विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद का आईआईटी, एनआईटी और आईआईईएसटी के निदेशकों की बैठक में संबोधन  
  • राष्‍ट्रपति भवन में आईआईटी , एनआईटी और आईआईइएसटी के निदेशकों का सम्‍मेलन  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने महामहिम शेख सुल्तान बिन जायद अल नाहयान के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया  
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धा-सुमन अर्पित किए  
  • इस्पात मंत्रालय
  • भारतीय इस्‍पात संघ की ओर से ‘आईएसए-इस्‍पात सम्‍मेलन 2019’ का आयोजन 21 नवम्‍बर से  
  • नागर विमानन मंत्रालय
  • ‘उड़ान/आरसीएस’ के तहत अहमदाबाद और कांडला के बीच सीधी उड़ान का शुभारंभ  
  • नीति आयोग
  • गांधियन चैलेंज के विजेताओं की घोषणा की गई;  30 बच्‍चे पुरस्‍कृ‍त    
  • महिला और बाल विकास मंत्रालय
  • सुरक्षित घर और सुरक्षित पड़ोस बनाने की आवश्यकता : स्मृति जुबिन इरानी  
  • रक्षा मंत्रालय
  • रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने सिंगापुर के उप-प्रधानमंत्री श्री हेंग स्वी किट से मुलाकात की  
  • रेल मंत्रालय
  • आईआरसीटीसी ने गोल्‍डन चैरियट ट्रेन चलाने के लिए केएसटीडीसी के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किया   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • ग्लोबल ट्रेड एंड कस्टम्स जर्नल का विशेषांक लॉन्च किया गया  
  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय
  • सड़क परिहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने ‘भारत में सड़क दुर्घटनाएं – 2018’ रिपोर्ट जारी की  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • डॉ. हर्षवर्धन ने औषधि उत्‍पादों तक पहुंच पर आधारित विश्‍व सम्‍मेलन का उद्घाटन किया   

 
रक्षा मंत्रालय27-अक्टूबर, 2015 15:45 IST

भारतीय जहाज श्रीलंका- भारत नौ सैनिक अभ्‍यास 15 के लिए त्रिंकोमाली पहुंचे

पारस्‍परिक समुद्री बातचीत द्वारा पड़ोसी देश के साथ संबंध दोबारा मजबूत करने के लिए भारत और श्रीलंका की नौ सेनाएं 27 अक्‍टूबर 2015 से 01 नवंबर 2015 तक श्रीलंका के त्रिंकोमाली तट पर चौथा श्रीलंका- भारत नौ सैनिक अभ्‍यास (एसएलआईएनईएक्‍स) आयोजित किया जाएगा। द्वीपक्षीय समुद्री अभ्‍यास की एसएलआईएनईएक्‍स शृंखला 2005 में शुरू की गई थी और अब तक तीन सफल अभ्‍यास किए गए हैं।

अभ्‍यास में भाग लेने के लिए भारतीय नौ सेना के जहाज-कोरा, कृपाण और सावित्री, जहाज जनित हेलीकॉप्‍टरों के साथ आज त्रिंकोमाली पहुंच गए हैं। मिसाइल वाहक कोरा और कृपाण जहाज की कमान क्रमश: कमांडर अशोक राव और कमांडर अब्राहम सेम्यिुल तथा तटवर्ती गश्‍ती जहाज सावित्री की कमान कमांडर प्रशांत नेगी के हाथ में है। इसके अलावा भारतीय नौ सेना का समुद्री टोही विमान भी अभ्‍यास में भाग लेगा। श्रीलंका की नौ सेना की तरफ से इस अभ्‍यास में सयूरा, समुद्र , सागर , 6 त्‍वरित आक्रमण विमान, 2 त्‍वरित गन बोट और एक त्‍वरित मिसाइल जहाज भाग लेगा।

अभ्‍यास बंदरगाह चरण से शुरू होगा, इस दौरान प्रतिभागी व्‍याव‍सायिक, सांस्‍कृतिक और सामाजिक बातचीत करेंगे। बंदरगाह चरण के बाद 30 अक्‍टूबर 2015 से समुद्री चरण शुरू होगा। समुद्र चरण में समुद्री डकैती को रोकने, गोलीबारी, क्रॉस डैक हेली‍कॉप्‍टर अभियान सहित जटिल अभ्‍यास किए जाएंगे।

दोनों देशों की नौ सेनाओं के बीच आज बेहतरीन समझ के रूप में एसएलआईएनईएक्‍स के अंतर्गत किए गए अभ्‍यासों का लाभ स्‍पष्‍ट नजर आ रहा है। एसएलआईएनईएक्‍स 15 से समुद्र में दोनों सेनाओं द्वारा मिलकर कार्य करने की क्षमता बढ़ेगी, जो इस क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा की दिशा में योगदान होगा।

एसएलआईएनईएक्‍स का उद्देश्‍य आपसी समझ बढ़ाना और दोनों देशों की नौ सेनाओं को एक दूसरे के अभियानों, प्रक्रियाओं, संपर्क प्रक्रियाओं और बेहतरीन तरीकों की जानकारी उपलब्‍ध कराना है। इससे दोनों नौ सेनाओं के बीच आवश्‍यकता पड़ने पर जटिल समुद्री अभियानों के दौरान मिलकर अभियान चलाने का विश्‍वास पैदा होगा। समय- समय पर होने वाले इस अभ्‍यास से पिछले अनुभव के आधार पर व्‍यावसायिक और अभियान में दोनों नौ सेनाओं के बीच और संबध बढ़ाने में मदद मिलेगी।

एमके/एनआर- 5169
(Release ID 41597)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338