Prime Minister's Office

Text of PM’s speech at Swachh Shakti 2017 – A Convention of Women Sarpanches at Gandhinagar, Gujarat

Posted On: 08 MAR 2017 10:35PM by PIB Delhi

 देश के कोने-कोने से आए हुए और अपनी जिम्‍मेवारी को बखूबी निभा करके एक प्रेरणा रूप काम किया हैऐसी सभी माताएं,बहनें।

 

मेरा सौभाग्‍य है कि आज मार्च को अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस पर देश के कोने-कोने से आई हुई माताओंबहनों का दर्शन करने का सौभाग्‍य मिलाउनके आशीर्वाद प्राप्‍त करने का सौभाग्‍य मिला।

 

मुझे बताया गया कि आप में से कुछ लोग दिन से यहां हैंकोई दो लोग दिन से हैंकुछ लोग दो दिन के बाद भी रुकने वाले हैंअलग-अलग जिलों में जाके आए हैंगांव कैसे होते हैंवो देख करके आए हैं। यहां भी आप लोगों ने दो प्रदर्शनी देखी होंगीएक गांवगांव का विकास और उसमें स्‍वच्‍छता का महात्‍मयआधुनिक Technology से बहुत ही उत्‍तम प्रकार की प्रदर्शनी यहां लगाई हुई है। मुझे आने में कुछ जो देर हुईउसका एक कारण वो प्रदर्शनी में मेरा मन लग गयामैं जरा देखता ही रह गयातो उसके कारण यहां पहुंचने में देर हो गई। इतनी उत्‍तम प्रदर्शनी हैआपसे मेरा आग्रह है कि उसे सरसरी नजर से न देखें। एक विद्यार्थी की तरह उस पूरी प्रदर्शनी को आप देखिए। क्‍योंकि सरपंच के नाते आप जो दायित्‍व संभाल रहे हैं उस काम को करने में आपको एक नई दिशा मिलेगीजानकारियां मिलेंगीऔर आपका सकंल्‍प और दृढ़ होगाये मेरा विश्‍वास है।

 

दूसरा ये स्‍वच्‍छ शक्ति का समारोह है। गांधी की जन्‍मभूमि गुजरात में हैगांधी के नाम से बने शहर में हैऔर गांधी जिसे हम महात्‍मा कहते थेउस महात्‍मा मंदिर में हैइससे इसका कितना महात्‍मय हैआप समझ सकते हैं। यहीं पर एक Digital प्रदर्शनी,Virtual Museum पूज्‍य बापू के जीवन पर है। गांधी कुटीर जो यहीं पर बनी हुई हैआप उसे भी जरूर देखिए। पूज्‍य बापू के जीवन के अगर हम समझेंगे तो स्‍वच्‍छता के लिए जो पूज्‍य बापू का आग्रह थाउसको परिपूर्ण करने का हमारा संकल्‍प और परिणाम लाने के लिए हमारे प्रयास कभी भी बेकार नहीं जाएंगे।

 

2019, महात्‍मा गांधी को 150 वर्ष हो रहे हैं। पूज्‍य बापू कहते थे कि हिन्‍दुस्‍तान गांवों में बसा हुआ है। दूसरी बात एक कहते थेकि मुझे अगर आजादी और स्‍वच्‍छतादोनों में से पहले कुछ पसंद करना है तो मैं स्‍वच्‍छता पसंद करूंगा। गांधी के जीवन में स्‍वच्‍छता का कितना महात्‍मय था वो उनकी इस Commitment  से  पता चलता है। 2019 में जब हम गांधी 150 मना रहे हैंक्‍या तब तक हम स्‍वच्‍छता के विषय में जो गांधी का प्रयास थाकिसी एक सरकार का प्रयास नहीं हैगांधी के समय से चलता आ रहा है। हर किसी ने कुछ न कुछ किया है। लेकिन अब हमने तय करना है कि यहां तक में हमें काफी कुछ कर देना है। इसके बाद ये विषय अब हमारे स्‍वभाव का हिस्‍सा बन जाएगाहमारी राष्‍ट्रीय पहचान बन जायेगाहमारी रगों में स्‍वच्‍छता अनुभव होगी। ये स्थिति हम पैदा करना चाहते हैं। और ये देश कर सकता है।

 

ये वो सरपंच बहनें हैंजिन्‍होंने अपने गांव में ये करके दिखाया है। खुले में शौच जानाउसके खिलाफ उन्‍होंने संघर्ष किया है। गांव में इस व्‍यवस्‍था को विकसित करने के लिए प्रयास किया है। वैसी स्‍वच्‍छता के संदेश को सफलतापूर्वक अपने गांव में लागू करने वाली शक्तिरूपा लोग यहां बैठे हैं। और इसलिए मेरा विश्‍वास बनता है कि जो गति आई है उस गति को अगर हम बहुत‍ ही समयबद्ध तरीके से और पूरी बारीकी से लागू करने का प्रयास करेंगेतो गांधी 150 होते-होते हम बहुत कुछ बदलाव ला सकते हैं।

 

अभी आपने फिल्‍म देखीउसमें बयां हैस्‍वच्‍छता के संबंध में पहले हमारा rank 42% तक था । इतने कम समय में हम 62 पर पहुंच गए। अगर इतने कम समय में 20 प्रतिशत हम सुधार कर सकते हैंतो आने वाले डेढ़ साल में हम और अधिक कर सकते हैंये साफ-साफ आप लोगों ने करके दिखाया है।

 

आज जिन माताओंबहनों को सम्‍मान करने का मुझे अवसर मिलाउनकी एक-एक मिनट की फिल्‍म छोटी-छोटी हमने देखी। कुछ लोगों का जो भ्रम रहता हैउन सबके भ्रम तोड़ने वाली ये सारी फिल्‍में हैं। कुछ लोगों को लगता है कि पढ़े-लिखे लोग ही कुछ काम कर सकते हैंइन बहनों ने करके दिखाया।

 

कुछ लोंगो को लगता है शहर में होंगे थोड़ी चपाचप अंग्रेजी बोल पाते होंगे वो ही कर पाते हैं। ये अपनी भाषा के सिवाय कोई भाषा नहीं जानतेतो भी ये कर पाते हैं। अगर किसी विषय के साथ व्‍यक्ति जुड़ जाता हैजीवन का मकसद अगर उसको मिल जाता हैतो वो उसे पार करके रहता है। बहुत लोगों को तो पता ही नहीं होता उनकी जिंदगी का मकसद क्‍या है। आप पूछोगेकल क्‍या करोगे तो बोले शाम को सोचूंगा। जिनको अपने जीवन का मकसद ही पता नहीं हैवो जीवन में कभी कुछ नहीं कर पातेजिंदगी गुजारा कर लेते हैदिन गिनते रहते हैं और कुछ चीजें दो-चार अच्‍छी हुई तो उसी के गाजे-बाजे के साथ गुजारा करके रात को सो जाते हैं।

 

लेकिन जिसको जिंदगी का मकसद मिल जाता हैPurpose of life जिसको पता चल जाता हैवह बिना रुकेबिना थकेबिना झुकेअपने लक्ष्‍य की पूर्ति के लिएजिसकी भी जरूरत पड़े उसको साथ ले करकेसंघर्ष करना पड़े तो संघर्ष करकेचुनौतियों से मुकाबला करना पड़े तो मुकाबला करके भी अपने मकसद को पूर्ण करने तक वो चैन से बैठते नहीं हैं।

 

आप में से सब सरपंच होना कोई छोटी बात नहीं है। कुछ लोग होंगे जिनको सरपंच बनने में शायद तकलीफ न हुई होलेकिन ज्‍यादातर ऐसे होंगे जिनको इस लोकतांत्रिक परम्‍परा मेंयहां तक पहुंचने में काफी कुछ करना पड़ा होगा।

 

आज से 15 साल पहले कभी सरपंचों की मीटिंग हुआ करती थी33 percent reservation होता थालेकिन मैं भी मीटिंगों में अनुभव करता थामैं पहले गुजरात के बाहर काम करता थाकई अलग-अलग राज्‍यों में मैंने काम किया है। तो मैं पूछता था तो वो परिचय में बताते थेपुरुषकि मैं SP हूं। तो मुझे भी होता था ये सरकारी आदमी यहां कैसे आ गयाये तो पार्टी की मीटिंग हैतो मैं पूछता था भाई आप SP यानी कहां नौकरी करते हैंनहींनहीं बोले मैं SP हूंतो मैंने कहा मतलबतो बोले मैं सरपंच पति हूं। तो बोले मेरी बीवी सरपंच है लेकिन मीटिंग में मैं ही जाया करता हूं। अब किसी समय ऐसा थाआज ऐसा नहीं है। जिस महिला को सरपंच के नाते काम मिला हैउसको लगता है कि पांच साल मुझे जो मौका मिला हैमैं कुछ करके जाना चाहती हूं। वो अपनी पारिवारिक जिम्‍मेवारियों में सब adjust करती है। परिवार में भी अपनी Priority को लोग स्‍वीकार करें इसका वातावरण बनाती है। और अनुभव ये कहता है कि पुरुष सरपंच से ज्‍यादा महिला सरपंच अपने काम के प्रति ज्‍यादा समर्पित होती है। उसका Focus होता है। पुरुष सरपंच और पचासों चीजें करने में लगा रहता है। वो बना सरपंच होता है और अगली बार जिला परिषद में जाने के लिए सोचता रहता है। जिला परिषद में है तो धारा सभा में जाने के लिए सोचता रहता है। लेकिन महिलाएं जिस समय जो काम मिला उसको पूरी लगन से पूरा करने का प्रयास करती हैं। और उसका परिणाम है।

 

एक संस्‍था ने बड़ा मजेदार सर्वे किया है और उस सर्वे में उसने बड़ी महत्‍वपूर्ण चीजें पाई हैं। और उसने सारी जो professional महिलाएं हैंउनका सर्वे किया था और उस सर्वे में पाया गया कि नई चीज सीखने की वृत्ति महिलाओं में ज्‍यादा होती है। जो काम उसको दिया गयाउसको पूरा करने के लिए जितनी अपनी क्षमता बनानी चाहिएशक्ति लगानी चाहिएउसमें कभी वो पीछे नहीं रहती है। जो काम उसको मिलापूरा नहीं होता है वो चैन से बैठती नहीं है। वो उसको लगातार उसके पीछे लगी रहती है। अपना काम करने के लिएजो तय किया हुआ है उसके जिम्‍मे हैउसको पूरा करने के लिए कौन-कौन से resource mobilize करने चाहिएकिस-किसकी शक्ति जोड़नी चाहिएबड़ी आसानी से वो करती है उसको कोई Ego नहीं होता है। किसी को नमस्‍ते करके काम करवाना है तो नमस्‍ते करके करवा लेंगीकिसी से गुस्‍सा करके करवाना है तो गुस्‍सा करके करवा लेंगी। बड़ा Interesting Survey है ये।

 

हमारे देश की 50 प्रतिशत मातृ शक्ति भारत की विकास यात्रा की सक्रिय भागीदारी करेहम देश को कहां से कहां पहुंचा सकते हैं। और इसलिए बेटी बचाओबेटी पढ़ाओइस मंत्र को ले करके भी देश में काम करने की बहुत आवश्‍यकता है। कम से कम जहां महिला सरपंच हो उस गांव में तो भ्रूण हत्‍या नहीं होनी चाहिए। मां के गर्भ में बच्‍ची को मार देने का पाप उस गांव में कतई नहीं होना चाहिए। और वो जागरूकता का काम एक सरपंच बहन अगर तय करे तो कर सकती है। पारिवारिक दबाव में किसी अगर बहु के ऊपर जुल्‍म हो रहा है तो सरपंच उसकी रक्षक बनके खड़ी हो सकती हैऔर एक बार वो कहने लगेगी तो कोई कुछ नहीं कर सकता है। बेटी बचाओआज समाजजीवन में कैसी दुर्दशा आई है! 1000 बेटे के सामने कहीं 800, कहीं 850, कहीं 900, कहीं 925 (सवा नौ सौबेटियां हैं। अगर समाज में इतना बड़ा असंतुलन पैदा होगा तो ये समाज ये समाज चक्र चलेगा कैसेऔर ये पाप हैइसके खिलाफ समाज का दायित्‍व है।

 

सरपंच महिलाएं शायद उसमें ज्‍यादा सफलता पा सकती हैं। समाज में जो मानसिकता हैबेटी हैअब छोड़ोउसको तो दूसरे के घर जाना है। बेटा हैजरा संभालो। आप भी जब छोटे होंगेमांमां भी तो नारी हैलेकिन जब खाना परोसती और घी परोसती तो बेटे को दो चम्‍मच घी डालती है बेटी को एक चम्‍मच डालती है। क्‍योंउसको तो दूसरे के घर जाना है। बेटा है तो बहुत खुश है,ये बिल्‍कुल सत्‍य नहीं है। मैंने ऐसी बेटियां देखी हैंमां-बाप की इकलौती बेटीबूढे मां-बाप को जीवन में कष्‍ट न होइसलिए उस बेटी ने शादी न की होमेहतन करती हो और मां-बाप का कल्‍याण करती होऔर मैंने ऐसे बेटे देखे हैं कि चार-चार बेटे होंऔर मां-बाप वृद्धाश्रम में जिंदगी गुजारते होंऐसे बेटे भी देखे हैं।

 

और इसलिए ये जो भेदभाव की मानसिकता हैउस मानसिकता के खिलाफ हमें दृढ़ संकल्‍प हो करके बदलाव लानाबदलाव आ रहा है। ऐसा नहीं हैकि नहीं आ रहा है। आप देखिए इस बार हिन्‍दुस्‍तान का नाम ओलम्पिक में किसने रोशन किया हैसभी मेरे देश की बेटियां हैं। देश का माथ ऊंचा कर दिया। आज 10वीं, 12वीं परीक्षा के रिजल्‍ट देख लीजिएपहले दस में बेटियां ही बेटियां होती हैं। बेटे को ढूंढना पड़ता है कि नंबर लगा है क्‍याक्षमता उन्‍होंने सिद्ध कर दी है।

 

जहां भीजो भी अवसर मिला हैउस काम को देदिप्‍यमान करने का काम हमारी माताओंबहनों ने किया है और इसलिए बेटी बचाओबेटी पढ़ाओ। ये हमारा सामाजिक दायित्‍व हैराष्‍ट्रीय दायित्‍व हैमानवीय दायित्‍व है। अमानवीय बात समाज में स्‍वीकृत नहीं हो सकती है और हमारे यहां तो शास्‍त्रों में कहा गया हैबेटी का महात्‍मय करते हुए,

यावत गंगा कुरूक्षेत्रेयावत तिष्‍ठति मेदनी।

यावत सीता कथालोकेतावत जिवेतु बालिका।।

 

जब तक गंगाकुरुक्षेत्र और हिमालय हैंजब तक सीता की गाथा इस लोक में हैबालिका तुम तब तक जीवित रहो। तुम्‍हारा नाम तब तक दुनिया याद रखे। ये हमारे शास्‍त्रों में बेटी के लिए कहा गया है। और इसलिए बेटी बचाओबेटी पढ़ाओकोई भेदभाव नहीं।

 

हमारे सरपंच महिलाओं से मेरा ये आग्रह है कि इस बात को आप अपने गांव में डंके की चोट पर देखें। अगर बेटा पढ़ता है गांव की बेटी भी पढ़नी चाहिए। गरीब से गरीब होऔर सरपंच ये न सोचे कि इसके लिए बजट कीबजट की जरूरत नहीं होती है। सरकार ने स्‍कूल बनाया हुआ है। सरकार ने टीचर रखा हुआ है। उसके लिए गांव को अलग खर्चा नहीं करना हैसिर्फ आपको निगरानी रखनी है कि बेटियां स्‍कूल में जाती हैं कि नहींजैसे कौन परिवार है जिसने अपनी बेटी को स्‍कूल में नहीं रखा हैइतना सारा देख लीजिए।

 

आप सरपंच हैंएक काम कीजिए कभीअच्‍छा लगेगा आपको भी। स्‍कूल में बच्‍चों को कहिएकि वो गांव के सरपंच का नाम लिखें। उसी गांव केदूसरे गांव के नहीं। आप गांव के सरपंच हैंकोई दो साल से सरपंच होंगेतीन साल से सरपंच होंगेलेकिन आपके गांव के स्‍कूल का बच्‍चा आपका नाम नहीं जानता होगा कि वो जिस गांव में हैउस गांव के सरपंच कौन हैंपता नहीं होगा। उसे ये पता होगा प्रधानमंत्री कौन हैउसे ये पता होगा मुख्‍यमंत्री कौन हैलेकिन उसे ये पता नहीं होगा कि उसके गांव के सरपंच कौन हैं?और जिसको पता होगा जरा उसको कहिए नाम लिखेंतो आपको ध्‍यान में आएगा जिस गांव के आप सरपंच हैंजिस गांव में आपके गांव में स्‍कूल हैटीचर को तनख्‍वाह जा रही हैहजारों-लाखों रुपये का बिल्डिंग बना हुआ हैऔर उस गांव के बच्‍चे को आपके नाम को spelling भी ठीक से लिखना नहीं आता है तो आपको दुख होना चाहिए कि नहीं होना चाहिएआप जरा जा करके प्रयोग कीजिए। देखने से तो बता देगा हांये हमारे प्रधान जी हैंलेकिन नाम पता नहीं होगा।

 

मैं ये नहीं कहता हूं कि आप अपने गांव की पूरी खातिरदारी करते हैं कि नहीं करते हैंमहीने में एकाध बार आधा घंटा के लिए गांव के जितने टीचर हैंअपने घर पर कभी चाय पीने के लिए बुला लीजिए। ऐसे उनसे कहिए कि भई देखिएमैं सरपंच हूं और इस गांव में अपनी पढ़ाई में कोई बच्‍चा पीछे नहीं रहना चाहिएतहसील में नंबर आना चाहिएजिले में नंबर आना चाहिएराज्‍य में नंबर आना चाहिए। बताओ फिर आपको कोई तकलीफ है क्‍यादेखिए एक बार आप चाय के लिए बुलाओगे ना महीने में एकाध बारऔर साल में चार महीने तो छुट्टी रहती है तो 7-8 बार ही बुलाना पड़ेगा साल में। उसमें एकाध दिवाली का दिन आ जाएगाएकाध होली का दिन आ जाएगाकोई त्‍योहार का दिन आ जाएगा तो ऐसे तो सिर्फ दो बार ही बुलाना पड़ेगा। लेकिन उस टीचर को लगेगा सरपंच बहुत सक्रिय हैगांव में अच्‍छी शिक्षा की चिंता कर रहे हैं। लेकिन ज्‍यादातर सरपंच बाकी 50 काम करेंगेइन मूलभूत कामऔर आज गांव कोपहले की स्थिति ऐसी थी गांव के सरपंच ये नगरसेठ हुआ करते थेक्‍योंजो भी मेहमान आए उसको खिलानारखनाचाय पिलानावो एक ही आदमी घर रहता था। आज तो 14th  Finance Commission के बाद दो लाख करोड़ रुपया सीधा-सीधा गांव में जाता है। दो लाख करोड़ रुपया छोटी रकम नहीं है।

 

आप गांव के अगर निर्धारित करें कि साल में ये 25 कार्य मुझे पूरे करने हैंआप आराम से कर सकते हैं। और आप सफलतापूर्वक कर सकते हैं। गांव की कभी आंगनवाड़ी में काम करने वाली बहनों को बुलाइएकभी आप आंगनवाड़ी में चले जाइएस्‍वच्‍छता है कि नहींटीचर ठीक है कि नहींखाना ठीक खिला रहे कि नहीं खिला रहे। बच्‍चों को जो खेलना चाहिए वो खिलाते हैं कि नहीं खिलाते हैं। अगर आपको थोड़ा सा ध्‍यान देंगेआपको Leadership देनी चाहिए।

 

आपने देखा है कि सरकार खर्च करती हैं टीकाकरण के लिएऔर मैं वो काम बता रहा हूं आपकोजिसके लिए अलग बजट की जरूरत नहीं है। आपकोआपके गांव को एक रुपया खर्च करने की जरूरत नहीं है। क्‍या कभी आपने सोचा है कि आपके गांव में 50 बालकों का टीकाकरण होना चाहिएलेकिन इस बार 40 हुए, 10 क्‍यों नहीं हुएउन 10 बच्‍चों का टीकाकरण कैसे करवाएंगेअगर आपके यहां गांव के सभी बच्‍चों का टीकाकरण आप करवा लेते हैंसरपंच के नाते पक्‍का कर लेते हैंजितने भी टीका करवाने होते हैंपूरा कोर्स करवा देते होक्‍या वो बच्‍चा कभी गंभीर बीमारी का शिकार होगा क्‍याआपके गांव के हर बच्‍चेआपके कार्यकाल में जितने बच्‍चे छोटे होंगेवे अगर सलामत रहेंकोई बीमारी आने की संभावना नहीं रही तो जब वो 20 साल होंगे, 25 साल के होंगे तो आपको गर्व होगा कि हां हमारे गांव में मैंने शत-प्रतिशत टीकाकरण करवाया था तो मेरे कालखंड के जितने बच्‍चे हैं गांव केसारे के सारे तंदुरूस्‍त बच्‍चे हैं। आप बताइए बुढ़ापे में आपको जीवन में कितना आनंद मिलेगा।

 

लेकिन टीकाकरण आए हैं। अच्‍छाअच्‍छा आप लोगों ने कुछ खाया-पियाचाय पियाठीक हैठीक है कर लीजिए। नहींमैं सरपंच हूंमेरे गांव में कोई टीकाकरण के बिना रहना नहीं चाहिए। मैं सरपंच हूंमेरे गांव में कोई बच्‍ची स्‍कूल जाए बिना रहनी नहीं चाहिए। मैं सरपंच हूंमेरे गांव के अंदर कोई बच्‍चा स्‍कूल छोड़ करके घर भाग नहीं जाना चाहिए। मैं सरपंच हूंमेरे गांव का टीचर आता है कि नहीं आता हैमैं पूरा ध्‍यान रखूं।

 

ये काम अगर Leadership हमारे सरपंचों के द्वारा दी जाती हैकोई भी खर्च किए बिनानया कोई पैसा लगाना नहीं हैसरकार की योजनाएं लागू करने से ही बहुत बड़ा लाभ होगा। कभी-कभी हमने सोचा होगा कि गांव के अंदर बीमारी का कारण है।

 

अब सब हम देखते हैं शौचालय क्‍योंकि ओर हमारा ध्‍यान केन्द्रित हो रहा है इन दिनों। लेकिन ये कभी सोचा है कि स्‍वच्‍छता से कितना आर्थिक लाभ होता हैWorld Bank की रिपोर्ट कहती है कि गंदगी के कारण जो गरीब परिवारों में बीमारी आती है,औसत हजार रुपया एक गरीब परिवार को साल में दवाई का खर्चा हो जाता है। अगर हम स्‍वच्‍छता रखेंगांव में बीमारी को घुसने न दें तो इन गरीब का साल का हजार रुपया बचेगा का नहीं बचेगाउन पैसों से वो बच्‍चों को दूध पिलाएगा कि नहीं पिलाएगावो तंदुरुस्‍त बच्‍चे आपके गांव की शोभा बढ़ाएंगे कि नहीं बढ़ांएगेऔर इसलिए गांव के सरपंच के नातेगांव के प्रधान के नातेमेरे कार्यकाल मेंमेरे गांव में ये चीजें होनी चाहिए। इसमें मैं कोई समझौता नहीं होने दूंगीइस विश्‍वास के साथ हम लोगों ने काम करना चाहिए।

 

हमारे देश में गांव का महात्‍मय हर किसी ने व्यक्त किया है लेकिन रवीन्‍द्रनाथ जी टैगोर ने 1924 मेंशहर और गांवउसके ऊपर कुछ पंक्तियां लिखी थींबांग्‍ला भाषा में लिखी थींलेकिन उसका हिन्‍दी अनुवाद मैं थोड़ा बताता हूं। आपको लगेगा हां हमारे साथ बराबर फिटऔर 1924 में लिखा था। यानी करीब-करीब आज से 90 साल से पहले। उन्‍होंने लिखा थाऔर यहां महिला वर्ष है तो बहुत सटीक बैठता है-

 

रवीन्‍द्रनाथ टैगोर ने लिखा था-

''गांव महिलाओं के समान होता हैयानी जैसा गांवगांव वो होता है जैसे महिला होती हैउन्‍होंने कहा। उनके अस्तित्‍व में समस्‍त मानव जाति का कल्‍याण निहित हैनारी के स्‍वभाव का प्रतिबिंब है। शहरों के मुकाबले गांव प्रकृति के अधिक समीप हैंऔर जीवन धारा से अधिक जुड़े हुए हैं। उनमें प्राकृतिक रूप से Healing Power यानी समस्‍त घावों को भरने की शक्ति है। महिलाओं की तरह ग्राम भी मनुष्‍यों को भोजनखुशीजैसी बुनियादी आवश्‍यकताओं की पूर्ति करते हैं जीवन की एक सरल कविता के समान। साथ ही महिलाएं गांव में स्‍वतजन्‍म लेने वाली सुदंर परम्‍पराओं की तरह उल्‍लास से भर देती हैंलेकिन यदि ग्राम या महिलाओं पर अनवरत् भार डाला जाएगावों के संसाधनों को शोषण किया जाएतो उनकी आभा चली जाती है।''

 

अब हमने भी सोचा होगा कि गांव का संसाधनों का शोषण होना चाहिए क्‍याप्राकृतिक रक्षा होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिएपेड़-पौधेहरियालीपानीशुद्ध हवा के लिए हम ऐसा गांव क्‍यों न बनाएं कि शहर में रहने वालों को भी मन कर जाए कि एक छोटा सा घर गांव में भी बनाएं। और कभी सप्‍ताह में एकाध-दो दिन गांव में आ करके जिंदगी गुजारने का मन कर जाए ऐसा हम गांव क्‍यों न बनाएं। बन सकता हैआज जो Trend चला है नारहते गांव में हों लेकिन एकाध घर शहर में हो। छुट्टी के दिन चले जानाबच्‍चों को लेके जाना। वो भी Trend शुरू हो सकता है कि गांव ऐसा हो कि छुट्टी के दिन दोस्‍तों को ले करके गांव चले जाएंगेकुछ पल गांव में बिता करके आ जाएंगे। गांव ऐसा बनाया जा सकता है।

 

सरकार का भी प्रयास है, Rurban Mission। आत्‍मा गांव की होसुविधा शहर की हो। Optical Fibre Network से हिन्‍दुस्‍तान की हर पंचायत को जोड़ने की दिशा में काम चल रहा है। ढाई लाख पंचायतें हैं। करीब-करीब 70 हजार पंचायतों तक काम पूरा हुआ है। स्‍कूल तक Cable लगेगापंचायत घर तक Cable लगेगा। गांव की आवश्‍यकता के अनुसार उस Cable  को विस्‍तृत किया जायेगा। आधुनिकता गांव को भी मिलेउस दिशा में सरकार काम कर रही है। इन दिनों गांव में भीमैं अभी जब प्रदर्शनी देख रहा थातो हमारे सचिव महोदय मुझे बता रहे थे कि गांव की जो सरपंच बहनें आई हैं वो बड़े मन से प्रदर्शनी देख रही थीं और बोले हर कोई सेल्‍फी ले रहा था। कभी-कभी हम पार्लियामेंट में सुनते हैं कि Technology  कैसे आएगीगांव में लोगों के पास Technology  नहीं हैअब वो भाषण करने के लिए कहते हैं कि क्‍या कारण है मुझे मालूम नहींलेकिन मेरा अनुभव अलग है। Technology ने इतना बड़ा  revolution किया हैमैं जब गुजरात में मुख्‍यमंत्री था तो यहां कपराड़ा करके एक स्‍थान हैवहां गया था। बड़ा पिछड़ा हुआ तहसील हैएकदम से एकदम से remote एरिया में और एक छोटा सा कार्यक्रम था Milk का chilling center का उद्घाटनआदिवासी गांव में। और उन्‍होंने अब मैदान भी नहीं था क्‍योंकि जंगल है तो सभा करने के लिए वहां से तीन किलोमीटर दूर एक स्‍कूल के मैदान में सभा रखी और chilling center एक जगह पर बना हुआ था। मैं chilling center  के उद्घाटन के लिए गया तो दूध भरने वाली 25-30 महिलाएं भी वहां थीं। वो बहनें वहां खड़ी थीं। हम लोग उसकी दीया जलानारिबन काटनासब कर रहे थे। और मैं देखा कि सारी महिलाएंऔर ये बात मैं करीब 10 साल पहले की कर रहा हूंसारी महिलाएंआदिवासी महिलाएं अपने मोबाइल फोन से फोटो निकाल रही हैं। मैं हैरान थामैं उनके पास गयामैंने कहा कि आपकी फोटो तो आ नहीं रहीमेरी फोटो निकाल के क्‍या करोगेक्‍या आपको फोटो निकालनी आती हैआदिवासी बहनें थींअनपढ़ थीं। उन्‍होंने मुझे क्‍या जवाब दियावो जवाब मेरे लिए और प्रभावी था मेरे मन पर। उन्‍होंने कहा ये तो हम जा करके download करवा लेंगे। मैं हैरान था जी ये पढ़ी-लिखी बहनें नहीं थीं और वो कह रही है कि हम जा करके download करवा लेंगे।

 

किस प्रकार से Technology ने जन-सामान्‍य के जीवन में प्रवेश कर लिया है। हमने अपनी व्‍यवस्‍था मेंअब आप यहां गांवों में Common Service Centre भारत सरकार ने खोले हैं। आपने कभी देखा है क्‍या कि Common Service Centre में Technology के माध्‍यम से ये जो नौजवान को वहां रोजगार मिला हैउसके पास कम्‍प्‍यूटर हैक्‍या-क्‍या सेवाएं दे रहा हैउन सेवाएं आपके गांव के लिए कैसे उपलब्‍ध हो सकती हैंआप इस व्‍यवस्‍था का लाभ ले सकते हैं कि नहींमेरा कहने का तात्‍पर्य ये है कि हम लोग आवश्‍यकता के अनुसारपूरा प्रयत्‍न करकेTechnology  का उपयोग भी अपने गांव में लाने की दिशा में  प्रयास करें। आप देखिए आपके गांव में एक बहुत बड़ा बदलाव इस Technology  के माध्‍यम से आ सकता है।

 

हो सकता है हमें सब कुछ नहीं आता है लेकिन जिनको आता है उनको हम साथ में रख सकते हैं। पुरुषों को Ego होता है वो नहीं रखेंगेआपको अपने घर में 12th का बच्‍चा होगा ना तो उसको भी पूछोगे तो बता देगा कि ऐसे-ऐसे करना चाहिए। लेकिन एक बार आप देखिए कि आपकी ताकत अनेक गुना बढ़ जाएगी।

 

हम गांव में रहते हैंकभी हमने सोचा है कि हमारे गांव में सरकारी तिजौरी से पगार लेने वाले कितने लोग रहते हैंकिसी ने नहीं सोचा होगा। जो भी सरकारी पगार लेते हैं तिजौरी सेवे एक प्रकार से सरकार ही हैं। क्‍या महीने में एक बार आपके गांव में ऐसी एक छोटी सी सरकार की मीटिंग कर सकते होकोई ड्राइवर होगा जो आपके गांव का होगासरकारी बस चलाता होगा। कोई Compounder होगाकोई Peon होगाकोई clerk होगाकोई teacher होगाजिनको सरकार से तनख्‍वाह  मिलती है। हर गांव में 15-20 लोग ऐसे मिलेंगे जो किसी न किसी रूप में सरकार से जुड़े हुए हैं। क्‍या महीने में एक बार ये जो सरकार का प्रतिनिधित्‍व करते हैंसरकार से तनख्‍वाह लेते हैंसरकार क्‍या है जिनको अता-पता हैसरकार के ऊपर के लोगों को जानते हैं। क्‍या कभी आपने हर महीने में एक बारअपने गांव के और कहीं पर भी काम करने वाले और गांव में रहते हैंशाम को गांव आ जाते हैंऐसे लोगों की महीने में एक बार बैठ करकेभई अपने गांव में क्‍या कर सकते हैंसरकार से क्‍या मदद ला सकते हैंकैसे ला सकते हैंतुम्‍हारी कोई जान-पहचान है क्‍याये अगर व्‍यवस्‍था विकसित करोगे तो आपकी ताकत।

 

आज क्‍या होता हैसरकार यानी एक पटवारी से ज्‍यादा आपको कोई दिखता नहीं हैलेकिन आंगनवाड़ी वर्कर होआशा वर्कर होटीचर होये सारे सरकार के ही प्रतिनिधि हैं। आपने कभी उस व्‍यक्ति को जोड़ा नहीं है तो मेरा आग्रह है कि आप उनको जोडि़ए,आपकी शक्ति अनेक गुना बढ़ जाएगी और आपको काम की सरलता रहेगी।

 

एक दूसरा कामसाल में एक बार जरूरी कीजिए। आपके गांव से बहुत लोग गांव छोड़ करके शहर में चले गए होंगे। कभी शादी-ब्‍याह के लिए आते होंगेरिश्‍तेदारी में कभी आते होंगे। गांव का जन्‍मदिन मनाना चाहिए। क्‍या कभी आपने सोचा हैजिन गांवों को पता नहीं कि उनके गांव का जन्‍मदिन क्‍या है वो चिट्ठी निकालकर तय करें कि भई ये फलानी तारीख हमारे गांव का जन्‍मदिन है। और फिर हर वर्ष बड़े आन-बान-शान से गांव का जन्‍मदिन मनाना चाहिएहर वर्ष। और उस दिन आपके गांव के जितने लोग बाहर गए हैं उनको बुलाना चाहिए। तीन-चार दिन का कार्यक्रम करना चाहिए। गांव में 75 से ज्‍यादा आयु के जितने लोग हैं उनका सम्‍मान करना चाहिएगांव में हर किसी को पौधा लगाने के लिए कहना चाहिएगांव के बच्‍चों को स्‍वच्‍छता के अभियान के साथ जोड़ना चाहिएऔर गांव के जो लोग बाहर रहते हैं उनको विशेष रूप से बुलाना चाहिए और उनको कहना चाहिए बताओ भाई गांव के लिए आप क्‍या कर सकते हैं। आप देखिए पूरे गांव एक प्राणवान गांव बन जाएगा। जीवंत गांव बन जाएगा। गांव यानी अब बस छोड़ो भाईजल्‍दी 18 साल की उम्र हो जाएचलें जाएंछोड़ देंक्‍या करें जिंदगी ऐसी जी करके। इससे उलटा करने का समय आया है और आप अगर इस बात को करेंगेमुझे विश्‍वास है आपके गांव में एक नया जीवन आ जाएगा।

 

और जैसा मैंने कहा हमारे गांव में पशु होते हैं। कुछ लोग यहां देखने गए होंगेमुझे बताया गया कि कुछ यहीं गांधीनगर के ही पास में पशुओं का होस्‍टल वाले कुछ गांव हैं। देखा होगा कि गांव में कूड़ा-कचरा कैसेwaste में से wealth create किया जा सकता है। ये जो हम waste  मानते हैं वो waste  नहीं है वो wealth  है।

 

आप गांव में कोशिश कीजिएकुछ लोगों को लगाइएSelf-help group बनाइए। गांव के कूडे-कचरे में से Compost खातर बनाइएगांव खातर की बिक्री होगीपंचायत की आय होगी। और जमीन का सुधार होगा तो गांव के लोगों की खेती भी अच्‍छी होगी। छोटे-छोटे काम जिसमें अलग बजट की जरूरत नहीं हैआप स्‍वयं थोड़ा initiative लेंआप अपने गांव को जैसे स्‍वच्‍छ बनाया है वैसे समर्थ भी बना सकते हैं। स्‍वच्‍छता को आपने स्‍वभाव बना करके सीखा है और स्‍वच्‍छता एक ऐसा विषय है जो हमें खुद को करनी पड़ती है। मान लीजिए हम कहीं जा रहे होंअचानक हमारे शरीर पर कोई गंद पड़ीकोई गंदी चीज पड़ गई। हम इंतजार करते हैं क्‍याअड़ोस-पड़ोस में जो चल रहा है वो साफ करेऐसा करते हैं क्‍यातुरंतहम कितने ही बड़े महान पुरुष क्‍यों न होंजेब से hanker chief निकालते हैं यूं करके साफ करना शुरू कर देते हैंक्‍योंगंदगी एक पल भी हमें पसंद नहीं है। हमारे शरीर पर अगर थोड़ी सी भी गंद पड़ी तो हम तुरंत साफ करते हैं। वैसे ही ये हमारी मां है भारतमाताउस पर भी कोई गंद पड़े तो उसकी सफाई हम सबको मिल करके करनी होगी। ये स्‍वच्‍छता का स्‍वभाव बना लो। ये अगर स्‍वच्‍छता का स्‍वभाव बनाएंगेऔर एक बार अगर गंदगी गईआप देखिए फिर देश में कुपोषण की समस्‍याबीमारी की समस्‍याबीमारी के पीछे खर्चाये सब में कटौती आ जाएगी।

 

गरीब को सबसे ज्‍यादा फायदा होगा। गंदगी की सबसे ज्‍यादा परेशानी किसी को है तो गरीब को हैझुग्‍गी-झोंपड़ी में जिंदगी गुजारने वालों को हैगंदा पानी पीने वालों को है। ये मानवता का काम हैइस मानवता के काम को अगर हम उसी भाव से करेंगे,जनसेवायही प्रभुसेवाये हमारे कहा गया हैउसी भाव से अगर हम करेंगे तो मुझे विश्‍वास है कि 2019 मेंस्‍वच्‍छ भारत में कुछ achieve करना हैबदलाव महसूस हो ऐसी स्थिति पैदा करनी है और ये सरकार के नाम करने की बात नहीं है मेरी। ये समाज का स्‍वभाव बनाना पड़ेगासमाज में आंदोलन करना पड़ेगागंदगी के प्रति नफरत का वातावरण पैदा करना पड़ेगातो अपने आप होगा। शौचालय उसमें एक हिस्‍सा है। शौचालय हो गया मतलब स्‍वच्‍छता हो गईये हमारी कल्‍पना नहीं है। और पूरे देश में पहले कभी स्‍वच्‍छता पर चर्चा ही नहीं होती थी। अच्‍छा हुआ है पिछले दो साल से लगातार स्‍वच्‍छता पर चर्चा हो रही है। और मैं ये भी बात publically स्‍वीकार करता हूं कि आमतौर पर सरकार की तरफ से कोई बात कही जाएउसी दिन media उसमें नुक्‍स निकालने में लग जाता हैक्‍या कमी हैक्‍या गलत हैक्‍या झूठ बोलते हैंउसे वो पकड़ता है।

 

स्‍वच्‍छता एक ऐसा विषय मैंने देखाmedia ने भी उसे गले लगाया है और सरकार जितना काम करती है उससे दो कदम ज्‍यादा media  के लोग भी कर रहे हैं। ये एक ऐसा है जिसको देश के हर किसी ने स्‍वीकार किया हैहर किसी ने स्‍वीकार किया है। जिस काम को हर किसी ने स्‍वीकार किया हो उसमें सफलता मिलना स्‍वाभावि‍क हैउसका systematic ढंग से करना पड़ेगा। सिर्फ स्‍वच्‍छता के मंत्र बोलने से नहीं होगा। ये हमें actually physically करना पड़ेगा। और गांव में सफाई हुईहिन्‍दुस्‍तान बदला हुआ नजर आएगा। हमारा जीवन बदला हुआ नजर आएगा।

 

मेरा आप सबसेजिन-जिन लोगों का सम्‍मान हुआ है उनको मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं और उनका कार्य उनका जीवनउनका पुरुषार्थउनका संकल्‍प हम सबके लिए प्रेरणा बनेगा। और देशभर से आई हुई महिलाएं अंतराष्‍ट्रीय महिला दिवस पर स्‍वच्‍छता और महिलासीधा-सीधा संबंध है। क्‍योंकि आज तक हर प्रकार की स्‍वच्‍छता बनाए रखने में अगर सबसे ज्‍यादा किसी ने योगदान दिया है तो हमारे देश की नारी शक्ति ने दिया हुआ है। हर प्रकार की स्‍वच्‍छतासामाजिक जीवन के हर पहलु की स्‍वच्‍छताअगर आज भी बची हैसंस्‍कार बचे हैंसदगुण बचे हैंसतकार्य बचे हैंतो उसमें सबसे ज्‍यादा योगदान मातृ-शक्ति का है।

 

स्‍वच्‍छता के इस अभियान को भी मातृ-शक्ति के आशीर्वाद मिलेंगेअभूतपूर्व सफलता मिलेगीइस विश्‍वास के साथ फिर एक बार आपको बहुत-बहुत शुभ कामनाएं। बहुत-बहुत धन्‍यवाद।

 

 

*****


अतुल कुमार तिवारी/शाहबाज हसीबी/निर्मल शर्मा



(Release ID: 1483905) Visitor Counter : 1126