विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्ट्रपति भवन ने केंद्रीय विश्वविद्यालयों/उच्च शिक्षा संस्थानों के प्रमुखों के सम्मेलन की मेजबानी की  
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • युवाओं को सरदार पटेल के योगदान और दृष्टिकोण (विजन) से अवगत कराया जाना चाहिए---उप-राष्ट्रपति  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय गंगा परिषद की प्रथम बैठक की अध्यक्षता की  
  • उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण
  • उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री श्री रावसाहेब पाटील दानवे के नेृतत्‍व में एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर  
  • कोयला मंत्रालय
  • सीपीएसई को दो कोकिंग कोयला खदानों का आवंटन; प्रति वर्ष 10 मीट्रिक टन उत्पादन बढ़ाने का लक्ष्‍य  
  • गृह मंत्रालय
  • अंतरराष्‍ट्रीय मादक द्रव्‍य रैकेट का खुलासा; भारत में एनसीबी  ने 100 करोड़ रुपए मूल्‍य की सर्वाधिक 20 किलोग्राम कोकीन जब्‍त की  
  • रक्षा मंत्रालय
  • अभ्यास मित्र शक्ति-VII का समापन समारोह  
  • विद्युत मंत्रालय
  • श्री आर. के. सिंह ने 29 वें राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस का उद्घाटन किया और पुरस्कार प्रदान किए  
  • जल शक्ति मंत्रालय
  • द हिंदू में प्रकाशित जल शक्ति अभियान का तथ्यात्मक रूप से मूल्यांकन गलत  
  • प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय गंगा परिषद की प्रथम बैठक की अध्यक्षता की  

 
उप राष्ट्रपति सचिवालय14-दिसंबर, 2019 19:00 IST

युवाओं को सरदार पटेल के योगदान और दृष्टिकोण (विजन) से अवगत कराया जाना चाहिए---उप-राष्ट्रपति

कौशल उन्नयन और विपणन में पारंपरिक कारीगरों (शिल्पकारों) का समर्थन करें-- उच्च शिक्षा संस्थानों से उप-राष्ट्रपति ने कहा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' में आगंतुकों संख्या 'स्टैच्यू ऑफ़ लिबर्टी' की तुलना में दोगुनी है मंदी अस्थायी है, विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत चारुतर विद्या मंडल, गुजरात के प्लेटिनम जयंती समारोह को संबोधित करते हुए चारुतर विद्या मंडल को विश्वविद्यालय घोषित किया

उप-राष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज कहा कि भारत यह इसके लिए हमेशा सरदार पटेल का आभारी रहेगा कि प्रत्येक राज्य और नागरिक की स्वतंत्र राष्ट्र के विकास प्रक्रिया में हिस्सेदारी थी।

उन्होंने जोर देकर कहा कि भावी पीढ़ी, विशेष रूप से युवाओं, को उन्हें प्रशंसा, सम्मान और कृतज्ञता के साथ याद रखने और भारत के उनके दृष्टिकोण (विजन) की समझ को सिखाया जाना चाहिए।

गुजरात में चारुतर विद्या मंडल के प्लेटिनम जयंती समारोह में बोलते हुए, उप-राष्ट्रपति ने कहा कि सरदार पटेल ने ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को मूल्य आधारित शिक्षा प्रदान करने में दृढ़ विश्वास रखते थे और यही इस संस्थान का मुख्य उद्देश्य भी था।

उप-राष्ट्रपति ने कहा कि गांधी जी के ग्राम स्वराज्य की विचारधारा को समझने वाले सरदार पटेल ने पड़ोसी जिलों-करमसाद, बकरोल और आनंद के त्रि-जंक्शन पर विद्या मंडल को आकार देकर ग्रामीणों की सशक्तिकरण के लिए जमीन तैयार की।

"उनका मानना था कि गाँव या ग्रामीण भारत का विकास ‘है और नहीं है’ के बीच के अंतर को खत्म करने के लिए महत्वपूर्ण था।" उन्होंने आगे कहा, “वे गाँव के गणराज्यों की गाँधीवादी दृष्टि को वास्तविकता में बदलना चाहते थे।”

इस अवसर पर उप-राष्ट्रपति ने चारुतर विद्या मंडल जैसे उच्च शिक्षण संस्थानों से अपने कौशल को उन्नत करने, अपने उत्पादों के लिए विपणन रास्ते बनाने और उन्हें आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए कारीगरों के शिल्प कौशल के लिए मूल्यवर्धन के लिए विशेष पहल करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि रचनात्मकता, नवीनता, गुणवत्ता और तैयार उत्पादों बाजारशीलता को बढ़ावा देने की जरूरत है।

विश्वविद्यालय की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए, श्री नायडू चाहते थे कि विश्वविद्यालय ग्रामीण आजीविका पर विशेष ध्यान दे और ग्रामीण युवाओं, खासकर महिलाओं को सशक्त बनाने की दिशा में पाठ्यक्रम भी शुरू करे।

उन्होंने गाँवों को स्व-टिकाऊ बनाने के तरीकों और साधनों की खोज करने के लिए एक विशेष पाठ्यक्रम का सुझाव दिया, जिसे विश्वविद्यालय द्वारा खोजा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसमें ग्रामीण उद्यमिता और खाद्य प्रसंस्करण पर जोर होगा।

उच्च शिक्षा की लागत में वृद्धि पर चिंता व्यक्त करते हुए, उप-राष्ट्रपति ने कमजोर वर्गों के लिए उच्च शिक्षा को सस्ता बनाने के उपाय करने का भी सुझाव दिया।

यह कहते हुए कि विश्वविद्यालय और शिक्षण संस्थानों के लिए एक सक्षम पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की आवश्यकता है ताकि शोध और नवाचार की भावना को बढ़ाया जा सके, उप-राष्ट्रपति ने कहा कि छात्रों को 21 वीं सदी की शिक्षा प्रणाली प्रदान की जानी चाहिए जो छात्र को ढांचे से बाहर सोचने में सक्षम बनाती हो, उसे या उसकी उद्यमशीलता की भावना को प्राप्त करने की अनुमति भी देता हो।

उन्होंने कहा, "छात्रों को नौकरी सृजक बनने के लिए सशक्त होना चाहिए और उन्हें ग्रामीण उद्यमों की स्थापना के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल से युक्त करना चाहिए।"

उप-राष्ट्रपति ने 75 वें स्थापना वर्ष समारोह के इस अवसर पर चारुतर विद्या मंडल को विश्वविद्यालय घोषित किया और कहा कि इसे विश्वविद्यालय का दर्जा दिया जाना राष्ट्र को इस संस्थान की 74 वर्षों की सेवा को मान्यता देना है।

इस अवसर पर, उप-राष्ट्रपति ने इस तथ्य पर भी प्रकाश डाला कि केवडिया में 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' के दर्शकों (आगंतुकों) की संख्या न्यूयॉर्क में 'स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी' पर जाने वालों की संख्या से दोगुनी है। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि केवड़िया के लिए रेल और हवाई संपर्क बढ़ाया जाना चाहिए ताकि अधिक से अधिक लोग उस स्थान पर जा सकें और सरदार पटेल के जीवन से प्रेरणा ले सकें।

आर्थिक परिदृश्य पर, श्री नायडू ने कहा कि मंदी के जो भी संकेत दिखाई दे रहे हैं, वे अस्थायी हैं क्योंकि भारतीय अर्थव्यवस्था के मूल तत्व बहुत मजबूत हैं। उन्होंने भरोसा जताया कि भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा।

इस अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपानी, गुजरात के शिक्षा मंत्री श्री भूपेन्द्रसिंह मनुभाई चुदसामा, सांसद (लोकसभा) श्री मितेश रमेशभाई पटेल, चारुतर विद्या मंडल के अध्यक्ष श्री प्रयासविन बी पटेल, चारुतर विद्या मंडल के चेयरमैन श्री भीकूभाई बी पटेल, चारुतर विद्या मंडल के संयुक्त सचिव श्री मेहुल पटेल, चारुतर विद्या मंडल के उपाध्यक्ष श्री मनीषभाई पटेल उपस्थित थे।  

***

आर.के.मीणा/आरएनएम/एएम/पीकेपी– 4771

 

(Release ID 84205)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338