वित्‍त मंत्रालय
azadi ka amrit mahotsav

अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 के लिए विपणन योग्य दिनांकित प्रतिभूतियों के लिए कैलेंडर जारी

Posted On: 27 SEP 2021 7:22PM by PIB Delhi

संस्थागत एवं खुदरा निवेशकों को अपने निवेश के लिए कुशलतापूर्वक योजना बनाने और सरकारी प्रतिभूति बाजार में पारदर्शिता एवं स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए वित्त वर्ष 2021-22 की दूसरी छमाही (1 अक्टूबर, 2021 से 31 मार्च 2022) के लिए सरकारी दिनांकित प्रतिभूतियों को जारी करने के लिए एक सांकेतिक कैलेंडर को भारतीय रिजर्व बैंक के परामर्श से तैयार किया गया है।

जैसा कि कैलेंडर से स्पष्ट है कि भारत सरकार के उधारी कार्यक्रम का दूसरा हिस्‍सा फरवरी 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है ताकि राज्य सरकारों के उधार कार्यक्रम को सुचारु तौर पर प्रबंधित करने के लिए पर्याप्त मदद मिल सके। जारी किया गया कैलेंडर इस प्रकार है:

 

भारत सरकार की दिनांकित प्रतिभूतियां जारी करने के लिए कैलेंडर

(01 अक्टूबर, 2021 से 31 मार्च, 2022)

 

क्रम संख्‍या

नीलामी सप्‍ताह

रकम

(करोड़ रुपये में)

प्रतिभूति-वार आवंटन

1

27 सितंबर, 2021 से 01 अक्टूबर, 2021

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

2

04 से 08 अक्‍टूबर, 2021

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

3

11 से 14 अक्‍टूबर, 2021

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

4

18 से 22 अक्‍टूबर, 2021

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

5

25 से 29 अक्‍टूबर, 2021

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति,13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

6

8 से 12 नवंबर, 2021

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

7

15 से 18 नवंबर, 2021

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

8

22 से 26 नवंबर, 2021

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

9

29 नवंबर, 2021 से 03 दिसंबर, 2021

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

 
       

10

06 से 10 दिसंबर, 2021

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

11

13 से 17 दिसंबर, 2021

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

12

20 से 24 दिसंबर, 2021

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

13

27 से 31 दिसंबर, 2021

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

14

03 से 07 जनवरी, 2022

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

15

10 से 14 जनवरी, 2022

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

16

17 से 21 जनवरी, 2022

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

17

24 से 28 जनवरी, 2022

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

18

31 जनवरी से 04 फरवरी, 2022

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

19

7 से 11 फरवरी, 2022

24,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

20

14 से 18 फरवरी, 2022

24,000

i) 02 वर्षीय प्रतिभूति, 2,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) 05 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 14 वर्षीय प्रतिभूति, 9,000 करोड़ रुपये के लिए

iv) 30 वर्षीय प्रतिभूति, 7,000 करोड़ रुपये के लिए

21

21 से 25 फरवरी, 2022

23,000

i) 10 वर्षीय प्रतिभूति, 13,000 करोड़ रुपये के लिए

ii) एफआरबी 4,000 करोड़ रुपये के लिए

iii) 40 वर्षीय प्रतिभूति, 6,000 करोड़ रुपये के लिए

कुल

5,03,000

 

 

जैसा कि अब तक देखा गया है, कैलेंडर के दायरे में आने वाली सभी नीलामियों में गैर-प्रतिस्‍पर्धी बोली योजना की सुविधा होगी, जिसके तहत अधिसूचित राशि का 5 प्रतिशत निर्दिष्‍ट रिटेल या छोटे निवेशकों के लिए आरक्षित होगा।

पहले की ही तरह इस बार भी भारत सरकार के पास भारतीय रिजर्व बैंक के साथ विचार विमर्श करके अधिसूचित राशि, निर्गमन अवधि, परिपक्‍वता आदि की दृष्टि से उपर्युक्‍त कैलेंडर में आवश्‍यक संशोधन करने और विभिन्‍न प्रकार के प्रपत्र (इंस्‍ट्रूमेंट) जारी करने का लचीलापन होगा। इसके अलावा गैर-मानक परिपक्वता वाले प्रपत्रों सहित विभिन्न प्रकार के प्रपत्रों को जारी करने और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) सम्बद्ध महंगाई से जुड़े बॉन्डों सहित प्लोटिंग रेट बॉन्डों (एफआरबी) को जारी करने की दृष्टि से भी उपर्युक्‍त कैलेंडर में आवश्‍यक संशोधन करने का लचीलापन होगा। ये संभावित संशोधन भारत सरकार की आवश्‍यकताओं, उभरती बाजार स्थितियों एवं अन्‍य प्रासंगिक कारकों पर निर्भर करेंगे और ये संशोधन करने से पहले बाजार को बाकायदा सूचित किया जाएगा। आवश्‍यकता पड़ने पर इस कैलेंडर में बदलाव किये जा सकते हैं। तय अवधि के दौरान कोई अवकाश पड़ जाने जैसे कारण भी इसमें शामिल हैं। इस तरह के बदलावों के बारे में जानकारी प्रेस विज्ञप्तियों के जरिये दी जाएगी।

भारतीय रिजर्व बैंक के परामर्श से भारत सरकार के पास नीलामी संबंधी अधिसूचना में इंगित उपर्युक्त प्रतिभूतियों में से प्रत्येक के लिए 2,000 करोड़ रुपये तक के अतिरिक्त अभिदान को बनाए रखने के लिए ग्रीन-शू ऑप्शन का इस्तेमाल करने का अधिकार है। हालांकि किसी भी नीलामी के अंतर्गत एक या उससे अधिक प्रतिभूतियों में ग्रीन-शू ऑप्शन या विकल्प का उपयोग नीलामी संबंधी समग्र अधिसूचित राशि के दायरे में ही करना होगा।

भारतीय रिजर्व बैंक महीने के प्रत्येक तीसरे सोमवार को नीलामी के जरिये प्रतिभूतियों की अदला-बदली भी सुनिश्चित करेगा। यदि तीसरे सोमवार को अवकाश रहता है, तो महीने के चौथे सोमवार को नीलामी के जरिये प्रतिभूतियों की अदला-बदली की जाएगी।

दिनांकित प्रतिभूतियों की नीलामी पर भारत सरकार द्वारा 27 मार्च, 2018 को जारी सामान्‍य अधिसूचना संख्‍या एफ. 4(2)-डब्‍ल्‍यूएंडएम/2018 में उल्लिखित शर्तें लागू होंगी जिसमें समय-समय पर संशोधन किया जाता है।

 

****

एमजी/एएम/एसकेसी



(Release ID: 1758853) Visitor Counter : 78


Read this release in: English