मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय

पशुपालन और डेयरी विभाग ने उद्यमिता योजनाओं को लेकर जागरूकता के लिये 8 केन्द्र शासित प्रदेशों और गोवा में ग्राम स्तर के 2000 शिविर आयोजित किये

एनएलएम और आरजीएम योजनाओं में एक भाग पशु प्रजनन फार्म उद्यमियों और पशु चारा उद्यमियों के लिये है, माननीय मंत्री ने किसानों को सूचित किया

ग्रामीण मुर्गी पालन उद्यमिता भाग से 1.5 लाख किसानों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा; भेड़-बकरी और मुर्गी पालन विकास से 2 लाख किसान लाभान्वित होंगे

Posted On: 27 OCT 2021 8:31PM by PIB Delhi

आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में, पशुपालन और डेयरी विभाग ने 8 केंद्र शासित प्रदेशों और गोवा में 2000 गांव स्तर के शिविरों का आयोजन करके कॉमन सर्विस सेंटर नेटवर्क के माध्यम से विभाग की उद्यमिता योजनाओं को लेकर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया है। उपस्थित लोगों को इन योजनाओं के बारे में, साथ ही सीएससी के माध्यम से योजना पोर्टल पर आवेदन कैसे करें, इसकी भी जानकारी दी गयी।

केन्द्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्री, श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने शिविरों के माध्यम से जुड़े किसानों को संबोधित किया और बताया कि हाल ही में कैबिनेट के फैसले के अनुसार, राष्ट्रीय पशुधन मिशन और राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजनाओं में अब पशु प्रजनन फार्म उद्यमियों और चारा उद्यमियों के लिये भी एक भाग है। राष्ट्रीय पशुधन मिशन (एनएलएम) ग्रामीण उद्यमिता बनाने में मदद करेगा और मवेशी, डेयरी, मुर्गी पालन, भेड़, बकरी, शूकर पालन, चारा और चारा क्षेत्र में बेरोजगार युवाओं और पशुपालकों के लिए बेहतर आजीविका के अवसर पैदा करने में मदद करेगा, जिससे आत्मनिर्भर भारत की दिशा में मार्ग प्रशस्त होगा।

समारोह के दौरान माननीय मंत्री ने कहा कि इन योजनाओं से उद्यमिता विकास और ग्रामीण पोल्ट्री, भेड़, बकरी और शूकर पालन में नस्ल सुधार पर विशेष ध्यान दिया जायेगा, जिसमें चारा और चारे का विकास शामिल है। ग्रामीण मुर्गी पालन उद्यमिता भाग 1.5 लाख किसानों को प्रत्यक्ष रोजगार देगा और भेड़ बकरियों और मुर्गी विकास से 2 लाख किसान सीधे लाभान्वित होंगे। चारा उद्यमियों के बढ़ने से देश में चारा और चारा बीज की उपलब्धता कई गुना बढ़ जायेगी।

कार्यक्रम के अगले हिस्से में आज मंत्री ने केन्द्र शासित प्रदेशों के ग्रामीण उद्यमियों के साथ बातचीत की। उन्होंने थिंगले नोरबू, लद्दाख द्वारा किये गये प्रयासों की सराहना की, जिन्होंने याक चीज को सीमाओं से परे (नेपाल) भी लोकप्रिय बनाया है, उन्होंने श्रीनगर जम्मू-कश्मीर के इदरीस मुस्तफा कुरैशी से बात की, जिन्होंने भेड़ पालन में सभी तरह की सहायता के लिए सरकार को धन्यवाद दिया। उन्होंने एक छोटे से वीडियो के जरिए अपने भेड़ पालन फार्म की झलक दिखाई।

 

 


माननीय मंत्री ने दक्षिण अंडमान की सुश्री सुखादा सिल से बात की, जिन्होंने 500 से कम जानवरों के साथ व्यवसाय शुरू करने के इच्छुक छोटे किसानों को सरकारी सहायता का अनुरोध किया। माननीय मंत्री ने उद्यमियों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

 
अंडमान और निकोबार द्वीप के सीएससी वीएलई श्री वाडिवेल ने अंडमान द्वीप के एक छोटे व्यवसायी किसान का परिचय कराया। उन्होंने मंत्री से छोटे किसानों की मदद करने का भी अनुरोध किया जो 500 से कम जानवर खरीद सकते हैं।

 
अपनी तरह की इस पहली बातचीत में, एक केंद्रीय मंत्री ने सीधे लाभार्थियों से बातचीत की और वर्चुअल मोड के माध्यम से सभी सहायता का आश्वासन दिया।

 
लक्षद्वीप द्वीप समूह के वीएलई ने अगत्ती द्वीप के किसानों से मंत्री का परिचय कराया। लक्षद्वीप द्वीप समूह के उद्यमियों ने मंत्री से अस्पतालों में पशु चिकित्सक उपलब्ध कराने का अनुरोध किया।

 
आजादी का अमृत महोत्सव के एक भाग के रूप में, ग्रामीण सशक्तिकरण और समावेशी विकास और समावेशी शासन की झलक आज आयोजित हुए जागरूकता और संवादात्मक शिविर में देखी जा सकती है।

डॉ. संजीव बालियान और श्री एल. मुरुगन राज्य मंत्री, मत्स्यपालन, पशुपालन एवं डेयरी एवं अन्य गणमान्य लोगों ने कार्यक्रम की शोभा बढ़ायी।

***

एमजी/एएम/एसएस/एसएस             



(Release ID: 1767126) Visitor Counter : 143


Read this release in: English