• Skip to Content
  • Sitemap
  • Advance Search
विज्ञप्तियां
माह वर्ष
  • भूटान यात्रा पर रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री का वक्तव्य (16-अगस्त,2019)
  • 73 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा दिए गये भाषण का मूल पाठ (16-अगस्त,2019)
  • 73वें स्व तंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले के प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेन्द्रप मोदी के भाषण की मुख्य/ बातें (15-अगस्त,2019)
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने रक्षाबंधन के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दीं (15-अगस्त,2019)
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने स्‍वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को शुभकामनाएं दीं (15-अगस्त,2019)
  • 73 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा दिए गये भाषण का मूल पाठ (15-अगस्त,2019)
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने संसद भवन परिसर में नई गतिशील प्रकाश व्यवस्था का शुभारंभ किया (13-अगस्त,2019)
  • प्रधानमंत्री ने ईद-उल-अजहा पर देश को बधाई दी (12-अगस्त,2019)
  • माननीय पीएम का राष्ट्र के नाम संबोधन (08-अगस्त,2019)
  • प्रधानमंत्री ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज को श्रद्धांजलि अर्पित की (07-अगस्त,2019)
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के निवासियो के साहस और जज्बे को सलाम किया (06-अगस्त,2019)
  • प्रधानमंत्री की यूक्रेन के राष्ट्रपति से टेलीफोन पर वार्ता (01-अगस्त,2019)
 
प्रधानमंत्री कार्यालय

73 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा दिए गये भाषण का मूल पाठ

मेरे प्यारे देशवासियो, स्वतंत्रता दे इस पवित्र ध्याढे, सब्भनें देशवासिएं गी नेकां-नेकां शुभ-कामना अज्ज रक्खडी दा बी पर्व ऐ, सदिएं थमां चलदी आवा करदी ऐ परम्परा, भ्राह-बहन दे हिरखै गी, प्रगट करदी ऐ, में सब्भनें देशवासिएं गी, सब्भने भ्रा-बहनें गी, इस रक्खडी दे पवित्र पर्व पर नेकां-नेकां शुभ-कामनां दिन्नां, स्नेह भरोचा ए पर्व, साडे सब्भने भ्राह-बहने दे जीवन इच आसें-मेदें गी पूरा करने आला होऐ, सुखने गी साकार करने आला होऐ ते हिरखै दी सरिता गी बदाने आला होऐ। अज्ज जिसलै मुल्क आजाद दा पर्व मना करदा ऐ, उस्सै लमौके, मुल्खा दे नेकां हिस्सें इच बड़ी मती बरखा कारण, हाड़ कारण लोक मुशकलें दा सामना करै करदे न। केइएं अपने रिशतेदार मुआए, में उन्दे लेई, अपनियां संवेदना प्रगट करनां, ते राज्य सरकार, केन्द्र सरकार, NDRF सब्भै संगठन, शैहरिएं दा दर्द, घट्ट कियां होए, सामान्य हालात तौले कियां परतोन, ओंदे लेई दिनरात जत्न करै करदे न। अज्ज रिसलै अस, आजादी दे पवित्र ध्याढे गी मना करने आं उसलै, मुल्खा दी आजादी लेई, जिनें अपना जीवन देई दित्ता, जिनें अपनी जोआनी देई दित्ती, जिनें जोआनी जेल इच गुजारी दित्ती, जिनें फांसी दे फंदे गी चुम्मी लेआ, जिनें सत्याग्रह राएं, आजाद दे बिगल इच अहिंसा दे सुर भरी दित्ते, पुज्य बापू हुन्दी अगुआई इच मुल्खा नै आजादी हासिल कीती, में अज्ज मुल्खा दी आजादी दे उनें सब्भनें बलिदानिएं गी त्यागी-तपस्विएं गी, आदरपूर्क नम्म करनां। उस्सै चाल्लीं मुल्ख आजाद हे बाद इनें बारें इच, मुल्क आजाद होने बाद इनें बरे इच, मुल्खा दी शांति लेई, सुरक्षा लेई समृद्ध लेई सुरक्षा दे लोकें अपना योगदान दित्ता ऐ। में अज्ज, आजाद भारत दे विकास लेई, शआंति लेई समृद्ध लेई आम लोकें दिएं आसें-मेदें गी पूरा करने लेई, जिनें-जिनें लोकें योगदान दित्ता ऐ, अज्ज में उनेंगी बी नम्म करनां। नमी सरकार बनने बाद लाल किले थमां मिगी अज्ज परतियै इक बारी तुसै सब्भनें दा गौरव करने दा मौका मिलेआ ऐ, अजें गेदी सरकार गी 10 हफ्ते बी नेईं होए न, पर दसें हफ्तें दे लौहके जनेह अर्सें इच बी सब्भनें क्षेत्रें इछ, सब्भनें दिशाएं इच, हर चाल्लीं दे जत्नें गी जोर दित्ता गेआ ऐ, नमें आयाम दित्ते गे न ते आम जनता नै आशा, अपेक्षा ते आकांक्षाएं कन्नै, असेंगी सेवा करने दा मौका दित्ता ऐ। उसी पूरा करने इच इक पल दा बी चिर लाए बिजन, अस पूरी समर्थ कन्नै, पूरी समर्पण भावन कन्नै, तुन्दी सेवा इच मग्न आं, दसें हफ्तें दे अन्दर-अन्दर गै, दफा 370 दा हटान, 35A दा हटना, सरदार वल्लभ भाई पटेल हुन्दे सुखने गी साकार करने दी पेठ्टा इक महत्वपूर्ण गैं ऐ, दसें हफ्तें दे अन्दर गै, साड़ी मुस्लिम भ्राएं ते बहनें गी, उन्दा हक दोआने लेई त्रै तलाक खलाफ कनून बनान, आतंक कन्नै जुडे दे इनें कानीनें इच बुनियादी तब्दीलियां करियै ओदे इच नमीं ताकत देने दा, आंतकवाद खलाफ लडने दे संकल्प गी होर मजबूत करने दा कम्म, साडे करसाने भ्रा-बहनें गी प्रधानमंत्री सम्मान निधि तैहत 90 हजार करोडरपेआ, करसानें दे बैंक खातें इच ट्राँस्फर करने दा इक महत्वपूर्ण कम्म अग्गें बदेआ ऐ। साढे करसान भ्रा-बहन, साडे लौहके बपारी भ्रा-बहन, उनेंगी कदें कल्पना नेईं ही जे उन्द जीवन इच बी पेंशन दा सरीस्ता होई सकदा ऐ। 60एं बरें दी बरेस परैन्त, ओ बी सम्मान कन्नै जी सकदे न, जिस्म जिसलै मता कम्म करने लेई मदद नेईं करदा होऐ। उस मौके कोई सहारा थ्होई जा उस चाल्लीं दी पेंशन योजना गी बी लागू करने दा कम्म शुरू करी दित्ता ऐ। पानी दे संकट दा चर्चा बडी हुंदी ऐ। भविक्ख इस संकट थोआ लंगोग ए बी चर्चा हुन्दी ऐ। उनें चीज गी पहले थमां गै सोचियै, केन्द्र ते राज्य मिलयै योजनां बनान एदे लेई, एक बक्खरे जनशकित् मंत्रालय दा बी निर्माण कीता गेआ ऐ। साडे मुल्खा इछ बडी-बड्डी तदाद इच, डाक्टरें दी जरूरत ऐ। आरोग्य दिएं सुविधाएं ते व्यवस्थाएं दी जरूरत ऐ, उसी पूरा करने लेई, नमे कनूनें दी लोड ऐ नमिएं व्यवस्थाएं दी लोड ऐ, नमीं सोच दी लोड ऐ, मुल्खा दे नौजवाने गी डाक्टर बनने लेई मौका देने दी लोड ऐ। उनें गल्लै गी ध्याना इच रक्खदे ही मैडिकल एजुकेशन गी पारदर्शी बनाने लेई नेकां महत्वपूर्ण कानी असें बनाऐ न, महत्वपूर्ण फैसला लैते न। अज्ज पूरी दूनियां इच बच्चें कन्नै अत्याचार दियां घटनां सुनने आं, भारत बी झंडे लौहके-लौहके जागतें गी बेआसरा नेईं छोडी सकदा। उनें जागतें दी सुरक्षा लेई सख्त कनून प्रबंधन जरूरी हा। असें इस कम्मै गी बी पूरा करी लैता ऐ। भ्रा-बहनो 2014 थमां 2019, 5 बरे मिगी सेवा करने दा मौका दित्ता। नेकां चीजां एजंसियां हियां, आम आदमी बी अपनी नीजि जरूरतें लेई लडदा हा। असें 5 बरे लगातार जत्न कीता जे डे नागरिकें दियां जेडियां रोजमर्रा दी जिन्दगी दियां जरूरतां न, खास करियै ग्रां दी गरीब दी करसान दी दलित दी पीढित दी शोषित दी वंचित दी, आदिवासी दी, उन्दे पर जोर देने दी असें कोशिश कीती ते गड्डी गी अस ट्रैक पर लेई आए ते उस दिशा इच अज्ज बडी तेजी कन्नै कम्म चलै करदा ऐ पर, वक्ता बलदा ऐ, जेकर 2014 थमां 2019, जरूरतें दी पूर्ति दा दौर हा तां 2019 दे बाद दा दौर देश दे वासिएं दिएं मेदें दी पूर्ति दा दौर ऐ। उन्दे सुखने गी पार करने दा दौर ऐ ते इस लेई 21वीं सदी दा भारत कनेया होऐ, कन्नी तेज रफ्तार कन्नै चलदा होऐ, किन्नी व्यापक्त कन्नै कम्म करदा होऐ, किन्नी ऊँचाई थमां सोचदा होऐ इनें सब्भनें गल्लें गी ध्यान इच रखदे होई औने आले 5एं बरे दे अरस् गी अग्गें बदाने दा इक खाका असें त्यार करियै इक दे बाद इक गैं पुट्टा करने आं। 2019 इच में मुल्खा लेई नमां, हा, 2013-14 इच चुनां कोला पहले में भारत दा दौरा लाइयै, मे दशवासिएं दीएं भावनाएं गी समझने दी कोशइश करै करदा हा। पर हर कुसे दे चेहरे पर इक निराश ही, इक आशंका ही, लोक सोचदे हे भला ए मुल्ख बदली सकदा ऐ ? ते केह भला-सरकारां बदलने कन् मुल्क बदी जाग। इक निराश आम लोकें दे मनै इच घर करी गेदी ही, लम्मे दौर दे तजरबे दा ए नतजा हा। आशा टिकदी नेईं ही, पल-दो पल इच आशा-निराशा इच डुब्बी जन्दी ही, पर जिसलें 2019 इच 5 बरें दी सख्त महेन बाद, आम-आमदी लेई इक-मात्रा समर्पण भाव कन्नै दिल-दमाग इच सिर्फ ते सिर्फ मेरा देश दिल-दमाग इच सिर्फ ते सिर्फ मेरा देश ते देश दे करोडा देशवासी, इस भावना गी लेइयै चलदे रेह। पल-पल उस्सै लेई खपान्दें रेह ते फी जिसलै 2019 इच गै, में हरान हा, देशवासिएं दा मिजाज बदली चुके दा हा। निराश आशआ इच बदलोई चुकी दी ही। सपने संकल्पें कन्नै जुडी चुके दे हे। सिद्दी सामनै नजरी आवा करदी ही ते आम-आदमी दा इक्कै सुरहा, हां मेरा देश बदली सकदा ऐ, आम आदमी दी इक्कै गंजू ही-हां अस बी देश बदली सकने आं, अस पिच्छलें नेईं रेई सकने आं, इक सौ 30 करोड नागरिकें दे चेहरें दे भाव, भावना दी ए गूँज, असेंगी नमी ताकत, नमां विशवास दिन्दी ऐ। सबका साथ0सबका विकास मंत्र लेइयै चले हे---। पर 5एं बरें दे अन्दर-अन्दर गै देशवासिएं सब्भनें दा विश्वास सब्भनें दे विशवास दे रंग कन्नै पूरे माहौल गी रंगी दित्ता। ए सब्भनें दा विश्वास गै 5एं बरे इच पैदा होआ जेडे असेंगी औने आले दिनें इच होर मती समर्थ कन्नै देशवासिएं दी सेवा करने दा। ते उसलै बी आक्खेआ हा ना की राजनेता चुनां लडा करदा हा ते नां कोई राजनीतिक पार्टी, नां मोदी चुनां लडै करदा हा, नां मोदी दे साथी चुनां लडै करदे हे, देश दा आम आदमी जनता-जनदिन चुनां लडै करदी ही। इक सौ 30 करोड देशासी चुनां लडा करदे हे, अपने सुखने लेई चुनां लडा करदे हे, लोकतंत्र दा सेई स्वरूप इस चुनां इच नजरी आवा करदा हा। मेरे प्यारे देशवासिएं समस्याए दा नबेडा एदे कन्नै-कन्नै, सुखने संकल्पें ते सिद्दी दा दौर, असें गी हुन कन्नै-कन्नै चलना ऐ। ए साफ गल्ल ऐ जे समस्याएं दा जिसलै नबेडा हुन्दा ऐ तां स्वालंबन दा भाव पैदा हुन्दा ऐ। समाधान थमां स्वांलबन पास्सै रफ्तार बददी ऐ। जिसैल स्वालंबन हुन्दा ऐ तां तुसें गी अपने आप स्वाभिमान उजागर हुदा ऐ ते स्वाभिमान दी समर्थ बडी मती हुदी ऐ, आत्म सम्मान दी समर्थ कुसे कोला बी मता हुदी ऐ ते जिसैल समाधान होए, संकल्प होए, समर्थ होए, स्वाभिमान होए तां सफलता दे रस्ते इच किश नेईं आई सकदा ऐ ते अज्ज मुल्क उस स्वाभिमान कन्नै, सफलता दी नमिएं ऊचाईएं गी पार करने लेई, अग्गें बदने लेई पक्के निश्चे आला ऐ। जिसैल अस समस्याएं दा नबडा दिक्खने आं ता टुकडें इच नेईं सोचना ऐ। तकलीफां औंगन इख बारी वाह-वाही लेई अग्ग लाइयै छोडी देना, ए तरीका मुल्खा गी सुखने गी साकार करने दी कम्म नेईं औग। असें समस्याएं गी जेडे थमां टाने दी कोशिश करनी ऐ। तुसें दिक्खेआ होग, साडी मुस्लिम धीयां, साडियां, बहनां, उन्दे सिरै पर त्रै तलाक दी तलवार लटकदी ही, ओ डरी दी जिन्दगी जिन्दियां हियां, त्रै तलाक दी तलवार शायद उन्दे पर नेईं डिग्गी होग पर कदें बी त्रै तलाक दी शकार होई सकदी ऐ। ए डर उसी जीन नेईं हा दिन्दा, उसी मजबूर करी दिन्दा हा, दूनियां दे केईं मुल्ख, इस्लामी मुल्क, उनें बी इस कु-प्रथा गी साडे थमां बडी पैहलें खत्म करी दित्ता। पर कुसे नां कुसे वजह कन्, साड़ी मुस्लिम माताएं-बहनें गी हक देने इच अस झक्कदे हे। जेकर इस मुलक इच अस सती प्रथा गी खत्म करी सकने आं, अस भूण हत्या गी खत्म करने दे कनून बनाई सकने आं, जेकर अस बाल-विवाह खलाफ अवाज चुक्की सकने आं, अस दाज इच लैन-देन दी प्रथा खिलाफ सख्त गैईं प्टीट सकने आं तां की नेईं अस त्रै तलाक खलाफ बी अवाज चुकचै, ते इस लेई, भारत दे लोकतंत्र दे Spirit गी पकडदे होई, भारत दे संविधान दी भावना गी, बाबा साहेब अम्बेडकर हुदी भावना दा आदर करदे होई, साडी मुस्लिम बहनें गी बराबर इक मिलै। उन्दे अंदर बी इक नमां विशवास पैदा होऐ। भारत दी विकास यात्रा इच ओ बी हिस्सेदार बनन। इस लेई असें महत्वपूर्ण फैसले लैते। ए फैसले सियासत दी तरक्कडी इच तौलने आले नेईं हुन्दे सदिएं तोडी माताएं-बहने दे जीवन दी राक्खी दी गारन्टी दिन्दे न। इश्सै चाल्ली में दुई मिसाल देना चाहन्नां दफा 370 35-A Article 370, 370 ते 35-A केह वजह ही, ए सरकार दी पंछान ऐ, अस समस्याएं गी तालदेबी नेईं ऐ अस समस्याएं गी टालदे बी नेईं ऐ ते नां गै अस समस्याएं गी पालने आं। हुन समस्याएं गी टालने दा बी समां नेईं ऐ ते हुन समस्याएं गी पालने दा बी समां नेईं ऐ, जेडा कम्म पिच्छले 70 बरें इच नेईं होआ नमी सरकार बनने बाद 70एं ध्याढें दे अन्दर-अन्दर दफा 370  ते 35-A गी हटान दा कम्म, भारत दे दौनें सदनें, राज्यसभा ते लोकसभा नै, दो-तिहाई बहुमत कन्नै पास करी दित्ता। एदा मतलब जे हर कुसे दे दिलै इच ए गल्ल पेई दी ही पर शुरू कुन करै, अग्गें कुन आवै, शायद उस्सै गी बल्गा करदे हे ते देशवासिएं मिगी ए कम्म दित्ता ते मैं, तुसें जेडा कम्म दित्ता ऐ उस्सै गी करने लेई आया आं, मेरा अपना किश नेईं ऐ। असें जम्मू-कशमीर ते राष्ट्र इच बी अग्गें बदै। 70 बरे हर कुसे नै किश ना किश कोशिश कीती, हर सरकारें किश न किश कोशिश कीती। पर इच्छित नतीजें नेईं मिले। ते जिसलै इच्छित नतीजे नेईं मिले न तां नमें सिरे थमां सोचने दी नमें सिरे थमां गै बदाने दी जरूरत हुन्दी ऐ। ते जम्मू-कशमीर ते लद्दाख दे नागरिकें दी आस-मेद पूरी होए, ए असें सब्भनें गी नमे फंग मिलन, ए असें सब्भनें दी जिम्मेदारी ऐ ते ओदे लेई इक सौ 30 करोड देशवासिएं गी इस जिम्मेदारी गी चुक्कना ऐ, ते इस जिम्मेदारी गी पूरा करने लेई, जेडियां बी रूकावटां सामनै आइयां न, उनेंगी दूर करने दी असें कोशिश कीती ऐ। पिच्छले 70एं बरे इच इनें व्यवस्थाएं, अलगाववाद गी ताकत दिती ऐ, आतंकवाद गी जन्म दित्ता ऐ, परोआरवाद गी पोसेआ ऐ ते इक चाल्लीं भ्रष्टाचार ते भेदभाव दी नींह गी मजबूती देने दा गै कम्म कीता ऐ। ते इस लेई उत्थुँ दिएं महिलाएं गी हक मिलन, उत्थुँ दे मेरे दलित भ्राह-बहनें, मुल्खा दे दलितें गी जेडा अधिकार मिलदा हा, उत्थुँ दे गी नेईं मिलदा हा, साडे मुल्खा दे जनजाति समुह गी कायदे कन्नै जेडे अधिकार मिलदे न उनेंगी बी मिलने चाहिदे न, उत्थे दे साडे केईं ऐसे समाजिक व्यवस्था दे लोक, भावें ओ गुज्जर होए,बक्करवाल होए, गद्दी होए, सिप्पी होए,बालती होए, एसियां अनेक जनजातियां न, उनेंगी गी सियासी अधिकारी बी मिलने चाहिदे। अस हैरान होई जागै, उत्थुं दे साड़े सफाई कर्मचारी  भ्रां भैहनें, कन्नै कानुन रोक लाई दिती गेई ही, उन्दे सुखने गी कुचली दित्ता गेआ हा। अज्ज असें उनेंगी आजादी देने दा कम्म कीता हा। भारत दी बंड होई, लक्खां करोडां लोक विस्थापित होइयै आऐ, उन्दा कोई कसुर नेईं हा पर जेडे जम्मू कशमीर च आईयै बस्सै, उनें गी मनुक्खी अधिकार बी नेईं मिले ते नागरिक अधिकार बी नेईं मिले। जम्मू कशमीर अन्दर मेरे पहाडी भ्रां भैहन बी हैन ते इस लेई उन्दी बी चिन्ता करने दी दिशा इच अस गैं पुट्टना चाहने आं। मेरे प्यारे देशवासियों, जम्मू-कशमीर ते ल्दाख, सुख-समृद्धि ते शांति लेई भारत लेई प्रेरक बनी सकदा ऐ, भारत दी विकास यात्रा इच बडा बड्डा योगदान देई सकदा ऐ, आओ उनें पराने महादिवसें गी वापिस आनने दा अस सब्भै कोशिश करचै, उनें कोशिशें गी लेइयै, ए जेडी नमी व्यवस्था बनी ऐ, ओ सिद्दे-सिद्दे नागरिकें दे हिते लेई कम्म करने लेई सहुलत पैदा करग। हुन जम्मू कशमीर दा आम आदमी बी दिल्ली सरकार गी पुच्छी सकदा ऐ, ओदे विच कोई रूकावट नेई औग। ए सिद्दी-सिद्दी व्यवस्था अज्ज अस करी सके आं। पर जिसलै पूरा मुल्क सब्भने सियासी पार्टिएं दे अन्दर बी इक बी राजनीतिक दल अपवाद नेईं ऐ, दफा 370, Article 370 गी हटाने लेई 35A गी हटाने लेई, कोई प्रखर रूप कन्नै ते कोई मूक रूप कन्नै समर्थन दिन्दा रेआ ऐ पर राजनीति देगलियारें इच चुनां दी तरक्कडी कन् तोलने आले किश लोक 370 दे समर्थन इच किश न किश आक्खदे रौहन्दे न, ए लोक 370 दे समर्थन इच वकालत करदे न, उनेंगी देश पुच्छा करदा ऐ जेकर ए दफा 370 ए Article 370, 35A, इन्ना महत्वपूर्ण हा, इन्ना जरूरी हा, ओदे कन् गी किस्मत बलदने आली ही तां 70 बरे तोडी इना भारी बहुमत होने दे बाद बी तुसें लोकें उसी Permanent की नेईं कीता। Temporary की बनाई रक्खेआष जेकर इन्ना Conviction हा तां अग्गे औन्दे Permanent करी दिन्दे । पर एदा मतलब ऐ जे तुस बी जानदे हे जे जेडा कम्म होआ ऐ ओ सेई नेई होआ ऐ पर सुधार करने दी तुन्दे इच हिम्मत नेईं ही, ईरादा नेईं हा, सियासी भविक्ख पर सोआलियां निशानलागी गेदे हे. मेरे लेई, मुल्खा दा भविक्ख गै सब किश ऐ, राजनीतिक भविक्ख किश नेईं ऐ। साडे संविधान निर्मातएं, सरदार वल्लभ भाई बटेल जनेह महापुरूषें, मुल्खा दी एखता लेई, राज्य एकीकरण लेई, उस मुशकल दौर इच बी महत्वपूर्ण फैसलै लैत्ते, हिम्मत कन्नै फैसले लैते। मुल्खा दे एकीकरण दी कामयाब कोशिश इच दफा 370 कारण 35-A कारण किश रूकावटां बी आई गेइयां। अज्ज लाल किले थमां मे मुल्खा गी संबोधित करै करनां, ते में ए गर्व कन्नै आक्खना जे अज्ज हर हिन्दुस्तानी आक्खई सकदा ऐ, one Nation, One Constitution.

ते अस, सरदार साहब दा इक भारत, इक भारत दे सुखने गी साकार करने इछ लग्गे दे आं तां ए साफ-सआप बनदा ऐ जे अस एसिएं व्यवस्थाएं गी विकसित करचै जेडियां मुल्खा दी एकता गी ताकत देन। देश गी जोडने लेई Coementing Force दे रूप इच उभरियै औन ते ए प्रक्रिया लगातार चलनी लोडदी, कोई इख समें लेई नेईं हुन्दी ऐ, लगातार होनी चाईदी। GST राएं असें One Nation, One Tax सुखने गी साकार कीता, उस्सै चाल्लीं पिच्छले दिनें ऊर्जा दे क्षेत्र इच One National One Grid इस कम्मै गी बी असें सफलता कन्नै पूरा कीता। उस्सै चाल्लीं One National One Mobility Card इस व्यवस्था गी बी असें विकसित कीता ते अज्ज मुल्खा इच व्यापक रूप कन्नै चर्चा चलै करदी ऐ इक देश किट्ठे चुनां, ए चर्चा होनी लोडदी, लोकतांत्रिक तरीके कन्नै होनी लोडदी ते कदें नां कदें इक भरात दे सुखनें गी साकार करने लेई होर बी एसिएं नमिएं चीजें गी असें जोडना होग। मेरे प्यारे देशवासियो, मुल्खा गी नमिएं ऊँचाइएं गी पार करना ऐ, जे मुल्खा गी, दूनियां अन्दर अपनी बाहर स्थापित करनी ऐ तां असें गी अपने घरै इच गरीबी थमां मुक्ति पर ध्यान देना गै होग। ए कुसै लेई उपकार नेईं ऐ। भारत दे उजले भविक्ख लेई असेंगी गरीबी थमां मुक्त होना गै होग। पिच्छले 5एं बरे इच गरीबी घट्ट करने दी पेट्ठा, गरीबें दी गिनतरी गरीबी कोला बाहर आवै उस पेट्ठा बडे सफल जत्न होऐ। पैहले दे मकाबले मती तेज रफ्तार कन् ते मती व्यापक्ता कन्नै एदे इच सफलता हासिल होई ऐ। पर फी बी गरीब आदमी जेकर सम्मान उसी हासिल होई जन्दा ऐ, ओदा स्वाभिमान जागी जन्दा ऐ तां ओ गरीबी कन् लडने लेई सरकार गी नेईं बल्गोग। ओ अपनी समर्थ कन्नै गरीबी गी हटाने लेई औग। साडे इचा कुसे कोला बी मती विपरीत स्थितिएं कन्नै जूझने दी ताकत जेकर कुसे इच ऐ तां मेरे गरीब भ्राएं इच ऐ। किन्नी बी ठंड की नेईं होए, ओ मुट्ठी बन्द करियै गुजारा करी सकदा ऐ। ओदे अन्दर ए समर्थ ऐ, आओ उस समर्थ दे अस पुजारी बनचै ते इसलेई ओदी रोजमर्रा दी जिन्दगी दिएं मुशकलें गी अस दूर करचै। केह वजह ऐ, मेरे गरीब कोल शोचालय नेईं होए। घरै इच बिजली नेईं होए, रौहने लेई घर नेईं होऐ, पानी दी सहूलत नेईं होऐ, बैंक इच खाता नेईं होए, कर्च लैने लेई साहूकारें दे घर जाइयै, इक चाल्लीं कन्नै सबकिश गिरवी रखना पौन्दा ऐ। आओज गरीबें दे आत्म सम्मान, आत्म विश्वास गी, उन्दे स्वाभिमान गी गै अग्गें बदाने लेई समर्थ देने आश्तै, अस उसी जत्न करचै, भ्राह-बहनो, अजादी दे 70 बरे होई गे, बडे सारे कम्म, सब्बनें सरकारें अपने-अपने तरीके कन्नै कीते, सरकार कुसे बी पार्टी दी की नेईं होए, केन्द्र दी होए, राज्य दी होए, हर कुसे नै, अपने-अपने तरीके कोशिश कीती पर ए बी सच्चाई ऐ जे अज्ज, हिन्दोस्तान इच तकरीबन तकरीबन अद्दे घर ऐसे न, जिनें घरें इच पीने दा पानी हासिल नेईं ऐ। उनेंगी पीने दा पानी हासिल करने लेई मशकत करनी पौन्दी ऐ, माताएं-बहनें गी सिरै पर भार चुक्कियै, मटके लेइयै दो-दो, त्रै-त्रै, पंज-पंज, किलोमीटर जाना पौन्दा ऐ, जीवन दा मता सारा हिस्सा पानी इच खपी जन्दा ऐ। ते इस लेई असें, इस सरकार नै, इक खास कम्मा पास्सै जोर देने दा फैसला लैता ऐ। ते ओ ए साडे सब्भनें घरें इच पानी कियां पुज्जै, हर घरै गी पानी किया मिलै, पानी दी शुद्ध पानी कियां मिलै, ते इस लेई अज्ज मे लाल किले थमां घोषणा करना जे अस औने आले दिनें इच जल-जीवन मिशन गी लेइयै अग्गें बदगे। ए जल-जीवन-मिशन एद लेई तकरीबन केन्द्र ते राज्य कन् रलियै कम्म करंङन। ते औने आले बरै इच साड्डे त्रै लक्ख करोड रपें थमां बी मती रकम इस जल-जीवन-मिशन लेई खर्च करने दा असें संकल्प कीता ऐ। जल किट्ठा होऐ, जल सिंचित हऐ, बरखा दे पानी दी बूंद-बूंद रोकने दा कम्म होऐ, समुद्री पानी गी या Waste Water गी Treatment करने दा विषय हए। करसाने लेई Per Drop More Crop, Micro Irrigation दा कम्म होऐ, पानी बचाने दा अभियान होऐ, पानी बारै आम थां आम नागरिक, सोहगा बी बनै संवेदनशील बी बनै, पानी दा माहत्मय समझै, साडे शिक्षा क्रम इच बी, बच्चे गी बी, बचपन थोआं गै पानी दे माहत्मय दी शिक्षा दित्ती जा। पानी किट्ठा करने लई, पानी स्रोतें गी परतियै बहाल करने लेई, अस लागातर कोशिश करचै, ते अस इस विश्वास कन्नै अग्गें बदचै जे पानी दे क्षेत्र इच पिच्छले 70एं बरे इच जेडा कम्म होआ ऐ, असें गी 5एं बरें इच चार गुणा कोला बी मता उस कम्मै गी करना ऐ। हुन अस मता नेईं बल्गी सकदे ते इस देश दे महान संत सैंकडां बरे पैहले, संत थिरूवलवर्जी होरें उस मौके इक महत्वपूर्ण गल्ल आक्खी ही, सैकडां बरे पबैहले, उस मौके ते शायद कुसै नै पानी दे संकट बारै सोचेआ बी नेईं होग, पानी दे माहात्म बारै बी नेईं सोचेआ होग, तां संथ थिरूबलवर्जी होरें आक्खेआ हा “मेरा इर्न्दू, मेरा इन्दरू, अमि आधू मेरा इन्दरू, अभि आधू पुल्गा हा। मेरा इन्द्रू अभिआधू प्लाग हा। यानि जिसलै पानी मुक्की जन्दा ऐ तां प्रकृति दा कम्म रूकी जन्दा ऐ, इक चाल्ली विनाशकारक हुन्दा ऐ। मेरा जन्म गुजरात इच होआ। गुजरात इच इक ईलाका ऐ बहुडी करियै, उत्तरी गुजरात इच ऐ, जैन तबके दे लोक उत्थें जन्दे-औन्दे रौहन्दे न, अज्जै थमां तकरीबन सौ बरे पहलें, उत्थें इक जैन मूनि होए ते ओ करसान दे घरै इच पैदा होए हे करान हे, राई-बाई दा कम्म करदे हे, पर जैन परम्परा कन्नै जुडियै ओ शिक्षित हए, जैन मि बने। तकरीबन सौ बरे पैहले ओ लिखी गेदे न, उनें लिखे दा ऐ, बुद्धिसागर जी महाराज न, उनेंग लिखे दा ऐ जे, इक दिन ऐसा औग जदऊं पानी करेयाने दी दुकान इच विकता होग। तुस कल्पना करी सकदे ओ, सौ बरै पहलें, इक संत लिखी गेआ जे पानी करेयाने दी दुकान इच विकोग, अज्ज अस पीने दा पानी करेयाने दी दुकान थमां लैने आं, कुत्थुँ दा कुत्थें अस पुज्जी गे। मेरे प्यारे देशवासियो ना असें थकना ऐ, ना असेंगी थमोना ऐ, ना असें गी रूकना ऐ, नां असेंगी अग्गे बद्दने कोला झुक्कना ऐ। ए मुहिम सरकारी नेईं बननी लोडदी।   पानी किट्ठा करने दी ए मुहिम, जियां स्वच्छता दी मुहिम चली ही, आम आदमी दी मुहिम बननी लोडदी। आम-आदमी गी लेइयै, आम आदमी दिएं अपेक्षाएं गी लेइयै, आम आदमी दी समर्थ गी लेइयै, असें गी अग्गे बद्दना ऐ। मेरे प्यारे देशवासियो, हुन साडा मुल्ख उस दौर इच पुज्जेआ ऐ जेदे इच मती सारी गल्लें थमां हुन, अपने आप गी छपैले रखने दी लोड नेईं ऐ, असें चुनौतियें गी सामनै थमां स्वीकार करने दा मौका आई चुके दा ऐ। कदें सियासी नफा-नुक्सान दे ईरादे कन्नै, अस फैसले करने आं, पर एदे कन्नै  मुल्खा दी भविक्ख दी पीढी दा बडा नुक्सान हुन्दा ऐ। ऐसा गै इक विषय ऐ जिसी मै अज्ज लाल किले थमां स्पष्ट करना चाहन्नां। ते ओ विषय ऐ, साडे इत्थें बेतहाशा जेडा जनसंख्या विस्फोट होआ करदा ऐ ए विस्फोट साडे लेई, साडिएं अगली पीढियें लेई नेकां मुशकालां पैदा करदा ऐ। पर ए गल्ल मन्नी होग जे साडे मुल्खा इच इख जागरूक वर्ग ऐ जेडा इश गल्लै गी चंगी चाल्ली समझदा ऐ। ओ अपने घरै इच शिशु गी जन्म देने कोला पैहले खरी-चाल्ली सोचदा ऐ जे में कुतें ओदे कन्नै बेन्याई ते नेईं करीदेग, उसी जेडिएं चीजें दी लोड होग उनेंगी में पूरा करी सकंग या नेईं। ओदे सुखने गी में पूरा करी सकंग? इनें सारिएं गल्लैं ते परिवार बारै सोचियै साडे मुल्खा इच अज्ज बी अपनी प्रेरणा कन्नै इक लौहका वर्ग अपने परिवार गी सीमित करियै परिवार ते मुल्क दा भला करने इच योगदान दिन्दा ऐ। ए सब सम्मान दे हकदार न।  लौहका परिवार रक्खइयै ओ देशभक्ति गी गै प्रगट कदे न। मे चाहंग जे अस सब्भनें समाज दे लोक इन्दे जीवन थमां प्रेरणा लैचे, दिखदे गै दिखदे परिवार कियां अग्गें बदी गेआ ऐ। बच्चें कियां शिक्षा लैती ऐ। ओ परिवार बमारी थमां मुक्त ऐ। अस बी ए सिख लैचे ते साडे घरै इच कुसे बी शिशु दे औने कोला पहले अस सोचचै जे क्या उस शिशु दुएं जरूरतें गी पूरा करने लेई में त्यार आं। केह में उसी ओदी किस्मत पर छोडी देग।कोई माता-पिता ऐसे नेईं होई सकदे। एदे लेई इक समाजिक जागरूक्ता दी लोड ऐ। समाज दे सब्भें वर्ग किट्ठे करियै जनसंक्या विस्फोट दी चिता असेंगी करनी होग। सरकार गी बी अग्गें औना होग। अस अशिक्षित समाज नेईं सोची सकदे, 21वीं सदी दा भारत, सुखने गी पूरा करे दा कम्म मनुक्खै थमां शुरू हुन्दा ऐ परोआर थमां शुरू हुन्दा ऐ। जेकर आबाद शिक्षित ते तन्दरूस्त नेईं ऐ ते नां गै घर सुखी हुन्दा ऐ ते नां गै देश सुखी हुन्दा ऐ। मेरे प्यारे देशवासियो तुस चंगी चाल्ली जांदे ओ जे भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद साडे मुल्खा गी सिनक आला लेखा नुक्सान पुजा करदा ऐ। उसी कड्डने लेई अस लगातार कोशिश करै करने आं। सफलता बी मिली पर बमारी उन्नी गहरी ऐ, इन्नी फैली दी ऐ असें गी होर जत्ने करने होंगन ओ बी छडे सरकारी स्तह पर नेईं, होर पास्सै करदे गै रौहना होग, लगातार करना होग। जियां पुरानी बमारी कदें ठीक होई जन्दी ए पर मौका मिलदे गै फी आई जन्दी ऐ। इसी असें टैक्नालोजी दा इस्तेमाल कदे होई, उसी खत्म करने लेई केईं गैईं पुट्टियां न। पिच्छले 5एं बरे इच बी ते इश बारी औन्दे गै सरकार इच बैठे दे बड्डे-बड्डे लोकें दी छुट्टी करी दित्ती गेई। असें आक्खेआ जे मुल्खा गी हुन उन्दिएं सेवाएं दी लोड नेईं ऐ। व्यवस्था दे कन्नै-कन्नै समाजी जीवन इच बी बदलाव होना लोडदा। ता गै खरे नतीजे हासिल होंगन। भहने-भ्राओ मुल्ख आजादी दे इन्ने बरें बाद इक चाल्लीं परिपक्ख होआ। अस आजादी दे 75 बरे मनान जा करने आं। ए आजादी सहज संस्कार, सहज स्वभाव, सहज अनुभूति ए बी जरूरी ऐ। में अफसरें कन्नै अक्सर गल्ल करनां। में अपने अफसरें इच बार-बार आक्खना जे केह अजादी दे इन्नें बरे परैन्त रोजमर्मा दे जीवन इच, सरकारें दी जेडा दखल ऐ लोकें दे जीवन इच, केह उसी अस घट्ट नेईं करी सकदे, खत्म नेईं करी सकदे। होना ए चाईदा जे बल्लें-बल्लें सरकारां लोके दे जीबन थमां बाहर औन, लोक अपनी जिन्दगी जीने लेई, फैसले लेई सारे रस्ते उन्दे लेई खुल्ले होने लोडदे। मनमर्जी आली दिशा, मुलखा दे हित इच ते परिवार दी भलाई लेई, अग्गें बदन, ऐसा सिस्टम असें गी बनाना गै होग ते इस लेई सरकार दे दबाव नेईं ते सरकार दा अभाव बी नेईं होना लोदा। नां दबाव होए ना अभाव होए पर अस सुखने गी लेई अग्गें बदचै सरकार साथी दे रूप इच मौजूद होऐ। असें गैर जरूरी केईं कनूनें गी खत्म कीता ऐ। पिच्छले 5एं बरें इच इक चाल्लीं में हर रोज इक गैर जरूरीर कनून खत्म कीता हा। तकरीबन 1450 कनून खत्म कीते हे। आम आदमी पर बोझ घट्ट होआ। अजें सरकार गी दस हफ्ते होए, इश दौरान 60 ऐसे कनूनें गी खत्म करी दित्ता गेआ ऐ। Ease of Living ए आजाद भारत दी जरूरत ऐ ते इश लेई अस Ease of Living गी गै अग्गे लेई जाना चाहन्ने आं। एदे इच असें बडी तरक्की कीती ऐ। पैहले 50एं इच पुज्जने दा सुखना ऐ, ओदे लेई केईं बदलाव दी लोड ऐ। कोई लौहका जनेआ उद्योग करना चाहन्दा ऐ कोई लौहका कम्म करना चाहन्दा ऐ। इधर-फोन करो उप्पर जाओ, नेकां परेशानियां, ओदा कम्म गै नेईं पूरा हुन्दा । इनें गी खत्म करदे-करदे असें सब्भनें गी कन्नै लैन्दे होई, नगर पालिका गी बी कन्नै लैन्दे होई अस Ease of Doing Business इच बडा किश करने इच सफल होए आं। ते दूनियां गी बी विश्वास पैदा होआ ऐ जे भारत एड्डा बड्डा जम्प मारी सकदा ऐ। में ऐ दिक्कना तां Ease of Business तां मिगी लगदा ऐ जे ए इक पडां ऐ मेरी मंजिल ते Ease of Living आम आदमी गी सरकारी दखल नेईं झल्लना पवै।

 

 

मेरे प्यारे देशवासियो, स्हाडा देश अग्गै बदै पर, पर अग्गै बदने दी रफ्तार तेज होनी लोडचदी, अस रूकी-रूकीऐ अग्गै नेईं बदी सकदे। असें गी अपनी सोच गी बी बदलना पौग। भारत गी विश्वस्तर पर आनने आस्तै, असें गी आधूनिक बुनियादी ढांचा तैयार करना पौग। आम जनता गी बंदीशां व्यवस्था ते साधन उपलब्ध कराने दी लोड ऐ, तां जे ओदी रूचि राष्ट्र-निर्माण च बदै। असें फैसला कीता ऐ जे इक सौ लक्ख करोड रपें, आधूनिक बुनियादी ढांचा विकसित करने च लाए जांङन। एदे कन् रोजगार बी बदोग ते जीवन स्तर च सुधार बी होग। भामें सागरमाला प्रोजेक्ट होए यां भारत माला प्रोजेक्ट, भामे आधूनिक रेलवे स्टेशन बनाने होन बस-अड्डे बनाने होन, भामें आधूनिक एयरपोर्ट बनाने होन या आधूनिक अस्पताल बनाने होन, या फेर आधूनिक शिक्षा संस्थाने दा निर्माण करना होग, Infrastructure दे बाद्दे विकास आस्तै एह सारे कम्म कीते जांङन। देश च Sea Part विकसित करने दी बी लोड ऐ। सामान्य जीवन जीने आले दी सोच च हून बदलाव आए दा ऐ। पैहले कागज पर कुसै परियोजना दी मंजूरी कन्नै गै नागरिक संतुष होई जन्दे ऐ। मिसाल दे तौर पर हून जेकर कोई रेलवे स्टेशन मंजूर करी दिता जा, ते बनाई बी दित्ता जा, ओ काफी नेईं ऐ, कीजे हर कोई पुच्छदा ऐ जे स्हाडे रेलवे-स्टेशन पर वंदे-भारत रेलगड्डी कदूं शुरू होआ रदी ऐ। अस जेकर कोई आधूनिक बस स्टैंड बनाई देने या Five Star रेलवे स्टेशन तैयार करचै, तां उत्थें दा नागरिक एह नेईं आक्खग जे शाबाश, बडा शैल कम्म कीता, ओ फौरन पुच्छदा ऐ, हवाई अड्डा कदूं औग। यानि, ओदी सोच हून बदली गेदी ऐ। कदे, रेल ते Stoppage कन्नै संतुष् होई जाने आला मेरे देश दा नागरिक, बदिआ रेलवे स्टेश थ्होने पर फौरन पुच्छ दा ऐ, कि हून हवाई अड्डा कदूँ बनोग। पैहले कुसै बी नागरिक कन्नै मिलने पर ओ आखदा हा जे पक्खई सडक कदू बनौग। हून लोक पुच्छदे न 4 लैन आली सडक बना दी ऐ या 6 लेन आली। भारत दे नागरिकें दियां आकांक्षा जागी गेईयां न, एह इक बडी बड्डी गल्ल ऐ। पैहले ग्रां दे बाहर, बिजली दा जम्मा सुट्टी दित्ते जाने पर गै लोक आक्खदे हे जे बिजली आई गेई ऐ। पर हून बिजली दी तार बी लागी जा, घर मीटर बी लग्गी जा, भेर ओ पुच्छदा ऐ, 24 घैंटे बिजली कदूं औग। हून खम्भे ते तार कन्नै संतुष्ट नेईं ऐ। पैहले मोबाईल आने पर खउश होई जाने आला नागरिक, हून पुच्छा ऐ जे मोबाइल च जेहडा डेटा अवा रदा ऐ, ओदी स्पीड केह ऐ। इस बदलदे मिजाज ते बलदे वक्त गी असें गी समझना होग ते अपने किश गी आधूनिक Infrastructure उपलब्ध करना होग। स्वच्छ ऊर्जा, आधूनिक ते उन्नत अर्थव्यवस्था, E-mobility, ते दुए जनेह अनेक क्षेत्रे च असें गी अग्गै बदना होग। मेरे प्यारे देशवासियों, आम तौर पर स्हाडे देश च सरकारें दी पंछान इस पर बनदी ही जे सरकार नै फलाने इलाके लेई के कीता फलाने वर्ग लेई केह कीता फलने समुदाय लेई केह कीता आम तौर पर, केह दित्ता, किन्ना दित्ता, कुसी दित्ता, कुसी थ्होआ, एहदे पर गै सोच केन्द्रित रौहन्दी ही। उस्सलै शायद ओ ठीक हा, पर हून कुस्सी केह थ्होआ, कुसलै थ्होआ, किन्ना थ्होआ इस नजरीऐ दे कन्नै कन्नै अस सब रली-मिलीऐ देश गी कुत्थै लेआरने आं, अस सब्बै मिलीऐ, देश दी कुत्तै पुजागे, अस सब्बै मिलीऐ देश लेई केह हासिल करगे, इस सोच गी लेई ऐ अग्गै बदना, ओदे लेई संघर्ष करना, हून समें दी मंग ऐ, तां गै 5 Trillion Dollor दी अर्थव्यवस्था दा असें सुखना संजोया ऐ। इक सौ 30 करोड देशवासी, जेकर इस कम्मै च लग्गी फैन, तां इस लक्ष्य गी हासिल करना मुश्किल नेईं ऐ। लक्ष्य बड्डा जरूर ऐ पर अस रलीऐ इसी हासिल करी सक्कनेआँ। मनोवैज्ञानिक तौर बी, लक्ष्य बड्डा गै होना लोडचदा। स्हाडा लक्ष्य मुश्किल जरूर ऐ, पर ओ हवा च नेईं ऐ, आजाद दे 70 साल बाद अस 2 Trillion Dollar दी अर्थव्यवस्था पर पुज्जे हे। 70 साल दी स्हाडी विकास यात्रा नै असें गी 2 Trillion Dollar दी अर्थव्यवस्था तक्कर पुजाया, पर 2014 शा 2019 दे 5 सालें दे अंदर अस 2 Trillion थमां 3 Trillion तक्कर पुज्जी गे ते इक Trillion असें, अपनी अर्थव्यवस्था च जोदी दित्ते। जेकर 5 साल च अस 2 शा 3 Trillion Dollar तक्कर पुज्जी गे आं तां औने आले 10 साले च अस 5 Trillion Dollar दी अर्थव्यवस्था गी बी हासिल करी सक्कनेआँ। अर्थव्यवस्था च सुधार होने पर जीबन स्तर गी बेहतर बनाने दी सुविधा च बी सुधार हुन्दा ऐ। लौहके थमां लौहके व्यक्ति दे सुखने पूरे करने दे मौके पैदा हुन्दे न। इनें मौके गी दा करन आस्तै असें गी देश दी आर्थिक क्षेत्र च अग्गै लेना होग। जिस्सैल अस सोचने आँ जे देश दे करसान दी आमदनी दोगुनी होनी लोडचदी जिस्सलै अस सपना दिक्खे आं जे आजदी दे 75 साल पूरे होने पर गरीब शा गरीब परिवार दा बी पक्का मकान होना चाहीदा हा परिवार गी बिजली उपलब्ध दोनी लोडचदी जिसलै अस सुखना दिक्खे, आं जे आजदी दे 75 साल पूरे होने पर हिन्दुस्तान दे हर ग्रां च Optical Fibre Network होऐ, Broad band दा सम्पर्क हऐ, उच्चे शिक्षा दी सुविधा होऐ, एह सारे सुखने असे जेकर संजोए न, ता उस उस्सी हासिल होने दी क्षमता बी रक्क्खने आं। देश दे समुद्री तटें कोल रौहने आले मछुआरे भ्राएं-बहने गी अस मजबूत करचै, अपने अन्नदाता करसाने गी अस ऊर्जादाता बनाचै, उस्सी निर्यात करने दी समर्थ देच्चै, इनें सारें सुखने गी साकार करने आस्तै असें गी अग्गै बदना होग। असें गी देश दा बजारा उपलब्ध कराने दी थाहर, दुए देशें दे बाजारें च अपने उत्पादन बेचने लेई जतन करने होंङन। स्हाडे हर जिले च इन्नी ताकत ऐ, जेहडी दुनिया दे किश न्कन्ने मुट्टे देशें कोल ऐ, असें गी अपनी समर्थ गी पंछानना ऐ। इस सामर्थ गी असें गी कारोबार च बदलना होग ते हर इक जिले गी Export करने जोग बनाना होग। स्हाडे हर इक जिले इच अपने-अपने दस्तकारी आले हुनर न, अपनी अपनी, खासियतां न। जेकर स्हाडा कोई जिला इत्र लेई मशहूर ऐ, तां कोई जिला साडीएं आस्तै प्रसिद्ध ऐ। कुसै जिले च जेकर बरतन मशहूर न, तां कुसै जिले च बदिया मिठाई बनदी ऐ, हर इक जिले कोल विशेषता ऐ, ते समर्थ ऐ। असें गी अपने उत्पादन बदाने ते दुनिया दे बाजारें च उतरने आस्तै कम्म करना ऐ। एहदे कन् देश दे नौजवाने गी रोजगार थ्होग। स्हाडे खेड समेआन दे उद्योग ते दुए लघु उद्योगें कन्नै स्हाडी ताकत बदी सकदी ऐ ते असें गी अपनी इस ताकत गी बढाना ऐ। स्हाडा देश, पर्यटन आले खेत्तचर च दुनिया च इक अजूबा होई सकदा ऐ। पर कुसै न कुसै वजह कन्नै, जिन्नी तेजी कन्नै असें कम्म करना ऐ, उन्नी तेजी कन्नै अस नेईं करी सक्ना दे आँ। आओ अस सारे देशवासी तय करी लैचे जे असें गी देश दे पर्यटन गी बदाना ऐ। पर्यडटन बदने कन्नै, घट्ट निवेश कन्नै बी मता रोजगार हासिल हुन्दा ऐ। देश दी अर्थव्यवस्था मजबूत हुन्दी ऐ। दुनिया भरै दे लोक हुन भरात गी नमें सिरेआ दिक्खना चाहन्दे न। लोक स्हाडे देश गी दिक्कन किआँ औन ते स्हाडा पर्यटन किआं बद, अशे गी एङदे पर सोचना होग। असें गी पर्यटन स्थल विकसित करने होंङन। स्हाडे मध्यम वर्ग दे सुखने गी साकार करने आस्तै असें गी साधन उपलब्ध कराने होंङन। स्हाडे वैज्ञानकें आस्तै साधन-वसीलें ते स्हूलतां होन, स्हाडी सेनाएं कोल बेहतर रक्षा उपकरण होन, ओ बी देश च बने दे होन। 5 Trillion Dollor दी अर्थव्यवस्था दा लक्ष्य असें गी इक नमीं शक्ति देग। अज्ज देश च जेहडा वातावरण ऐ, ओ आर्थिक तरक्की आस्तै बडा मददगार ऐ। जिसलै सरकार स्थिर हुदी ऐ, ओदी नीतियां हुन्दीयां न, व्यवस्था स्थिर हुंदीयां न, तां दुनिया दा भरोसा बनदा ऐ। भारत दी जनता नै एह कम्म करीऐ दस्सेआ ऐ। पूरा विश्व, भारत दी राजनीतिक स्थिरता गी बड्डे गर्व  आदर कन्नै दिक्कखा दा ऐ। असें गी इस मौके गी खुंजन नेईं देना होग। अज्ज पूरा विश्व स्हाडे कन्नै जुडना चाहन्दा ऐ। अज्ज स्हाडे आस्तै गर्व दा विषय ऐ जे महंगाई पर काबू पान्दे होई, अस विकास दर बदाने आली बक्खी बदी पेदे आं। कदे विकास दर बद्दी ऐ, पर महंगाई दी दर काबू च नेईं हुन्दी , ते कदें महंगाई दी दर घटदी ऐ पर विकास दी दर काफी नेई हुन्दी, पर एह इक नेईं सरकार ऐ जिन्नै महंगाई गी काबू च बी कीता ते विकास दर गी अग्गे बी बदाया। स्हाडी अर्थव्यवस्था दी बुनियाद बडी गै मजबूत ऐ। एह मजबूती सें गी अग्गै बदने दा भरोसा दिन्दी ऐ। दुआं गै, GST जनेई व्यवस्था गी कायम करना ते आर्थिक प्रशासन च सुधार करना बी समें दी लोड ही। स्हाडे देश च उत्सवादन कदै, कुदरती संपदा दी Processing होऐ, ओदी Value Addition होऐ ते फेर ओदा निर्यात पूरी दुनिया च होऐ। दुनिया च कोई देश बाकी नेईं रवै, जित्थै भारत च बनदी ही कोई व कोई चीज जा रदी नेईं होऐ। हिन्दुस्तान कोई जिला नेईं बचै, जित्थउआं किश न किश Export नेईं होआ दा होऐ। स्हाडी कम्पनीआं, स्हाडे उद्यमी बी दुनिया दे बाजारें च जाने दे सुखने दिक्खदे न। स्हाडे निवेशक, मती कमाई करन, स्हाडे निवेशक मती रास-पूंजी लाई सक्कन, होर मता रोजगार पैदा करन, इस्सी प्रोत्साहन देने आस्तै स्हाडी सरकारी पूरी चाल्ली अग्गै औने लेई तैयार ऐ। स्हाडे देश च किश गलत मान्यताएं थाहर बनाई लैती दी ऐ, ते असें गी उनें मान्यताएं चा बाहर निकलना होग। देश दी सम्पत्ति दा जेहडा निर्माण करदा ऐ, देश दी सम्पत्ति गी जेहडा विकसित करदा ऐ, उस उस्सी शक दी नजर कन्नै नेईं दिक्खचै। अस उनें गी गलत नजरीए कन्नै नेई दिक्खिचै। देस च अर्थव्यवस्था बदाने ते सम्पत्ति विकसित करने आलें दा बी मान सम्मान होना लोडचदा, ते उन्दा गौरव बदना लोडचदा। जेकर देश च पैसा नेईं होग, संपत्ति नेईं होग, तां ओ लोकें च बंडोग बी नेई। जेकर धन-सम्पत्ति दी बंड नेई होग। तां देश दे गरीबन दी भलाई बहेतरी बी नेईं होई सकदी। इस लेई, धन-सम्पत्ति दी सृजना स्हाडे देश लेई बडी महत्वपूर्ण ऐ। मारे प्यारे देशवासियों, अस विकासदे कन्नै कन्नै, शआंति ते सुरक्षा बी चाहन्नेआं। शांति ते सुरक्षा विकास लेई बडे जरूरी न। दुनिया अज्ज असुरक्षा कन्नै घिरी दी ऐ। दुनिया दे कुसै न कुसै हिस्से च, कुसै न कुसै रूप च मौत दा साया मंडरा दा ऐ। विश्व शांति ते विश्व स्मृद्धि आस्तै, भारत गी अपनी भूमिका अदा करनी होग। विश्वस्तर पर मूक-दर्क बनीऐ नेईं रेही सकदा। भारत आतंक फैलाने आलें दे खिलाफ मजबूती कन्नै लडा दा ऐ। दुनिया कुसै बी कोने च, आतंक दी वारदात, मनुक्खता दे खिलाफ छडेआ गेदा युद्ध ऐ। इस लेई, दुनिया दी सब्बै मुकुकता वादी शक्तियां इक्क होन। आतंकवाद गी पनाह देने आले आथंकवाद गी प्रोत्साहन देने आले, आतंकवाद गी Export  करने आले, ते दुऐ जनेई सब्बे मुक्खता दी दुशमन ताकतें गी दुनिया दे सामनै, उदे असली रूप गी प्रस्तुत करना जरूरी ऐ। आतंकवाद गी नष्ट करने आस्तै विश्व भरै दे देशें दे रले-मिले जतने च भारत गी बी अपनी भूमिका निभानी होग। किश लोकें स्हाडे देश गी गै नेईं स्हाडे किश गोआंडी देशएं गी बी तबाह करीऐ रक्खे दा ऐ। बंगलादेश बी आतंकवाद कन्नै लडा दा ऐ, अफगानिस्तान बी आतंकवाद कन्नै ग्रस्त ऐ, श्रीलंका दे अंदर चर्च च बैठ दे निरेदोश लोकें गी मारी दित्ता गेआ। एह बडीआं दर्दनाक गल्लां न। इस लेई असें आतंकवाद दे खिलाफ जिस्सैल लडाई लडने आं, तां अस अपने गोआंडी देशें च शांति ते सुरक्षा आश्तै बी संघर्ष करने आं। स्हाडा गोआंडी स्हाडा इक मित्र देश अफगानिस्तान, चार दिन बाद अपनी आजादी दा जश्न मनाने आला ऐ। उन्दा एह आजाद दा 100मां साल ऐ। में अज्ज लाल किले थमां अफगानिस्तान दे अपने मित्रें गी इस मौके पर मती मतीआं शुभकामनां दिन्नां। आतंक ते हिसं दा म्हौल बनाने आले गी, आतंक फैलान आले गी। डर-त्राह दा वातावरण पैदा करने आले गी नेस्तनाबूद करना ऐ। इस बारै सरकार दी नीति च पूरी स्पष्टता ऐ। असें गी कोई हिचकिचाहट नेईं ऐ। स्हाडे सैनिकें, स्हाडे सुरक्षा बलें सुरक्षा बलें, सुरक्षा एजेंसिएं बडा प्रशासनीय कम्म कीता ऐ। संकट दी घडी च बी देश च शांति कायम करने आस्तै, उनें अपने अज्ज गी बलिदान कीत्ते दा ऐ, तां जे स्हाडा कल सुरक्षित होऐ। मैं उनें सब्बें गी सलुट करनां। मैं उं गी नमी करनाँ। पर समें रौहन्दे सुधारें दी बी बडी लोड हुन्दी ऐ। तुसे दिक्खेआ होना जे स्हाडे देश च सैन्य-व्यवस्था, सैन्य शक्ति, सैन्य-साधन, इन्दे च सुधार लेई मते चिरै थमां चर्चा चला रदी ऐ। अनेक सरकारें एहदी चर्चा कीती। केईं आयोग बैठे, केईं रिपोर्ट आइयां, ते सरीआं रिपोर्ट, लगभग इक्कै तजवीज दिंदियां रेहियाँ, जे स्हाडी सेना दे त्रौने अग्गें च जेहडा तालमेल ते नेतृत्त्व ऐ ओदे च होर सुधार होऐ। आधूनिक समें च जिस चाल्ली युद्ध दे तौर तरीके बदला देन ते टैक्नालोजी पर आधारित सरीस्ते तैयार कीते जा रदे न, तां भारत गी बी टुकडे च सोचने कोला उप्पर उटना होग। स्हाडी पूरी सैन्य शक्ति गी, इक मुशत होईऐ, इक दिशा च अग्गै बदने आस्तै तैयारी करनी दी लोड ऐ। जल, थलक ते नभ च सेनआं गी तालमेल कन्नै ते किट्ठे चली सकन्नै दी समर्थ बदाने आस्तै ते युद्ध ते सुरक्षा आले म्हौल दे अनुरब बनने दी क्षमता आस्तै अज्ज मैं लाल किले थमां इक महत्वपूर्ण फैसले दी घोषणा करंङ। इश विषे दे जेहडे जानकार न, ओ बडे चिरै थमां एहदी मंग करदे अवा रदे न। असें फैसला कीता ऐ जे हून अस Chief of Defence Staff यानि CDS दी व्यवस्था करचै। इस फैसले कन्नै त्रौने सेनाएं गी इक प्रभावशाली नेतृत्तव थ्होग। हिन्दुस्तान दी सामरिक क्षमता च, CDS दी व्यवस्था कन्नै मजबूत होग। मेरे प्यारे देशवासियों, अस भागें आले आं, जे अशें नेह कालखंड च जन्म लैता, ते जिआं दे आं, जिसलै अस किश न किश करी सकने दा समर्थ रक्खने आँ। कदें मन च ओदा ऐ, जिसलै आजादी दा संघर्ष चला रदा हा, ते भगत सिंह, राजगुरू ते सुखदेव आजीद लेई लडाई हे, आजादी दे दीवाने घर-घर गली-गली जेईऐ देश दी आजदी आस्तै लोकें गी जगा देहे, अस ओल्ले नेह पर देश आस्तै मरने दा मौका असें गी नई थ्होआ पर देश लेई जीन दा मौका जरूर थ्होआ ऐ। एह स्हाडी खुश किस्मती ऐ जे एह कालखंड दुऐ जनेहा ऐ जदु आजदी दे 75 साल पूरे होने आले न, जेहदे कन्नै देश लेई किश करने दा स्हाडा ईरादा मजबूत हुदा ऐ। अस इस मौके गी गोआई नई सकदे। इक सौ 30 करोड देशवासिएं दे दिले च महात्मागांधई हुन्दे सुखने दे अनुरूप, देश दी आजदी दे दीवाने दे शुखने दे अनुरूप, आजादी दे 75 साल ते बापू गांधी हुन्दे 150 साल, आले इस पर्व गी अस अपनी प्रेरणा समझनै। असें गी अग्गै बदना ऐ। मैं इस्सै लाल किले थमां 2014 च स्वच्छता दी गल्ल आक्खई ही। 2019 च, मिगी विश्वास ऐ, जे भारत पूरे देश गी खुले च शौच शा मुक्त करी पाग। राज्यें, ग्राँ, नगरपालिकाएं, लोकें, मीडिया नै, जन-आंदोलन खडा करी दित्ता। सरकार कुरदै नजर नेही बी जेकर आई, तां लोकें स्वच्छता अभियान गी रूकन नेईं दित्ता। हून परिणाम सामनै ऐ। मै इक निक्की जनेही अपेक्षा देशवासिएं कोला करोग। इस 2 अक्तूबर गी अस देश गी Single Use Plastic शा मुक्त करचै। जेकर अस सब्बै रलीए इस कम्म लेई निकली पौचै ते स्कूल, कालेज सब्बै एदे च सहयोग करन ते घर च सड़का पर चौहराहे पर, जित्थै बी Single Use Plastic पैदा होऐ, उसी कट्ठा करचै। एहदे च पंचायता ते नगरपालिका बी शामल होग। इस प्लास्टिक कचरे गी जमा करने दी व्यवस्था कीती जा ते प्लास्टिक गी बदाई देने दी दिशा च 2 अक्तूबर गी पैहला मजबूत कदम चुक्की लैचे, एदे लेई सब्बै तैयार होन। फेर मै Start Up आले गी Technicians गी उद्यमीएं गी अगार्ह करोङ ज9 अस इस प्लास्टिक गी Recycle करचै। फेर एहदा इस्तेमाल सडक निर्माण च दुए कतेरें च कीता जा । प्लास्टिक कन्नै केईं समसायां पैदा होआ रदीआं न, ते एङदा शा मुक्ति आस्तै श् गी गै अभियान छेडना होग। एङदे कन्नै-कन्नै असें गी वैकल्पिक व्यवस्था बी देनी पौग। मैं सब्बने दुकानदारें गी आघ्रह करोङ जे ओ अपनी दुकानें पर केईं बोर्ड लान्दे न, इक बोर्ड बी इब्बी लान जे कृपा करीऐ स्हाडे कोला प्लास्टिक दी थैली दी अपेक्षा नेईं करेओ। सब्बै अपे घरें दा कपडे दा थैला लेइऐ औन। या फेर दाकनादर कपडे दा थैला बी दीवाली पर अस केईं किसमें दे तोफे दिन्नेआं। की नेई इस बारी अश कपडे दे थैले तौफे च देच्चै। तां जे लोक कपडे दा थैला लेईऐ, मार्केट च जान जेहदे कन्नै कम्पनी दी मशहूरी बी होग। डायरीआं बंडने दी थाहर कपडे दे थैले कन्नै कम्पनी दी मती मशहूरी होई सकदी ऐ। कपडे दे थैले दे उत्पादन च करसान कोला लेईऐ लोकें बड्डे उद्यमीएं तक्कर गी आमदनी होग ते रोजगार पैदा होग। साडा इक सिक्का फैसला बी आम लोकें दे जीवन च सुधार आनी सकदा ऐ। मेरे प्यारे देशवासियों, 5 Trillion Dollor दी अर्थव्यवस्था दा सुखना होऐ, स्वालंबी भारत दी कल्पना होऐ, महात्मागांधी हुन्दे आदर्शें गी जीना, जेहडा अज्ज बी प्रशआसनिक ऐ, ओ सब किश हासिल कीता जाई सकदा ऐ। Make in India दा जेडा Mission असें लैता ऐ, उस्सी असें गी अग्गे बदाना ऐ। भारत च बने दे उत्पादन स्हाडी प्राथमिक्ता दोने लोडचदे। अस तम करी लैचे, जे मेरे जीवन च प्रथामिक्ता देश च बनी दी चीजें-बस्ते दी होग। अशें गी लक्की कल आस्तै लोकल उत्पदानें पर जोर देना होग। लक्की कल आस्तै लोकल, खुशहाल कल आश्तै लोकल, उज्जवल कल लेई लोकल, जेहडी चीज ग्रां च बनदीऐ, पैहली उस्सी प्राथमिक्ता, ग्रां च जेकर नेईं ऐ तां तहसील, तहसील थमां बाहर जाना पवा तां, जिले च जिले दे बाहर जाना पवै तां राज्य च, ते गै नेई मन्नदा जे ओदे द, देश दे बाहर दे उत्पादने दी लौड पौग। एहेद कन्नै ग्रामीण कारोबार च बाद्दा होग, लौहके उद्यमीएं, गी पायदा होग, ते स्हाडे परम्परागत उद्योगें गी बी मजबूती थ्होग। भ्राओ ते बहनों, असें गी मोबाईल फोन शैल लगदा ऐ, असें गी वट्सएप पर भेजना अच्चा लगदा ऐ, असें गी टवीटर पर रौहना अच्चा लगदा ऐ पर एहदे कन् अस देश दी अर्थव्यवस्था चद सहयोग करी सक्कनेआँ। जानकारी नेईं टैक्नालोजी जिन्नी उपयोगी ऐ, उन्नी गै देश दे निर्माण आस्तै बी उपयोगी ऐ। सामान्य नागरिक डिजीटल पेमेंट की नेईं करै, अज्ज असें गी गर्व ऐ जे स्हाडा रूपे-कार्ड, सिंगपोर च चला रदा ऐ। स्हाडा रूपे कार्ड औने आले समें च, दुए देशें च बी चलने आला ऐ। स्हाडी एकडी डिजीटल प्लेटफार्म, मजबूती कन्नै उभारदी ऐ। पर स्हाडे ग्राए दी निक्किएं हट्टिएं ते शैहरें दे छोटे मालस च बी अज्ज की नेईं जिडीटल पेमेंट पर जोर देच्चै। आओ अस इमानदारी, पारदर्शिता ते देश दी अर्थव्यवस्था गी ताकत देने आस्तै, अस डिजीटल पैमेंट अपनाचै। मैं ते बपारीएं गी आखंड जे तुस तुस बोर्ड लान्दे ओ, जे अज्ज नकद, कल दोआर। मै चाहन्ना जे हून बोर्ड लग्गे जे डिजीटल पेमेंट गी हां ते नकद गी नां। एह म्हौल असें गी बनाना लोडचदा। मैं बैंकिंग क्षेत्र गी आग्रह करना, बपार जगत गी आग्रह करना जे आओ अस इनें सुधारें गी अमल च आनचै। स्हाडे देश च माध्यम वर्ग ते उच्च माध्य वर्ग दी ताकत बदा दी ऐ। साल च इक-दो बार परिवार कन्नै बाहरले देशे च घुम्मन बी लोक जा रदे न। बच्चें गी Exposure थ्होन्दा ऐ, अच्छी गल्ल ऐ। पर मैं अज्ज दुऐ जनेह परिवारें गी आग्रह करोग जे ओ अपने बच्चें गी देश ते अपनी संस्कृति गी समझने आस्तै, अपने देश दी प्रगति आस्तै, अपने देश दी बक्ख-बक्ख थाहरें दी जलवायू दा आनंद लैने आस्तै, मै तुसै गी आग्रह करोग, जे देश दे नौजवाने दे रोजगार आस्तै, विश्व भारत दी पंछान बनाने आस्तै, भारत दी समर्थ उजागर करने आस्तै मै अपने देशवासिएं अग्गे मंग करना, जे 2022 च, आजादी दे 75 साल आले बरे कोला पैहले अपने परिवार कन्नै भारत दे घट्टज शा घट्ट 15 पर्यटन आली थाहरें पर जरूर जान। उत्थै कठिनाइयां होगंन, तां बी जान, इत्थे अच्छे होटल नेई होंङन तां बी जांङन। कदे कोई कठिनाइयां बी जिन्दीगी जीने दे कम्म आंदीआं न। अस बच्चे गी आदत पाच्चै जे इकै स्हाडा देश ऐ ते इख्क बारी पर्यटक औना शुरू हौंङन तां उत्थै सुविधाएं च बाद्दा करने आले लोक बी अघ्गे औंङन। की नेईं स्हाडे देश 100 बदिआं पर्यटन स्थल विकसित कीते जान ते हर राज्य ते जिला च एहदे लेई लक्ष्य तय कीते जान। स्हाडा पूर्वोत्तर कुदरती शलैपे कन्नै भरोचे दा ऐ। मै आग्रह करोग जे 7 दिन, 10 दिन, देश दे आंदा पर्यटन आस्तै जरूर क्डेड जान। तुस देश च जित्थै बी होईऐ औगेआं उत्थै इख नमीं दुनिया छडी करीऐ औगेओ, ताक्की दा बी पाईए औगे ओ ते जीवन च तुसें गी इक संतोष दा अनुभाव होग। हिन्दुस्तान दे लोक जिसलै जाना शुरू करंङन, दुनिया दे लोक बी औना शुरू करी देंङन। अस बाहर जाच्चे ते कोई असें गी पुच्छोग जे तुसें फलानी थाहर दिक्कखी दी ऐ। दा तमिलनाडू दा फलाना मंदिर दिक्खे दा ऐ, ते फेर तुस जवाब देओ जे मैं उत्थै नेईं गेदा। विदेशई केह समझंङन जे ओ भारत च तलमिलनाडू दे मंदिर दिक्खन आए दा हा, पर तुस स्हाडे देश गी दिक्खन आए दे ओ। अस दुनिया च जरूर जाच्चै पर अपने देश गी खीरे जानीऐ, जाच्चै, मैं अपने करसाने भ्राएं अग्गै आग्रह, करना चाहन्दा, उन्दे शा मंगान चाहन्दा, एह धरती स्हाडी मां ऐ। भारत माता दी तय बोलदे गै  स्हाडे अंदर ऊर्जा दा संचार हुन्दा ऐ। वंदे मातरम बोलदे गै इस धरती च खपी जाने दी प्रेरणा थ्होन्दी ऐ ते इक बड्डा इतिहास स्हाडे सामनै आई जंदा ऐ। पर क्या असें धरती मां दे स्वस्थ्य दी चिंता कीती ? अस जिस चाल्ली Chemical दा उपयोग करादेआं। रसैनी हैल बरता देआं, कीडामार दवाईएं गी शिडका देआं, अस अपनी धरती मां गी तबाह करांदेआ। इस माँ दी संतान दे रूप च, इक करसान दे रूप च, असें गी अपनी धरती माता गी तबाह करने दा हक नेईं ऐ। मेरी धरती मां गी रूक्खा करने दा हक्क नेईं ऐ। मेरी धरती माँ गी बिमार बनाई देने दा हक नेईं ऐ। आओ आजादी दे 75 साल पूर होने आले न, पूज्य बापू नै असें गी रस्ता दस्से दा ऐ, जे अस अपने खेतें च Chemcial Fertilizer पाना घट्ट करी देचै। होई सक्कै ते इनें गी बरतना बंद गै करी दित्ता जा। एहदे कन्नै देश दी किन्नी मती सेवा होग। स्हाडी धरती माँ गी बचाने च तुन्दा किन्ना बड्डा योगदान होग। वंदे मातरम आक्खीऐ जेहडा फांसी दे तख्ते पर चढी गेआ। ओदे शुकने पूरा करने च मदद करोग। मिगी विश्वास ऐ जे मेर देशवासी एङदे च जरूर अमल करंङन। मेरे करसान, मेरी इस मंग गी पुरा करंङन, मगिन पूरा यकीन ऐ। स्हाडे देश दे Professionals दी अज्ज पूरी दुनिया च गूंज ऐ। उन्दे समर्थ दी चर्चा ऐ, लोक उन्दा लोहा मनंदे न। टैक्नालोजी होऐ या अंतरिक्ष विज्ञान होऐ, दुनिया नै स्हाडी समर्थ गी मन्नेआ ऐ। स्हाडा चंद्रयान इस्सैल इस भेट्ठा बाद दा ऐ, जित्थै कोई नेईं पुज्जा। एह स्हाडे वैक्षानिकें दी मेहनत ते लगन दा नतीजा ऐ। खेड दे मैदाने च अस गट्ट नजरी औन्दे दे पर अज्ज दुनिया दे खेड दे मैदनें च, मेरे देश दे 18-20-20 साल दे बेटे बेठीआं, हिन्दुस्तान दा तिरंगा झंडा फहरा दे न। देश दे खडारी देश दा नां रोशन करा दे न। मेरे प्यारे देशवासियों, असें गी अपने देश दी अग्गे बदाना ऐ, देश च बदला आन्नना ऐ, ते नमीं उचाईएं गी छूना ऐ। असें गी मिली जुलीऐ एह कम्म करना ऐ। सरकार ते जनता गी मिली चुलीऐ करना ऐ। इक सौ 30 करोड देशवासिएं गी मिलीऐ करना ऐ। देश दा प्रधानमंत्री बी तुन्दे आंङर देश दा इक नागरिक ऐ। औने आले दिनें च, ग्राएं च डेडे लक्ख वेलमैन सैंटर कायम करने न, सेहत केन्द्र खोलने न, हर त्रौ लोक सभा क्षेत्रे च पिच्छले इक मैडिकल कालेज खोलना होग तां जे स्हाडे नौजवाने दे डाक्टर बनने दे सुखने गी पूरा कीता जाई सक्कै। दौ करोड शा मते गरीबें लेई घर बनाने न। अशें गी 15 करोड ग्रामीण घरें च पीने दा पानी पुजाना ऐ। ग्राएं च सवा लक्ख किलमीटर सडके दा निर्माण करना ऐ ते ग्राएं ब्राडबैंट समर्पक ते फाबर नैटवर्क कन्नै जोडना ऐ। 50 हजार कोला मते नमें स्टार्ट अप दा जाल बिछालना ऐ, अनेक सने लेई ऐ अग्गै बदना ऐ। देशासिएं गी मीलीऐ, अपने सपनें गी लेईऐ देश गी अग्गै बदाने च योगदान देना ऐ। आजादी दे 75 साल इस कम्मै लेई बड्डी प्रेरणा ऐ। इक सौ 30 करोड देशवासिएं दे सुखने बी ऐन, ते उन्दे अग्गे चुनौतिआं बी ऐन ते ओ सब्बै मेरे लेई महत्वपूर्ण न। अज्ज जिनें विषें पर मै नेईं बोली पाया, ओ बी महत्वपूर्ण न। भारत दे संविधान दे 70 साल, देश दी आजीदी दे 75 साल दे बापू गांधी हुन्दे डेडे सौ साल पूरे होआ रदे न। बाबा साहब अंबेडकर दे सुखने गी बी पूरा करना ऐ। गुरू नानक देव जी दा 5सौ 50मां प्रकाश पर्व भी ऐ। आओ बाबा साहब अम्बेडकर गुरू नानक देव जी, दी शिक्षाएं गी लेईऐ अस अग्गै बदचै ते इक त्तमसमाज ते उतम देश दा निर्माण करचै। मेरे प्यारे भ्राओ ते बहनों, अस जाननेआँ जे स्हाडे लक्ष्य हिमयालय जिन्ने उच्चे न, स्हाडे सुखने असत्य तारें जिन्ने न, पर अस इब्बी जाननेआं जे स्हाडे हौसलें दी उडान दे अग्गे आसमान बी घट्ट ऐ। स्हाडा सामर्थ हिंद महासागर जिन्ना अस्थाई ऐ, स्हाडे जत्न गंगा दी धारा जिन्नी पवित्र न, ते निरंतर न। साडे मुल्ले पिच्छे, हजारें साल दी स्हाडी संस्कृति, त्रृषी मुनीए दा त्याग ते देशासिएं दा परिक्षम शामल न। जेहदे स्हाडी प्रेरणा न। आओ इनें विचारें, आदर्शे ते संकल्पें कन्नै लक्ष्य हासिल करने आस्तै अग्गै बदचै ते नमें भारत निर्माण च लग्गी  पौच्चै। आओ अस रलीमिलीऐ देश गी अग्गै बदाचै। इश अपेक्षा कन्नै, मै फि इक बारी देश लेई जीने मरने आहले हर कुसै गी नमन करदे होई, मेरे कन्नै बोलो,-जय हिन्द, भारत माता की जय, वंदे मातरम।     

*****

VRRK/KP