प की पूर्ति में अपना-अपना योगदान दें और भारत को ड्रग्स मुक्त बनाएँ

 

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन में गृह मंत्रालय ने मादक पदार्थों के खिलाफ ज़ीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है। नशीली दवाओं के दुरुपयोग व अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर अपने संदेश में श्री अमित शाह ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के ‘ड्रग्स मुक्त भारत’ के संकल्प को पूरा करने में पूरी तत्परता से लगे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के सभी कर्मी, NGOs और इससे जुड़े वालंटियर्स को उनके प्रयासों के लिए बहुत बहुत शुभकामनाएं देता हूँ।

श्री अमित शाह ने कहा कि स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में हमने तय किया है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के ‘ड्रग्स मुक्त भारत’ के आवाहन को इस अमृत काल में हमारा दृढ़ संकल्प बनाना है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में गृह मंत्रालय ने मादक पदार्थों के खिलाफ ज़ीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है। मेरा मानना है कि नशे के समस्या राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी एक बहुत बड़ी चुनौती है जिसे सभी के समन्वय से ही रोका व समाप्त किया जा सकता है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार ड्रग्स तस्करी के संपूर्ण उन्मूलन के लिए व्यापक स्तर पर काम कर रही है। मोदी जी के नेतृत्व में हमने इस लड़ाई को समन्वित और संस्थागत बनाया है। इसके लिए गृह मंत्रालय के “नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो” के तत्वाधान में “नार्को समन्वय तंत्र” की स्‍थापना की है, जिसका उद्देश्य सभी एजेंसियों के बीच समन्वय एवं तालमेल स्थापित करना है, जिससे ड्रग्स तस्करी पर अंकुश लगाने में हमें पूर्णरूप से कामयाबी मिल सकती है। उन्होंने कहा कि NCB राष्ट्रीय स्तर पर ड्रग्स के विरुद्ध इस युद्ध में अपनी सक्रिय भूमिका निभा रहा है, जिसके कारण हमें सफल परिणाम देखने को मिल रहे हैं। गृह मंत्री ने कहा कि 2014 से 2022 तक, पिछले 8 वर्षों में जब्त किये गए ड्रग्स का मूल्य उसके पहले के 8 सालों की तुलना में लगभग 25 गुना अधिक है।

श्री अमित शाह ने कहा कि नशीले पदार्थों का दुरूपयोग, न केवल समाज को खोखला बनाता है, बल्कि, नशीली दवाओं की तस्करी से अर्जित धन देश की सुरक्षा के लिए भी बहुत बडा ख़तरा है। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि NCB और सभी हितधारकों के सामूहिक प्रयास से अपेक्षित सफलता हासिल होगी। आइये हम सब मोदी जी के ‘ड्रग्स मुक्त भारत’ के संकल्प की पूर्ति में अपना-अपना योगदान दें और भारत को ड्रग्स मुक्त बनाएँ।

*****

एनडब्ल्यू/आरके/ एवाई/आरआर



(Release ID: 1837105) Visitor Counter : 870


Read this release in: English