विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने राष्‍ट्रपति से मुलाकात की   
  • तीन राष्ट्रों के राजदूतों ने भारत के राष्ट्रपति को अपने परिचय पत्र प्रस्तुत किये   
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • प्रधानमंत्री ने साइबर स्पेणस पर पांचवें वैश्विक सम्मे लन-2017 का उद्घाटन किया  
  • सतत विकास के लिए समावेशी, सुरक्षित और सुदृढ़ साइबर स्पेस बनाने के प्रयास : श्री रविशंकर प्रसाद  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • राष्ट्रपति ने दिवाला एवं दिवालियापन संहिता, 2016 में संशोधन के लिए अध्यादेश को मंजूरी दी   
  • गृह मंत्रालय
  • प्रतिरक्षा क्षेत्र में क्षमता निर्माण के लिए प्रशिक्षण एक आवश्यक तत्व है : श्री हंसराज गंगाराम अहीर   
  • आपदा जोखिम दूर करने में समुदाय जागरूकता प्रशिक्षण की भूमिका महत्‍वपूर्ण : श्री हंसराज गंगाराम अहीर   
  • गृह मंत्रालय कल बहु-राज्यीय मॉक सुनामी अभ्यास 2017 का संचालन करेगा   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • अक्‍टूबर, 2017 में तेल व प्राकृतिक गैस क्षेत्र का उत्पादन संबंधी प्रदर्शन  
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 22.11.2017 को 61.54 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पर्यावरण एवं वन मंत्रालय
  • केंद्र ने गैर वन क्षेत्रों में बांस की खेती को प्रोत्‍साहित करने के लिए भारतीय वन (संशोधन) अध्‍यादेश, 2017 की घोषणा की   
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेल ने ‘बिजली ट्रैक्शन ऊर्जा बिल' में बड़ी बचत हासिल की   
  • वित्त मंत्रालय
  • बैंक चेकबुक सुविधा वापस लेने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं  
  • श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
  • कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने पेंशनरों द्वारा जीवन प्रमाण को आसानी से भरने के लिए नई व्यवस्था की  
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • जाने भी दो यारों की टीम ने आईएफएफआई गोवा 2017 में कुंदन शाह को श्रद्धांजलि अर्पित की   
  • आईएफएफआई–2017 में ‘भारत के युवा फिल्‍म निर्माता – उभरते विचार एवं कथाएं’ विषय पर पैनल परिचर्चा   
  • फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर ने आईएफएफआई 2017 में ब्रिक्स फिल्म निर्माण कार्यक्रम की जानकारी दी  
  • आईएफएफआई गोवा 2017 में ‘सेक्रेट सुपरस्‍टार’ एवं ‘हिन्‍दी मीडियम’ की स्‍क्रीनिंग के साथ नेत्रहीनों के लिए ‘एसेसिबल फिल्‍म्‍स’ खंड का आगाज  
  • बदलते परिदृश्य में फिल्म निर्माण, तकनीक पर विशेष ध्यान, दर्शक, वितरण, अर्थशास्त्र और प्रदर्शन-सुविधा पर ओपन फोरम परिचर्चा  
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय
  • राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग ने सफाई कर्मचारियों की कल्याणकारी योजनाओं के लिए नीति आयोग को सुझाव दिया  

 
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय23-नवंबर, 2017 20:46 IST

जाने भी दो यारों की टीम ने आईएफएफआई गोवा 2017 में कुंदन शाह को श्रद्धांजलि अर्पित की

हिन्‍दी सिनेमा की पांच सर्वकालिक सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍मों से एक ‘जाने भी दो यारो’ (1983)- जिसमें दिवंगत ओमपुरी, नसीरूद्दीन शाह, सतीश शाह, सतीश कौशिक, नीना गुप्‍ता एवं पंकज कपूर जैसे मंजे हुए कलाकारों ने काम किया था- को आज दिवंगत फिल्‍मकार कुंदन शाह के श्रद्धांजलि खंड में दिखाया गया। कुंदन शाह नुक्‍कड़ सीरियल के लिए भी काफी लोकप्रिय थे। 

संवाददाता सम्‍मेलन में अंतरराष्‍ट्रीय रूप से विख्‍यात फिल्‍म निर्देशक सुधीर मिश्रा के साथ अभिनेता सतीश कौशिक, नीना गुप्‍ता एवं लेखक-निर्देशक रंजीत कपूर ने भी हिस्‍सा लिया जिन्‍होंने इस फिल्‍म में काम किया था। उन्‍होंने इस महान हास्‍य फिल्‍म की शूटिंग के दौरान व्‍यतीत यादगार क्षणों को साझा करके उपस्थित जनसमूह को आनंदविभोर कर दिया।

सुधीर मिश्रा ने कहा कि ‘यह विचित्र बात है कि हम जाने भी दो यारों के बारे में बात कर रहे हैं लेकिन कुंदन आज हमारे बीच मौजूद नहीं है। यह फिल्‍म उनके विचित्र आइडिया का नतीजा थी। सतीश और मैं फिल्‍म क्रू के सबसे युवा सदस्‍य थे। रंजीत कपूर लीजेंड थे। हमें रंजीत कपूर के मित्रों के रूप में जाना जाता था। जब हमने इस मीडियम में कदम भी नहीं रखा था उस वक्‍त तक वह थियेटर के एक मशहूर निर्देशक बन चुके थे। कुंदन ने हमें वह करने को प्रोत्‍साहित किया जिसे हमने जाने भी दो यारों के निर्माण के दौरान अंजाम दिया। हमने खुद को जाने भी दो यारों के माध्‍यम से सृजनशील कलाकारों के रूप में पाया।‘

सतीश कौशिक ने कहा कि, ‘यह एक विशेष दिन है क्‍योंकि हम आज यहां एक बेहद भावुक फिल्‍मकार को श्रद्धांजलि देने के लिए इकट्ठा हुए हैं। मैं मुम्‍बई में 1979 में आया तभी से और फिल्‍म संस्‍थान के दिनों से ही उन्हें जानता हूं। उनका दिमाग औरों से अलग था। फिल्‍मों को लेकर वह एक विचित्र, दीवाने और काफी भावुक फिल्‍मकार थे।

रंजीत कपूर ने कहा कि ‘जब तक जाने भी दो यारों के कलाकार जिंदा हैं तब तक इस फिल्म की पूरी श्रद्धांजलि प्रक्रिया बनी रहेगी।

48वें भारतीय अंतरराष्‍ट्रीय फिल्‍म महोत्‍सव का आयोजन गोवा में 20 नवम्‍बर, 2017 से किया जा रहा है, जो 28 नवम्‍बर तक चलेगा। आईएफएफआई भारत का सबसे बड़ा और एशिया का सबसे पुराना फिल्‍म महोत्‍सव है जिसकी बदौलत इसे विश्‍व के सर्वाधिक प्रतिष्ठित महोत्‍सवों में शुमार किया जाता है।   

 

 

वीके/एसकेजे/- 5579

 

(Release ID 69362)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338