स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय

डॉ. हर्षवर्धन ने 'स्वास्थ्य सेवा की पुन:कल्पना' शीर्षक से अगली पीढ़ी के स्वास्थ्य सम्मेलन को संबोधित किया


"संपूर्ण सरकार' और 'संपूर्ण समाज'  के दृष्टिकोण' के साथ हम एक बार फिर इस महामारी की लहर से उत्पन्न चुनौतियों से पार पा लेंगे, एक साथ हम अधिक मजबूत और अधिक सुदृढ़ होकर भी उभरेंगे ”

“देश में चल रहा दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान तीव्र गति से प्रगति के पथ पर अग्रसर है, हमारा देश दुनिया में सबसे तेज़ी से 13 करोड़ से अधिक टीके लगाने वाला देश बन गया है ”

Posted On: 20 APR 2021 7:18PM by PIB Delhi

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज एक वीडियो रिकॉर्डिड संदेश के माध्यम से, आईएमसी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा आयोजित अगली पीढ़ी के स्वास्थ्य सम्मेलन 'स्वास्थ्य सेवा की पुन:कल्पना’ को संबोधित किया।

स्वास्थ्य सेवा प्रणाली के भविष्य पर बातचीत को आगे बढ़ाने और इसे और अधिक लचीला बनाने के तरीकों के लिए आईएमसी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री को बधाई देते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने मंच पर स्वास्थ्य सेवा और संबद्ध क्षेत्रों के कई दिग्गज़ो और विशेषज्ञों की भागीदारी की प्रशंसा की।

भारत में कोविड-19 रोगियों की संख्या में हालिया वृद्धि पर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्थिति एक बार फिर से चिंताजनक लग रही है, लेकिन उन्होंने आशा व्यक्त की है कि "सम्पूर्ण सरकार' और 'सम्पूर्ण समाज' के दृष्टिकोण के साथ हम एक बार फिर से इस महामारी की मौजूदा लहर से उत्पन्न चुनौतियों पर पार पा लेंगे। साथ में, हम अधिक मजबूत और अधिक सुदृढ होकर भी उभरेंगे।”

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, "कोविड-19 ने मौजूदा समय में दुनिया भर में स्वास्थ्य प्रणालियों में कई तरह की खामियाँ उजागर की हैं, इसकी वजह से स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र सार्वजनिक नीति निर्माण के केंद्र-स्तर पर भी आ गया है।" उन्होंने यह भी कहा कि सामर्थ्य और पहुंच स्वास्थ्य सेवा प्रणाली की स्थापना के लिए महत्वपूर्ण होगी जो मौजूदा महामारी जैसे संकट का सामना कर सकती है।

डॉ. हर्षवर्धन ने बड़े पैमाने पर समाज के समग्र कल्याण में सुधार लाने के लिए सरकार के प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए कहा, “सरकार के कई कार्यक्रम पहले से ही स्वास्थ्य सेवा के इन पहलुओं पर काम कर रहे हैं। हमारा महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत कार्यक्रम विश्व में सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना है, जो सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज प्रदान करने का प्रयास करता है, साथ ही पूरे देश में 75,000 से अधिक आयुष्मान भारत-स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों के नेटवर्क के माध्यम से समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। हमारी वर्ष 2022 के अंत तक इस संख्या को बढ़ाकर 1,50,000 करने का योजना है।" उन्होंने यह भी कहा कि “स्वास्थ्य सेवा के साथ साथ हमारे फिट इंडिया, स्वच्छ भारत, ईट राइट इंडिया कार्यक्रम को बड़े पैमाने पर सार्वजनिक आंदोलनों के निर्माण में बड़ी सफलता मिली है।

कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में चिकित्सा पेशेवरों के योगदान की प्रशंसा करते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, “हमारे स्वास्थ्य कर्मचारियों ने 14 महीने से अधिक समय तक कोविड-19 के खिलाफ संघर्ष में अग्रणी भूमिका निभाई है और कोई भी शब्द उनकी प्रशंसा पूरी नहीं कर सकता है, हम उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हैं। उन्होंने दूसरों के जीवन की रक्षा के लिए अपनी मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक त्याग किया है। हम हमेशा उनकी अथक और निस्वार्थ सेवा के लिए उनके ऋणी रहेंगे। "

स्वास्थ्य मंत्री ने सभी हितधारकों के सहयोगात्मक प्रयासों की भी सराहना की और कहा कि इन सभी के प्रयासों की वजह से “देश में चल रहा दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान तीव्र गति से प्रगति कर रहा है। हम 13 करोड़ से अधिक टीके लगाने वाले देशो में दुनिया में सबसे आगे हैं। ” उन्होंने माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की अध्यक्षता में एक बैठक में कल लिए गए निर्णयों का भी उल्लेख किया, जिसमें कहा गया है कि “18 वर्ष से अधिक आयु के सभी नागरिक अब 1 मई, 2021 से कोविड-19 टीकाकरण के लिए पात्र होंगे। इससे मौजूदा और नए खिलाड़ियों को देश में उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करते हुए हमारे टीकाकरण अभियान की गति में तेजी आएगी।”

डॉ. हर्षवर्धन ने प्रतिनिधियों को यह आश्वासन भी दिया कि कोविड -19 की गंभीर चुनौती के बावजूद, “हम 2020 की तुलना में आज के समय में बेहतर रूप से तैयार हैं और हम कोविड संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए समय पर कदम उठाने के लिए इसे नियंत्रण में लाने के लिए और पूरे देश में टीकाकरण अभियान का विस्तार करने के लिए हम सब कुछ कर रहे हैं।” उन्होंने दर्शकों को आगे याद दिलाया कि "जब तक हम इस गंभीर चुनौती से निपटना जारी रखते हैं, हमें भविष्य में इस तरह के एक और स्वास्थ्य संकट से बचने, निपटने और बेहतर तरीके से तैयार रहने के अपने बड़े लक्ष्य की दिशा में भी काम करना चाहिए।"

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हम मिलकर इस महामारी से सफलतापूर्वक लड़ सकते हैं। उन्होंने भविष्य में महामारी से लड़ने के लिए शोध और सूचना केंद्र के साथ-साथ भविष्य की महामारी से लड़ने के लिए और सभी को ईमानदारी से अभ्यास करने और उचित व्यवहार का प्रचार करने के लिए 'स्टैच्यू ऑफ इम्यूनिटी' के विचार के साथ आने के लिए मेडस्केप इंडिया को बधाई देते हुए अपने भाषण का समापन किया। 

****

एमजी/एएम/एमकेएस/एनके

 



(Release ID: 1713140) Visitor Counter : 254


Read this release in: English