विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • अंतरिक्ष विभाग
  • चन्‍द्रयान-2 का चन्‍द्रमा की निर्धारित कक्षा में प्रवेश : इसरो अध्‍यक्ष  
  • गृह मंत्रालय
  • गृह मंत्री ने एनआरसी से जुड़े मुद्दों की समीक्षा की  
  • कैबिनेट सचिव ने हिमाचल प्रदेश, पंजाब, उत्‍तराखंड, हरियाणा और दिल्‍ली में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा करने के लिए एनसीएमसी बैठक की अध्‍यक्षता की  
  • युवा मामले और खेल मंत्रालय
  • राष्ट्रीय खेल पुरस्कार -2019 की घोषणा,बजरंग पुनिया और दीपा मलिक को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार दिया जाएगा  
  • रक्षा मंत्रालय
  • रक्षामंत्री श्री राजनाथ सिंह का मेक इन इंडिया के तहत रक्षा क्षेत्र में निजी क्षेत्र की साझेदारी बढ़ाने का आह्वान; आयात पर निर्भरता में कमी लाने की आवश्यकता पर बल  
  • संघ लोक सेवा आयोग
  • सम्मिलित चिकित्सा सेवा परीक्षा, 2019  
  • मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय
  • मेघालय के मुख्‍यमंत्री श्री कॉनराड संगमा ने केन्‍द्रीय मत्‍स्‍य पालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्री श्री गिरि‍राज सिंह से भेंट की  

 
संस्कृति मंत्रालय29-जनवरी, 2015 17:11 IST

प्रख्‍यात गायक, संगीतकार, गीतकार एवं अभिनेता शेखर सेन संगीत नाटक अकादमी के अध्‍यक्ष नियुक्‍त किए गए

श्री शेखर सेन संगीत नाटक अकादमी के अध्‍यक्ष नियुक्‍त किए गए हैं। शेखर सेन जाने माने गायक, अभिनेता, नाट्य निर्देशक, संगीतकार एवं गीतकार हैं।

संस्‍कृति मंत्रालय द्वारा 28 जनवरी, 2015 को जारी आदेश के अनुसार श्री शेखर सेन तत्‍काल प्रभाव से पांच वर्षों के लिए संगीत नाटक अकादमी के अध्‍यक्ष नियुक्‍त किए गए हैं। श्री सेन ने अनुसंधान मुखी अनेक संगीत कार्यक्रम किए हैं और 1983 से ही गायक, गीतकार एवं संगीतकार के रूप में शानदार भजन एल्‍बम प्रस्‍तुत कर रहे हैं। श्री सेन 'तुलसी', 'कबीर', 'विवेकानंद', 'सन्‍मति', 'साहब' और 'सूरदास' जैसे प्रसिद्ध नाटकों में अपने मोनो (एकल) अभिनय संगीत नाटक के लिए प्रसिद्ध हैं।

श्री शेखर सेन को पद्म श्री सहित अनेक प्रतिष्‍ठित पुरस्‍कार तथा राज्‍य स्‍तर के पुरस्‍कार मिले हैं।

श्री शेखर सेन- परिचय

श्री सेन मजे हुए गायक, संगीत निर्देशक, गीतकार और अभिनेता हैं। उन्‍होंने संगीत निर्देशक के रूप में कैरियर के रूप शुरुआत की और फिर भजनों के संगीत निर्देशन की ओर मुड़े। उन्‍होंने गायक, गीतकार एवं संगीतकार के रूप में अनेक भजन एल्‍बम दिए हैं। श्री सेन ने 'तुलसी', 'कबीर', 'विवेकानंद', 'सन्‍मति', 'साहब' और सूरदास जैसे प्रसिद्ध नाटकों में अपना मोनो (एकल) अभिनय संगीत नाटक प्रस्‍तुत किया है। श्री सेन ने अनुसंधान मुखी संगीत कार्यक्रम भी किए हैं। इनमें 'दुष्‍यंत ने कहा था', 'मध्‍ययुगीन काव्‍य', 'पाकिस्‍तान का हिन्‍दी काव्‍य', 'मीरा से महादेवी तक' शामिल हैं।

श्री सेन की प्रस्‍तुतियों को भारत में तथा अमेरिका, ब्रिटेन, बेल्‍जियम, सूरीनाम, सिंगापुर, जर्काता, हांगकांग, दक्षिण अफ्रीका, संयुक्‍त अरब अमीरात, मारीशस एवं त्रिनिदाद में काफी सराहा गया है।

श्री सेन ने अनेक गायन कन्‍सड में अपना प्रस्‍तुतिकरण दिया है। उन्‍होंने मोनो अभिनय संगीत नाटक 'कबीर' लोकसभा में भी पेश किया। उनके एकल अभिनय संगीत नाटक की भारत और विदेशों में काफी प्रशंसा हुई है।

भारत के राष्‍ट्रपति ने कला के क्षेत्र में श्री शेखर सेन को पद्म श्री पुरस्‍कार देने की स्‍वीकृति दी है। उन्‍हें उत्‍तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी द्वारा 2001 में थियेटर के क्षेत्र में योगदान के लिए सफदर हासमी पुरस्‍कार प्रदान किया गया था। महाराष्‍ट्र राज्‍य हिंदी साहित्‍य अकादमी ने उन्‍हें 2008 में वी. शांताराम सम्‍मान दिया।

वि.कासोटिया/एएम/डीटी/सीसी -437
(Release ID 33451)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338